ज़िन्दगी तुझे देखा तो

15 जुलाई 2018   |  vikas khandelwal   (73 बार पढ़ा जा चुका है)

हाथ से रेत फिसलती रही



वक़्त के साथ दुनिया बदलती रही



जिन्दगी तुझे देखा तो



तबियत बिमार कि बहलती रही



हाथ से रेत फिसलती रही



मौसम को भी लग जाती है



जाने किसकी नजर



धुप जो निकली,



सावन के मौसम में तो



नज़रे आसमान में बादल तलाशती रही



हाथ से रेत फिसलती रही



उनके चाँद से चेहरे पे , नुर कौन बरसा गया



खुदा खुद अपनी सुरत , उनके चेहरे पे बना गया



दुआ जिसको पाने कि ,



दिल कि हर हसरत करती रही


वो आए इस तरह मेरी जिन्दगी मे



खुशबु उनकी मोह्बत कि



मुझको , मेरे दिल को और,



मेरे घर को महकाती रही



ज़िन्दगी रेत कि तरह हाथो से फिसलती रही

अगला लेख: वो तो आसमा का चाँद था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2018
मि
मेरे आँसू , मेरा दर्द , मेरा गम कोई लेने वाला हो, तो बताना मैं जिन्दगी को जीना चाहता हु एक मासूम बच्चे की तरह कोई मुझसे प्यार करने वाला हो तो बताना मेरी आरजु बस इतनी है कोई
05 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
मे
मैं तेरा हु सिर्फ तेरा एतबार कर मेरा चिराग़ बनके जला हु तो ये रौशनी रहेगी उमर भर एतबार कर मेरा मै तेरा हु सिर्फ तेरा मुझको अपने दिल मे बसा लो कब तलक
06 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये,सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर,एकटक टकटकी लगाए,पश्चाताप के ऑंसू भरे,लरजती जुवान कह रही हो कि,तुम लौट कर क्यों नहीं आई,शायद खफा मुझसे,बस, इतनी सी हुई,हीरे को कांच समझता रहा,समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता,हठधर्मिता करता रहा,जानकर भी, नकारता र
23 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
ते
वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है तेरा घर महल अमीर है, मेरा घर झोपड़ी गरीब है वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है कल मिल गए थे,कुछ
05 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
अपने अन्दर जलते हुए अपने अरमान देखे भड़के हुए शोलो की आग से हाथ सेकते हुए इन्सान देखे क्या सोचा था और क्या देखा हमने अपने लोगो को बदलते देखा काफी दिन हुए आईना देखे हुए
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
तेरी याद ने दिवाना बना दिया शमा बनके जो जली हो तुम हमको उमर भर जलने वाला, परवाना बना दिया तेरी याद ने दिवाना बना दिया मुझको तस्वीरें तुम्हारी ,कुछ जो
23 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x