ऑपरेशन गुफा : भारत के बिना आसान नहीं था बच्चों को निकालना, थाईलैंड के पीएम ने कहा शुक्रिया

12 जुलाई 2018   |  प्राची सिंह   (197 बार पढ़ा जा चुका है)

ऑपरेशन गुफा : भारत के बिना आसान नहीं था बच्चों को निकालना, थाईलैंड के पीएम ने कहा शुक्रिया



दुनिया की सबसे दुर्गम गुफा में फंसे जूनियर फुटबाल टीम के बच्चे और उनके कोच सहित 13 लोगों को निकालना इतना आसान नहीं था। लेकिन, भारत सरकार के अहम योगदान के चलते यह ऑपरेशन पूरा हो पाया।
इसलिए थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने भारत का खास तौर पर शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि हम भारतीयों के प्रति आभारी हैं। दरअसल, थामलुआम गुफा में फंसे बच्चों और उनके 25 वर्षीय कोच इकापोल चानथ्वांग को निकालने के लिए थाईलैंड सरकार ने भारत सरकार से भी समर्थन मांगा था। इसके बाद भारत से हैवी केबीएस फ्लडपंप भेजा गया, जिससे गुफा में पानी का स्तर कम किया गया।



रविवार से ही इसका असर दिखाई दिया और पहली खेप में चार बच्चे गुफा से बाहर निकाल लिए गए। गोताखोर जूनियर फुटबाल के खिलाड़ियों सहित कोच को गुफा से बाहर निकालने में सफल हुए। भारत सरकार के आदेश पर केबीएस का हैवी फ्लडपंप महाराष्ट्र के सांगली जिला स्थित किर्लोस्कर समूह की कंपनी से भेजा गया था। किर्लोस्कर कंपनी के डिजाइनर हेड प्रसाद कुलकर्णी बीते शुक्रवार की रात को हैवी फ्लडपंप लेकर थाईलैंड रवाना हुए थे।

प्रसाद कुलकर्णी के भाई किशोर कुलकर्णी ने ‘अमर उजाला’ से बातचीत में बताया कि गुफा में भरे हुए पानी को निकालने के लिए हैवी पंप की जरूरत थी। भारत सरकार की तरफ से यह आदेश दिया गया था कि बड़ा से बड़ा पंप लेकर पंप तकनीकी विशेषज्ञ को थाईलैंड भेजा जाए।

उसके बाद किर्लोस्कर प्रबंधन ने प्रसाद कुलकर्णी को हैवी फ्लडपंप लेकर शुक्रवार को विशेष विमान से थाईलैंड भेजा। इस हैवी फ्लडपंप के जरिए गुफा से पानी निकालने का काम शुरू किया गया। जिससे रविवार से बच्चों को निकालने में गोताखोरों और बचाव दल को मदद मिली और सफल ऑपरेशन शुरू हो सका।



ऑपरेशन गुफा : भारत के बिना आसान नहीं था बच्चों को निकालना, थाईलैंड के पीएम ने कहा शुक्रिया

