योगी नाश्ता : ऊर्जा और उत्साह के साथ अपना दिन शुरू करने के लिए योगी टिप्स

14 जुलाई 2018   |  Pratibha Bissht   (56 बार पढ़ा जा चुका है)








नाश्ता - दिन का पहला भोजन होता है ,जो वास्तव में योगी के बाकी दिन को फ्रेम करता है। योगियों के लिए दिन शुरू करने के आदर्श तरीके के बारे में कई अटकलें और चर्चाएं हुई हैं। क्या इसे हल्का रखना है या भारी ? क्या तरलीकृत भोजन का उपभोग करना चाहिए या ठोस पदार्थों को ज्यादा शामिल करना चाहिए?

योगी के लिए, प्रत्येक और हर तत्व स्वस्थ दिमाग और शरीर को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, परेशान होना कोई विकल्प नहीं है। आयुर्वेद के विज्ञान के अनुसार, हम सभी के शरीर में पाचन शक्ति का स्रोत होता है, जिसे 'अग्नि' कहा जाता है।

इस अग्नि (या आग) को पाचन तंत्र के उचित कामकाज के लिए रात के हल्के स्तूप से जागृत किया जाता है और जिससे पूरे दिन ऊर्जावान रह सके ।

हालांकि, 'अग्नि' जागना एक क्रमिक प्रक्रिया है और शीघ्रता में नहीं हो सकती| यह एक भट्टी को जलाने जैसा है, जिसमें आप धीरे-धीरे दूसरी रात के अंगारो को हवा देते है और भट्टी जल जाती हैं ( इस मामले में,शरीर)| अगर हम इसमें बहुत अधिक ईंधन डाले तो , यह केवल नीचे गिर जायेगा और अंत में अपने वजन की वजह से बुझ भी जायेगा |

इसलिए, जब यह अग्नि तत्व सबसे मजबूत हो तब भारी भोजन शरीर के लिए अति आवश्यक होता है | मानव शरीर में, अग्नि तत्व सुबह के दौरान धीमा होता है क्योंकि आप तभी जागे होते हो और शरीर को इसकी पूर्ण गति तक पहुंचने के लिए समय की आवश्यकता होती है।

इसलिए, हल्का-मध्यम नाश्ता करना सबसे अच्छा होता है। अग्नि तत्व सबसे मजबूत 12-2 पि. एम पे होता है क्योकि इस समय सूरज का ताप सबसे अधिक होता है| इसलिए योगी दिन में भारी भोजन की और जब आप सोने की तैयारी क्र रहे हो तो उस टीम हलके भोजन की सलाह देते है |

अपना दिन योगी की तरह शुरू करे- योगी का नाश्ता

शुद्ध और हाइड्रेट! अपने दिन की शुरुआत हल्के गर्म पानी के गिलास से करे इससे आपका शरीर हाइड्रेट रहता है | इसमें आप कुछ बुँदे नीबू और शहद की भी मिला सकते है जिससे आपका मेटाबोलिक प्रक्रिय शुरू होगी और शरीर से विषाक्त पदार्थ निकल जायेंगे | इसके अतिरिक्त,कुछ मिनट प्राणायाम थेरेपी भी करे |

आयुर्वेद का विज्ञान दृढ़ता से इस तथ्य पर जोर देता है कि प्रत्येक इंसान का शरीर अलग होता है और अपने शरीर की आवश्यकताओं को अत्यधिक व्यक्तिगत दृष्टिकोण के साथ ही पूरा करना चाहिए। शरीर तीन तत्वों से बना है जिसे हुमोर्स और दोषः भी कहते हे |इन दोषों को आमतौर पर वात , पित्त और कफ के रूप में जाना जाता है।

नाश्ता समेत योगी के आहार की योजना बनाई जानी चाहिए और स्वस्थ शारीरिक कार्यों को सुनिश्चित करने के लिए उनके शरीर के अनुसार निर्णय लिया जाता है |

शरीर में बढ़ी हुई दोषो को नियंत्रित करने की जरूरत है जबकि अन्य दोषों को एक निश्चित डिग्री की आवश्यकता होती है ताकि शरीर में संतुलन बना रहे।

वाट - प्रभुत्व शरीर के लिए उपयुक्त नाश्ता

1. वात दोष ठंडा, शुष्क, खुरदुरा होता है| इसलिए, उन खाद्य पदार्थों का उपभोग करें जो इसके प्रतिकूल हो जैसे भारी,मुलायम और स्वाभाविक रूप से तैलीय भोजन का उपभोग करे |

