आज तक केवल एक इंसान चढ़ पाया है कैलाश पर्वत, उसका अंजाम जानकर फिर किसी ने हिम्मत नहीं की

17 जुलाई 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (945 बार पढ़ा जा चुका है)

आज तक केवल एक इंसान चढ़ पाया है कैलाश पर्वत, उसका अंजाम जानकर फिर किसी ने हिम्मत नहीं की

आप कभी कैलाश मानसरोवर यात्रा पर गए हैं। या जाना चाहते हैं। तो आपके मन में एक सवाल जरूर उठेगा, आखिर कैलाश पर है कौन

तमाम ग्रन्थ, पुराण बताते हैं कि कैलाश पर महादेव का वास है। हजारों लोग कैलाश के दर्शन करने जाते हैं। कुछ लोग तो सीधा महादेव तक पहुंचने की आस लेकर कैलाश मानसरोवर तक जाते हैं लेकिन दूर से ही दर्शन करके लौटना पड़ता है। आज आपको बताते हैं आखिर क्यों कैलाश पर इंसान नहीं जा पाता, वहां आखिर है क्या

1-भगवान का स्वरूप:

भगवान का स्वरूप, उसका आकार वास्तव में कैसा है इस सवाल का जवाब वाकई किसी के पास नहीं है। ईश्वरीय शक्ति पर विश्वास करने वाले लोग, जिन्हें सामान्य भाषा में आस्तिक कहा जाता है, जिस रूप में उस शक्ति को देखना चाहते हैं, उसे वैसा ही स्वरूप दे देते हैं।

2. देवी-देवता :

हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवताओं का जिक्र किया गया है, जिनका निवास स्वर्ग में बताया गया है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि महादेव शिव, जिनके हाथ में सृष्टि के विनाश की बागडोर है, अपने परिवार के साथ कैलाश पर्वत पर निवास करते हैं।

3. भगवान शिव का परिवार :

आपको शायद इस बात पर यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है कि हिमालय की गोद में स्थित कैलाश पर्वत पर आज भी भगवान शिव अपने परिवार, यानि माता पार्वती, भगवान गणपति, भगवान कार्तिकेय के साथ रहते हैं।

4. मुश्किल है पहुंचना :

वैसे तो ये भी माना जाता है कि भगवान हमेशा हमारे बीच में रहते हैं, उन्हें पहचानना और उन तक पहुंचना केवल उसी व्यक्ति के लिए संभव है जिसके अंदर वाकई अपने ईश्वर को पाने की ललक हो। लेकिन कैलाश के जिस स्थान पर भगवान शिव का वास है वहां किसी के लिए भी पहुंच पाना बेहद कठिन या कह लीजिए असंभव सा ही है।

5. बौद्ध भिक्षु :

पौराणिक गाथाओं के अनुसार कैलाश के आसपास वातावारण में कुछ ऐसी रहस्यमयी शक्तियां मौजूद हैं जो किसी भी आम इंसान को भगवान शिव तक पहुंच बनाने नहीं देतीं। लेकिन ग्यारहवीं शताब्दी में एक बौद्ध भिक्षु ने कैलाश पर्वत पर बसे भगवान शिव के निवास तक पहुंचने की हिम्मत की थी।

6. योगी मिलारेपा :

इतिहास के अनुसार तिब्बती बौद्ध योगी मिलारेपा एक मात्र ऐसे व्यक्ति रहे जो कैलाश पर्वत पर मौजूद रहस्यमयी शक्तियों को हराकर उस स्थान तक पहुंच पाए थे लेेकिन वो कभी लौट नहीं पाए।

7. जन्नत या स्वर्ग :

विभिन्न धर्मों में ईश्वर के निवास स्थान का उल्लेख किया गया है, जो धरती के बीचो-बीच स्थित है। किसी धर्म में इस स्थान को जन्नत कहा जाता है, कहीं स्वर्ग तो कहीं हेवेन। विभिन्न पौराणिक इतिहास में भी उत्तरी ध्रुव को ही वो स्थान माना गया है जहां देवता निवास करते हैं।

8. वैज्ञानिक खोज :

पिछले कई वर्षों में वैज्ञानिक इस सवाल को खोजने में लगे हैं कि आखिर कैलाश पर्वत पर ऐसा क्या है जो कोई भी आम इंसान उस स्थान तक नहीं पहुंच पाता, जहां केवल एक बौद्ध भिक्षु ही पहुंचा था।

9. एक्सिस मुंड :

