कुछ तो लोग कहेंगे

17 जुलाई 2018   |  pradeep   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

जब किसी को अपने में कोई खूबी नज़र नहीं आती तब वो दुसरो में बुराई खोजता है. ऐसे लोगो की जिंदगी दुसरो में बुराई ढूंढ़ने और बुराई करने में ही गुज़र जाती है, और एक रोज़ जब वो दुनिया छोड़ देते है तो लोग भी उसको याद करना छोड़ देते है. रहीम ने कहा है " बुरा जो खोज़न मैं गया, बुरा ना मिलया कोए, जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोए. " अब उन लोगो के बारे में क्या कहा जाए जो हर बात में दूसरे की बुराई देखते है, शायद उन्होंने अभी तक अपना दिल नहीं टटोला. हर बुराई करने वाला अपने को अज़ीम मानता है, पर इतना नहीं जानता कि लोगो की राय क्या है खुद उसके बारे में. दूसरे में गलती ढूंढना आसान है पर खुद गलती करना मुश्किल, क्योकि गलती करने के लिए कुछ काम करना पड़ेगा, इसलिए जब खुद कुछ ना करना हो या कुछ ना किया हो तो अच्छा है कि दूसरे में गलतियां, कमियां ढूंढो. हर बात पे कहते हो के तू क्या है, तुम्ही कहो कि ये अंदाज़े गुफ़्तगू क्या है. ( भाग एक )

अगला लेख: अफ़साना तेरा मेरा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x