मेरे बाबा तो भोलेनाथ

13 जुलाई 2018   |  तारकेश कुमार ओझा   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरे बाबा तो भोलेनाथ

देश में सनसनी फैला रहे बाबाओं के कारनानों पर पढ़िए खांटी खड़गपुरिया

तारकेश कुमार ओझा की नई कविता...

बाबा का संबोधन मेरे लिए अब भी

है उतना ही पवित्र और आकर्षक

जितना था पहले

अपने बेटे और भोलेनाथ को

मैं अब भी बाबा पुकारता हूं

अंतरात्मा की गहराईयों से

क्योंकि दुनियावी बाबाओं के भयंकर प्रदूषण

से दूषित नहीं हुई दुनिया मेरे आस्था और विश्वास की

अद्भुत आत्मीय लगता है मुझे अब भी

बाबा का संबोधन

बचपन में केवल दो बाबा को जानता था मैं

एक बाबा यानि पिता के पिता

दूसरे बाबा यानी भोलेनाथ

स्वयं पिता बनने के बाद

पता नहीं क्यो

बेटे को भी बाबा पुकारना मुझे अच्छा लगने लगा

हालांकि उम्र बढ़ने के साथ

बाबाओं की दुनिया दिनोंदिन नजर आने लगी

घिनौनी, जटिल और रहस्यमय

लेकिन चाहे जितने बाबा पकड़े जाएं

घिनौने और सनसनीखेज अपराध में

बाबा का संबोधन मेरे लिए सदैव

बना रहेगा

उतना ही पवित्र और आकर्षक

हमेशा हमेशा ...

जितना था पहले

क्योंकि मेरे बाबा तो भोलेनाथ ...

अगला लेख: दूसरों की कमाई , हमें क्यों बताते हो भाई ....!!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x