“गीतिका”हर मौसम के सुबह शाम से इक मुलाक़ात रही है

17 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (66 बार पढ़ा जा चुका है)

समांत- अही पदांत- है मात्रा भार-२९ १६ १३ पर यति


“गीतिका”


हर मौसम के सुबह शाम से इक मुलाक़ात रही है

सूरज अपनी चाल चले तो दिन और रात सही है

भोर कभी जल्दी आ जाती तब शाम शहर सजाती

रात कभी दिल दुखा बहकती वक्त की बात यही है॥


हरियाली हर ऋतु को भाती जब पथ पुष्प मुसुकाते

गुंजन करते भँवरे पल-पल हवा मदमात बही है॥


बूंदे बरसाती मतवाली आ राहों को घेरती

नहला जाती मन भावों को पथिक पुलकात मही है॥


रिमझिम-रिमझिम सावन सैयां धान-पान परिधान में

टप-टप गेसू टपक रहे जल लगता प्रपात यही है॥


उफन-उफन कर नदियां बहती माझी नौका पार कर

सागर से मिलने को आतुर बिखर औकात ढ़ही है॥


गौतम सम्हल इन लहरों से बिच धारा में जो पले

फिर से दुबारा कौन मिलता कारवां नात यही है॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जुलाई 2018
“कुंडलिया”मम्मा ललक दुलार में नहीं कोई विवाद। तेरी छवि अनुसार मैं पा लूँ सुंदर चाँद.. पा लूँ सुंदर चाँद निडर चढ़ जाऊँ सीढ़ी। है तेरा संस्कार उगाऊँ अगली पीढ़ी॥ कह गौतम कविराय भरोषा तेरा अम्मा। रखती मन विश्वास हमारी प्यारी मम्मा॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
12 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
धरती के अंदर होने वाली हलचल और इसके प्रभावों पर देश के चार बड़े संस्थानों ने हाल ही में अध्ययन किया है. इसमें यह सामने आया है कि देश में आने वाले समय में आठ से ज्यादा तीव्रता वाले भूकंप आ सकते हैं, जो बड़ी तबाही मचा सकते हैं.यह अध्ययन देहरादून स्थित वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ ह
17 जुलाई 2018
16 जुलाई 2018
बह्र- २१२२ २१२२ २१२२ २ काफ़िया- अर रदीफ़- दिया मैंने“गज़ल”क्या लिखा क्योंकर लिखा क्या भर दिया मैंनेकुछ समझ आया नहीं क्या डर दिया मैंनेआज भी लेकर कलम कुछ सोचता हूँ मैंवो खड़ी जिस द्वार पर क्या घर दिया मैंने।।हो सके तो माफ़ करना इन गुनाहों कोजब हवा में तीर थी क्यों शर दिया मैंन
16 जुलाई 2018
02 जुलाई 2018
मापनी- २२१२ १२२ २१२२ १२२"दिग्पाल छंद"जब गीत मीत गाए मन काग बोल भाएविरहन बनी हूँ सखियाँ जीय मोर डोल जाएसाजन कहाँ छुपे हो ले राग रंग अबिराऋतुराज बौर महके मधुमास घोल जाए।।आओ न सजन मेरे कोयल कसक रही है पीत सरसो फुलाए फलियाँ लटक रहीं हैदादुर दरश दिखाए मनमोहना कहाँ होपपिहा तरस
02 जुलाई 2018
07 जुलाई 2018
टे
सुर्ख अंगारे से चटक सिंदूरी रंग का होते हुए भी मेरे मन में एक टीस हैं.पर्ण विहीन ढूढ़ वृक्षों पर मखमली फूल खिले स्वर्णिम आभा से, मैं इठलाया,पर न मुझ पर भौरे मंडराये और न तितली.आकर्षक होने पर भी न गुलाब से खिलकर उपवन को शोभायमान किया.मुझे न तो गुलदस्ते में सजाया गया और न ही माला में गूँथकर द
07 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
"गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबासु-धर्म की धूनी जगा रहे बाबाआसन जमीनी जगह शांतिदायी नदी पट किनारे नहा रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबामाया सह काया तपा रहे बाबा सुमन साधना में चढ़ा रहे बाबा सुंदर तट लाली पीत वसन धारीराग मधुर संध्या
19 जुलाई 2018
16 जुलाई 2018
विधान - २५ मात्रा १३ १२ पर यति यति से पूर्व वाचिक १२/लगा अंत में वाचिक २२/गागा क्रमागत दो-दो चरण तुकान्त कुल चार चरण पर मुक्तक में तीसरा चरण का तुक विषम “छंद मुक्तामणि मुक्तक”अतिशय चतुर सुजान का छद्मी मन हर्षायामीठी बोली चटपटी सबका दिल उलझाया पौरुष अपने आप में नरमी गरमी स
16 जुलाई 2018
11 जुलाई 2018
“पिरामिड”वो वहाँ तत्पर बे-खबर प्रतीक्षारत मन से आहतप्यार की चाहत आप यहीं बैठे हैं॥-१ है वहाँ उद्यत आतुरता सहृदयितानैन चंचलता विकल व्याकुलता-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
11 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
मापनी- २१२ २१२ १२२२ “मुक्तक” हर पन्ने लिख गए वसीयत जो। पढ़ उसे फिर बता हकीकत जो। देख स्याही कलम भरी है क्या- क्या लिखे रख गए जरूरत जो॥-१ गाँव अपना दुराव अपनों से। छाँव खोकर लगाव सपनों से। किस कदर छा रही बिरानी अब- तंग गलियाँ रसाव नपनों से
13 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
दि
सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दिल्ली सरकार व एलजी का विवाद क्या खत्म हो जाएगा ? डॉ शोभा भारद्वाज 1991 में संसद द्वारा पास किये गये 69 वे संविधान संशोधन बिल द्वारा दिल्ली को नेशनल कैपिटल टेरेटरी घोषित कर विशे
05 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x