2. उन खाद्य पदार्थों का उपभोग करें जो ताजा बना हो और मुलायम हो |

3. ठंडा की बजाय गर्म खाना खाएं |

4. तले हुए और भुने हुए के बजाय लसीला भोजन करे |

5. तीखे ,कसैले और कड़वे के बजाये मीठे, खट्टे और नमकीन भोजन का उपभोग करे |

6. व्रत न रखे |

7. नाश्ते में हॉट सेरेल्स गर्म दूध के साथ , नट्स, घी, अलसी के बीज , मेपल सिरप, शहद आदि में से कुछ ले सकते है | दालचीनी,काली मिर्च,अदरक,जायफल,लौंग

आदि जैसे गर्म जड़ी बूटियों भी आप इस में छिड़क सकते हे| आप नट और बेर्री शेक भी ले सकते है जिसमे अपनी पसंद की गर्म जड़ी बूटियाँ भी दाल सकते है |

पित्त - प्रभुत्व शरीर के लिए उपयुक्त नाश्ता

1. पित गर्म, तेज़, द्रव और खट्टा होता है इसलिए पित प्रभुत्व वाले योगियों को वो भोजन करना चाहिए जो शरीर को ठंडक पहुंचाए |

2. कच्चे फल और सब्जियों जैसे ठंडा खाद्य पदार्थों का उपभोग करें | शराब (अल्कोहल) और कैफीन का उपभोग न करे क्योंकि ये शरीर की गर्मी बढ़ते हैं।

3. हलके के बजाय भारी और पौष्टिक भोजन करे |

4. वसा द्रव के बजाय शुष्क और घने खाद्य पदार्थों का उपभोग करे |

5. नमकीन, तेज़ और खट्टे भोजन का विकल्प चुने |

6. नाश्ते के लिए , फ्रूट सलाद खजूर के साथ, बादाम, अंजीर, नारियल, और शहद जैसी चीज़ो का चयन करे | आप हलके गर्म ओटमील घी या दूध के साथ भी ले सकते है |

कफ- प्रभुत्व शरीर के लिए उपयुक्त नाश्ता

1. कफ-वर्चस्व वाले योगी उन खाद्य पदार्थों को चुन सकते हैं जो पचाने में आसान और गर्म होते हैं।

2. हल्के खाद्य पदार्थों को ही महत्व दे |

3. ठन्डे के बजाये गर्म भोजन का चुनाव करे

4. तैलीय और नरम के बजाये ड्राई फ़ूड का उपयोग करे |

5. चिकने भोजन के बजाये कच्चे खाद्य पदार्थ उपयुक्त होता है |

6. मीठे, नमकीन और खट्टे के बजाये तेज़, कड़वे खाद्य पदार्थों का ही सेवन करे |

7. कफ-वर्चस्व व्यक्ति के लिए पके हुए फल, ताज़ी हरी सब्जी, मौसमी फ्रूट शेक, राई टोस्ट, जौ सेरेल्स आदि ही नाश्ते के लिए उपयुक्त होते है |

बी -दोष या त्रि-दोष वाले लोगों को सीजन के अनुसार खाद्य विकल्पों का चयन करने की सलाह दी जाती है।

हमेशा हार्दिक मुस्कान के साथ खाये और अनुग्रह के साथ प्रत्येक निवाले का स्वागत करे |

अगला लेख: स्कूलों से शारीरिक दंड को खत्म करने के लिए महाराष्ट्र सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2018
जो
जो रूट के शतक (१०० नाबाद) और उनके तथा इयोन मॉर्गन (८८ नाबाद) के बीच हुई शतकीय भागीदारी की मदद से इंग्लैंड ने मंगलवार को भारत को तीसरे और निर्णायक वनडे में ८ विकेट से रौंदा। भारत ने विराट कोहली के अर्द्धशतक (
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
किली जेनर और ट्रेविस स्कॉट इस महीने के जीक्यू पत्रिका के कवर पर चित्रित होंगे। ट्रैविस अपने ड्रेडलॉक्स में काले धारीदार सूट के साथ दिख रहे है, जबकि किली को काले पोशाक में देखा जाता है। पत्रिका ने दृश्य क
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
इस गर्मी की डूबने वाली रोकथाम और जल सुरक्षा अभियान के संयोजन के साथ यह हमारी जल सुरक्षा श्रृंखला की तीसरी किस्त है। यह अभियान हमारे सामुदायिक जोखिम न्यूनीकरण कार्यक्रम का हिस्सा है। लाइफ जैकेट (पर्सनल फ्लोटेश
18 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x