टेलीफोन हितेषी या जंजाल

12 जुलाई 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (115 बार पढ़ा जा चुका है)

मुंह अँधेरे ही भजन की जगह,फोन की घंटी घनघना उठी,

घंटी सुन फुर्ती आ गई,नही तो,उठाने वाले की शामत आ गई,

ड्राईंग रूम की शोभा बढाने वाला,कचड़े का सामान बन गया,

जरूरत अगर हैं इसकी,तो बदले में कार्डलेस रख गया,

उठते ही चार्जिंग पर लगाते,तत्पश्चात मात-पिता को पानी पिलाते,

दैनान्दनी से निवृत हो,पहले मैसेज पढ़ते,बाद में ईश्वरीय दर्शन करते,

जीवन के हर हिस्से में,ख़ुशी हो या गम, दस्तखनदारी हैं जरूरी,

भूकम्प आये,धरती फट जाए,पर मोबाईल हाथ में हैं जरूरी,

मिठास ना घोलने पर,होती इसकी ऐसी विडम्बना,

गुस्सा-गुस्सी,झडपा-झड़पी में,इसका होता फिकना,

होश आता,तो जाकर ऐसे उठा लेते,

जैसे ,बिछड़े लाल को सीने से लगा लेते,

शुक्र मनाते,ऊपर वाले का,चलो बच गया,

पर,अफ़सोस नही,इसकी वजह से,रिश्ता टूट गया,

कभी जुल्मोसितम्भ ढहाता,कभी खुशियों की झड़ी लगाता,

पल में तौला,पल में माशा,अजीब हैं इसकी दास्तां,

जीने का इकलौता सहारा हैं,यह नही तो ,बंजारा हैं जीवन,

दिन-रात कान में लगाये ,ऐसे घूमते,मानो 'जीवन जीने के सबक' सीखते,

इसे धन्यबाद कहते नही थकते,लेकिन जन्मदाता से कभी नही कहते,

अनगिनत हैं करतूते इसकी,हवा हवा में करता काम्तमाम,

बस , बहुत हुई,इसकी अपनी लम्बी दास्ताँ,

हम तो इसे इस उपाधि से नवाजते-

'पल भर में काम तमाम कराए,घर का भेदी रिश्तों को ढहाए,'

अगला लेख: वरखा बहार आई . ...........



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जून 2018
दु
दर्द का दुसरा नाम महबूब है काटो सा चुभता गुलाब है मेरी पुरानी खताओं को माफ़ कर दो तो पेश ए खिदमत , एक नई खता जनाब है दर्द वो हि देते है, जो दिल मे रह
30 जून 2018
14 जुलाई 2018
मृ
भावनाओं का चक्रव्यूह तोड़ स्मृतियों के मकड़जाल से निकल कच्ची छोड़,पक्की डगर पकड़ लालसाओं के खुवाओं से घिराभ्रमित मन का रचित संसार लिए.....रेगिस्तान में कड़ी धूप की जलधारा की भांति सपनें पूरे करने......चल पड़ा एक ऐसी डगर.......अनजानी राहें,नए- लोग चकाचौंध की मायावी दुनियां ऊँची-ऊँची इमारतों जैसे ख्वाब हकीक
14 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
जि
जिन्दगी रही तो तुझसे मिलेंगे जरूर तेरे दिल मे रहेंगे , नैनों मे रहेंगे,तेरी यादो में रहेंगे, कही भी रहे,मगर रहेंगे जरूर बादल आ गए है जो, मोह्बत कि बारिश लेके तो तेरे
04 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
क्
एक बार पलक झपकने भर का समय ..... , पल - प्रति पल घटते क्षण मे, क्षणिक पल अद्वितीय अद्भुत बेशुमार होते, स्मृति बन जेहन मे उभर आआए वो बीते पल, बचपन का गलियारा, बेसिर पैर भागते जाते थे, ऐसा लगता था , जैसे समय हमारा गुलाम हो, उधेड़बुन की दु
04 जुलाई 2018
01 जुलाई 2018
सुरक्षा नियमों का करना हैं सम्मान.धुँआ छोडती कोलाहल करती,एक-दो,तीन,चारपहिया दौड़ती, लाल सिंग्नल देख यातायात थमता, जन उत्सुकतावश शीशे से झांकता. +++++बीच सडक चौतरफा रास्ता,तपती दुपहरी में छाता तानता,जल्दी निकलने को हॉर्न बजाता,वाहनों के बीच फोन पर बतियाता.
01 जुलाई 2018
29 जून 2018
वरखा बहार आई. .................. घुमड़-घुमड़ बदरा छाये, चम-चम चमकी बिजुरियां,छाई घनघोर काली घटाएं, घरड-घरड मेघा बरसे, लगी सावन की झड़ी,करती स्वागत सरसराती हवाएं........ लो,सुनो भई,बरखा बहार आई...... तपती धरती हुई लबालव, माटी की सौंधी खुश्बू,प्रफुल्लित बसुन्धरा से संदेश कहती, संगीत छे
29 जून 2018
30 जून 2018
रि
बदलते समीकरण - रिश्तों के...आज ख़ुशी का दिन था,नाश्ते में ममता ने अपने बेटे दीपक के मनपसन्द आलू बड़े वाउल में से निकालकर दीपक की प्लेट में डालने को हुई तो बीच में ही रोककर दीपक कहने लगा-माँ,आज इच्छा नही हैं ये खाने की.और अपनी पत्नी के लाये सेंडविच प्लेट में रख खाने लगा. इस तरह मना करना ममता के मन को
30 जून 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x