अभी तक वैज्ञानिकों ने जितने भी शोध संपन्न किए हैं, उनके अनुसार एक्सिस मुंड एक ऐसा बिंदु है, जहां आकर धरती और आकाश एक दूसरे से मिलते हैं। इसी बिंदु पर अलौकिक शक्तियों का प्रवाह बहुत तेज गति से बहता है। अगर आप इस थान पर पहुंच गए तो आप भी उन शक्तियों के संपर्क में आ सकते हैं।

10. धरती और आकाश :

जिस बिंदु पर आकार धरती और आकाश का मेल होता है, जहां ये अलौकिक शक्तियां प्रवाहित होती हैं, उस स्थान को कैलाश पर्वत कहा जाता है। कैलाश के उस स्थान तक अगर कोई पहुंच जाए, जिसके बारे में कहा जाता है वहां ये शक्तियां होती हैं, तो कोई भी साधारण मनुष्य उनका अनुभव कर सकता है।

11. तपस्या :

पिछले कई सालों से ऋषि-मुनि इस स्थान की बात करते हैं, साथ ही ये भी कहते हैं कि वहां पहुंच बनाना बिल्कुल भी संभव नहीं है। शिव की कृपा से ही वहां उन अद्भुत शक्तियों का वास है। आज भी बहुत से साधक और ऋषि-मुनी अपनी तपस्या के बल पर इस शक्तियों की सहायता से आध्यात्मिक गुरुओं से संपर्क साधते हैं।

12. शिवलिंग :

ऊंचाई के मामले में कैलाश पर्वत, विश्व विख्यात माउंट एवरेस्ट से ज्यादा विशाल तो नहीं है, लेकिन कैलाश की भव्यता उसके आकार में है। ध्यान से देखने पर यह पर्वत शिवलिंग के आकार का लगता है, जो पूरे साल बर्फ की चादर ओढ़े रहता है।

13. पवित्र नदियां :

कैलाश पर्वत का भूभाग भी पवित्र नदियों से घिरा हुआ है। सिंध, ब्रह्मपुत्र, सतलुज और कर्णाली, यह सभी पवित्र नदियां कैलाश पर्वत को छूकर गुजरती हैं। नदियों के अलावा कैलाश पर्वत के पास से गुजरने वाले मानसरोवर और राक्षस झील भी दुनियाभर में अपनी पहचान बनाए हुए हैं।

14. मानसरोवर :

कैलाश पर तप करने आए तपस्वी बताते हैं कि कैलाश मानसरोवर, उतना ही प्राचीन है जितनी कि हमारी सृष्टि। कैलाश पर्वत की तरह ही मानसरोवर में भी कुछ अलौकिक शक्तियां मौजूद रहती हैं।

15. ॐ की ध्वनि :

जब इस स्थान पर प्रकाश तरंगों और ध्वनि तरंगों का मेल होता है तो ऐसा लगता है मानों ॐ की ध्वनि सुनाई दी गई हो। जो कि अपने आप में ही शिव की मौजूदगी को प्रमाणित करता है।

16. मृदंग की आवाज :

प्राचीन समय से ही यह मान्यता है कि जब भी गर्मी के मौसम में कैलाश पर्वत की बर्फ पिघलने लगती है तो ऐसी आवाज आती है जैसे मानो मृदंग बज रहा हो।

17. रुद्रलोक के दर्शन :

मान्यता तो यह भी है कि जो भी व्यक्ति मात्र एक बार मानसरोवर में डुबकी लगा ले तो उसे रुद्रलोक यानि शिव के लोक के दर्शन हो जाते हैं।

Source: Live

आज तक केवल एक इंसान चढ़ पाया है कैलाश पर्वत, उसका अंजाम जानकर फिर किसी ने हिम्मत नहीं की

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/07/13/to-date-only-one-person-has-climbed-the-kailash-mountain-after-knowing-the-consequences-of-it-nobody-dared-anymore/