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/07/11/thailand-3/

अगला लेख: भारत-चीन युद्ध की कुछ तस्वीरें, जो न सिर्फ़ बोलती हैं बल्कि चीख-चीखकर सवाल खड़े करती हैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2018
कई लोग अक्सर विदेश यात्रा के लिए प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करते हैं। यहां तक ​​कि विपक्षी प्रधान मंत्री मोदी की यात्रा के लिए भाजपा को लक्ष्य बनाते रहते हैं। दरअसल, इन यात्राओं के कारण प्रधानमंत्री मोदी पर शासन को प्रभावित करने के लिए हमेशा आलोचना की जाती रही है। लंबे समय से हम ये सोच रहे थे कि म
28 जून 2018
29 जून 2018
“वहां माइनस डिग्री टेम्प्रेचर में फौजी खड़े हैं और तुम चाय में एक्स्ट्रा शुगर मांग रहे हो?” हमारे आस पास के ज्ञानी और सुधीजन फौजियों को थैंक्यू करने के लिए यही शब्द इस्तेमाल करते हैं. अपने दावे को सही साबित करने का अगर हल्का सा भी क्लू हाथ लगता है, तो उसे जाने नहीं देते.
29 जून 2018
03 जुलाई 2018
राजीव गांधी को पता था कि 1989 में होने वाले चुनावों में उनकी सरकार वापस नहीं आने वाली. लेकिन एक आस तो हमेशा ही बनी रहती है. इसी ‘आस’ के चलते उन्होंने या उनके वित्त मंत्रालय ने कोई कदम नहीं उठाए.ये कहानी है आस की. आस जो कांग्रेस को थी कि ‘लाइसेंस परमिट’ राज देश का विकास कर
03 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
कतर, मकाओ और लक्सज़मबर्ग सबसे अमीर देश हैं किस देश को सबसे अमीर देश कहा जा सकता है? आप कहेंगे कि सीधी सी बात है, जिस देश में सबसे ज़्यादा पैसा है वो देश सबसे अमीर कहलाएगा. लेकिन इस सवाल का जवाब इतना सीधा नहीं है. सबसे अमीर देशों की सूची बनाने के लिए कई दूसरे रास्ते अपनाए
04 जुलाई 2018
04 जुलाई 2018
कतर, मकाओ और लक्सज़मबर्ग सबसे अमीर देश हैं किस देश को सबसे अमीर देश कहा जा सकता है? आप कहेंगे कि सीधी सी बात है, जिस देश में सबसे ज़्यादा पैसा है वो देश सबसे अमीर कहलाएगा. लेकिन इस सवाल का जवाब इतना सीधा नहीं है. सबसे अमीर देशों की सूची बनाने के लिए कई दूसरे रास्ते अपनाए
04 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
भारत में गाड़ियां सड़क के बायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग दायीं ओर होती है, जबकि अमेरिका सहित अधिकांश पश्चिमी देशों में गाडियां सड़क के दायीं ओर चलती है और मोटरकार की स्टेयरिंग बायीं ओर होती है. लेकिन क्या आपको इसके पीछे का कारण मालूम है? यदि आप इस प्रश्न के उत्तर स
02 जुलाई 2018
10 जुलाई 2018
लंदन में रहने वाली गर्लफ्रेंड के भारत आगमन की खबर सुनने के बाद समीर की खुशी का ठिकाना नहीं था. करीब एक साल के इंतजार के बाद उसकी गर्लफ्रेंड पहली बार उससे मिलने के लिए इंडिया आने वाली थी. इतना ही नहीं, अपनी मुलाकात को यादगार बनाने के लिए उसकी गर्लफ्रेंड समीर के लिए लंदन से
10 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
कभी-कभी जो होता है, वो दिखता नहीं और जो दिखता है, वो होता नहीं.दिखता-होताहोता-दिखतासर घूम जाए, इससे पहले बता देते हैं कि ये खुजली क्यों है. दरअसल, चीन में महिलाएं एक ऐसी मेकअप टेक्निक का इस्तेमाल कर रही हैं, जिसे इस्तेमाल करने के बाद उन्हें उनके घरवाले भी नहीं पहचानते.यकीन नहीं आता तो एक नज़र Sculpt
05 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
1962... कोई भी भारतीय चाहकर भी ये साल और इससे जुड़ी घटना नहीं भूल सकता.1962 यानी कि युद्ध. भारत-चीन युद्ध, जिसे Sino-Indian War भी कहा जाता है. वो युद्ध जो टल सकता था, अगर रक्षा मंत्री वी.के.मेनन लेफ्टिनेंट जनरल थोराट की युद्ध होने की आशंका वाली बात को नज़रअंदाज़ न करते.
13 जुलाई 2018
28 जून 2018
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में माता श्री ज्वालाजी का मंदिर स्थित है। यहां ज्योति रूप में मां ज्वाला भक्तों को दर्शन देती हैं। मान्यता है कि ज्वालाजी में माता सती की जीभ गिरी थी, इससे यहां का नाम ज्वालाजी मंदिर पड़ा। मंदिर में होने वाले चमत्कारों को सुन अकबर सेना सहित य
28 जून 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x