टेलीफोन हितेषी या जंजाल

12 जुलाई 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (88 बार पढ़ा जा चुका है)

मुंह अँधेरे ही भजन की जगह,फोन की घंटी घनघना उठी,

घंटी सुन फुर्ती आ गई,नही तो,उठाने वाले की शामत आ गई,

ड्राईंग रूम की शोभा बढाने वाला,कचड़े का सामान बन गया,

जरूरत अगर हैं इसकी,तो बदले में कार्डलेस रख गया,

उठते ही चार्जिंग पर लगाते,तत्पश्चात मात-पिता को पानी पिलाते,

दैनान्दनी से निवृत हो,पहले मैसेज पढ़ते,बाद में ईश्वरीय दर्शन करते,

जीवन के हर हिस्से में,ख़ुशी हो या गम, दस्तखनदारी हैं जरूरी,

भूकम्प आये,धरती फट जाए,पर मोबाईल हाथ में हैं जरूरी,

मिठास ना घोलने पर,होती इसकी ऐसी विडम्बना,

गुस्सा-गुस्सी,झडपा-झड़पी में,इसका होता फिकना,

होश आता,तो जाकर ऐसे उठा लेते,

जैसे ,बिछड़े लाल को सीने से लगा लेते,

शुक्र मनाते,ऊपर वाले का,चलो बच गया,

पर,अफ़सोस नही,इसकी वजह से,रिश्ता टूट गया,

कभी जुल्मोसितम्भ ढहाता,कभी खुशियों की झड़ी लगाता,

पल में तौला,पल में माशा,अजीब हैं इसकी दास्तां,

जीने का इकलौता सहारा हैं,यह नही तो ,बंजारा हैं जीवन,

दिन-रात कान में लगाये ,ऐसे घूमते,मानो 'जीवन जीने के सबक' सीखते,

इसे धन्यबाद कहते नही थकते,लेकिन जन्मदाता से कभी नही कहते,

अनगिनत हैं करतूते इसकी,हवा हवा में करता काम्तमाम,

बस , बहुत हुई,इसकी अपनी लम्बी दास्ताँ,

हम तो इसे इस उपाधि से नवाजते-

'पल भर में काम तमाम कराए,घर का भेदी रिश्तों को ढहाए,'

अगला लेख: वरखा बहार आई . ...........



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जुलाई 2018
हँसमुखी चेहरे पर ये कोलगेट की मुस्कान,बिखरी रहे ये हँसी,दमकता रहे हमेशा चेहरा,दामन तेरा खुशियों से भरा रहे,सपनों की दुनियां आबाद बनी रहे,हँसती हुई आँखें कभी नम न पड़े,कालजयी जमाना कभी आँख मिचौली न खेले,छलाबी दुनियां से ठग मत जाना,खुशियों की यादों के सहारे,दुखों को पार लगा लेना,कभी ऐसा भी पल आये जीवन
10 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
भ्
कैसे- कैसे भ्रम पाल रखे हैं. .... सोते से जाग उठी ख्याली पुलाव पकाती उलझनों में घिरी मृतप्राय जिन्दगी में दुख का कुहासा छटेगा जीने की राह मिलेगी बोझ की गठरी हल्की होगी जीवन का अल्पविराम मिटेगा हस्तरेखा की दरारें भरेगी विधि का विधान बदलेगा उम्मीद के सहारे नैय्या पार लग जायेगी बचनों मे विवशता का पुल
09 जुलाई 2018
29 जून 2018
दि
बारिश के इस सुहाने मौसम मे दिल मेरा तुझे याद करता है वो साथ भीगने के ज़माने याद करता है भीगी हुई रातो कि वो , बाते याद करता है बारिश के इस सुहाने मौसम मे तुम्हारी हॅ
29 जून 2018
15 जुलाई 2018
जीवन पानी का बुलबुला, पानी के मोल मत समझो, जीवन का हैं दूसरा नाम , प्रकृति का अमूल्य उपहार, जीवनदायिनी तरल, पानी की तरह मत बहाओ, पूज्यनीय हमारे हुए अनुभवी, घाट- घाट का पानी पीकर, जिन्हें हम, पिन्डा पानी देते, तलवे धो- धोकर हम पीते, ×---×----×-----×---×--× सामाजिक प्राणी है, जल में रहकर, मगर
15 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
या
समय समय की बात यातना का जरिया बदला आमने सामने से ना लेते देते अब व्हाटसअप, फेसबुक से मिलती। जमाना वो था असफल होने पर बेटे ने बाप की लताड से सीख अव्वल आकर बाप का फक्र से सीना चौडा करता, पर अब तो, लाश का बोझ कंधे पर डाल दुनियां से ही अलविदा हो चला। सासूमां का बहू को सताना सुधार का सबक होता था नखरे
17 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
मे
मैं तेरा हु सिर्फ तेरा एतबार कर मेरा चिराग़ बनके जला हु तो ये रौशनी रहेगी उमर भर एतबार कर मेरा मै तेरा हु सिर्फ तेरा मुझको अपने दिल मे बसा लो कब तलक
06 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
महोदय,नमस्कार! पुरुस्कृत रचना से प्राप्त राशि का विवरण कहा पर देखने को मिल सकता हैं? कृपया अवगत कराए.सधन्यवाद!
02 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
जि
जिन्दगी रही तो तुझसे मिलेंगे जरूर तेरे दिल मे रहेंगे , नैनों मे रहेंगे,तेरी यादो में रहेंगे, कही भी रहे,मगर रहेंगे जरूर बादल आ गए है जो, मोह्बत कि बारिश लेके तो तेरे
04 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x