अगला लेख: आखिर क्यों अरबपति की MBBS टॉपर बेटी ने क्यों त्याग दिया मोह-माया? बन गई साध्वी श्री विशारदमाल !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2018
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मस्थली गोरखपुर में एक 55 साल ससुर ने अपने ही लड़के की 33 साल पत्नी से शादी कर पति पत्नी का अनोखा रिश्ता कायम किया है।दरअसल पुत्र द्वारा प्रताड़ित की जा रही पुत्रवधू को अनोखा तोहफा देकर एक नए रिश्ते में बांध लिया। आज यहां पर एक ससुर ने अपन
18 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
चेन्नई के अयानवरम इलाके में एक नाबालिग बच्ची के यौन शोषण की दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां 12 साल की मासूम बच्ची के साथ जो हुआ वह आपके रोंगटे खड़े कर देगा. 22 लोग पिछले 7 महीने से मासूम बच्ची के साथ रेप कर रहे थे. हैरानी की बात यह है कि रेप करने वाले हैवानों में अप
17 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
एक सर्वे के अनुसार 10 प्रतिशत तस्वीरें पिछले 12 महीनों में ख़ीची गई हैं. वजह साफ़ है, इतने सारे स्मार्ट फ़ोन, उसमें शानदार कैमरा, बेहतरीन फ़ोटो फ़िल्टर्स. हर किसी का फ़ोटो ख़ींचने का दिल करेगा. ख़ाली बैठा इंसान सेल्फ़ी ही लेता है. सौ सेल्फ़ी क्लिक करेगा, तो एक दो तो अच्छी
13 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
अगर आपने गौर किया हो तो हर ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर एक निशान देखा होगा। यह निशान 'x' का है, लेकिन क्या आप जानते है कि यह निशान क्यों होता है और इसका मतलब क्या है? नियमानुसार यह निशान हर ट्रेन की आखरी बोगी पर होना अनिवार्य है।लास्ट बोगी पर बना यह 'X' का निशान पीले रंग और स
20 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
हि
हिंदू कैलेंडर में तिथि सोमवार, 9 जुलाई, 2018 - कृष्णा पक्ष एकदशी तिथी या ग्यारहवें दिन हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के अंधेरे चरण और अंधेरे चरण और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग के दौरान। यह 9 जुलाई को 5:04 बजे तक चंद्रमा की पंख या अंधेरे चरण के दौरान ग्यारहवें दिन है। इसके बाद यह कृष्णा पक्ष दवासादी तिथ
09 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
संसद में राहुल गांधी ने लपककर पीएम मोदी को गले लगा लिया. इस दुर्घटना पर मिला जुला रिएक्शन देखने को मिला. किसी ने कहा कि संसद की गरिमा गिर गई. किसी ने कहा संसद की गरिमा में चार चांद लग गए. उस सीन से आहत कुछ लोगों में एक यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी हैं. उन्होंने नेटवर्क 18
24 जुलाई 2018
07 जुलाई 2018
शब्द 'माया' का उपयोग ऋग्वेद में जादुई पर सीमाओं को इंगित करने के लिए किया जाता है: 'इंद्र मायाभ्य pururupa iyate'; इंद्र, माया की मदद से, विभिन्न रूपों को मानता है। ' (ऋग्वेद, 6.47.18) उपनिषद में शब्द एक दार्शनिक महत्व प्राप्त करता है। श्वेताश्वर उपनिषद ने घोषणा की: 'जानें कि प्रकृति, प्रकृति, निश्च
07 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
हि
Tithi in Hindu Calendar on Friday, July 6, 2018 – Krishna Paksha Ashtami Tithi or the eighth day during the waning or dark phase of moon in Hindu calendar and Panchang in most regions. It is Krishna Paksha Ashtami Tithi or the eighth day during the waning or dark phase of moon till 7:55 PM on July 6
06 जुलाई 2018
08 जुलाई 2018
हिंदू धर्म में काली युग वर्तमान युग है। हम काली युग में रह रहे हैं। यह समय के हिंदू गणना में चौथा युग या युग है। उम्र की मुख्य विशेषताएं धर्म की बिगड़ती हैं और बुराई और लालच फैलती हैं। समय क्रिस्ट युग (जिसे सत्य युग भी कहा जाता है) का हिंदू गणना, ट्रेता युग द्पारा युग काली युग काली युग को तिस्या या
08 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
हिंदुओं के बीच व्यापक विश्वास है कि हनुमान को पीपल लीफ माला की पेशकश करने से जीवन में विभिन्न समस्याओं को हल करने में मदद मिलेगी। हनुमान को पीपल लीफ माला की पेशकश करने के लाभ यहां: मंगलवार को हनुमान को सर्वश्रेष्ठ पीपल लीफ माला की पेशकश कैसे करें। 9, 11 या 18 पीपल पत्तियों का उपयोग करके एक माला बनाओ
06 जुलाई 2018
08 जुलाई 2018
हि
शनिवार, 7 जुलाई, 2018 को हिंदू कैलेंडर में तीथी - कृष्णा पक्ष नवमी तीथी या हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के अंधेरे चरण और अंधेरे चरण के दौरान नौवें दिन और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग। यह 7 जुलाई को शाम 7:26 बजे तक चंद्रमा के पंख या अंधेरे चरण के दौरान कृष्णा पक्ष नवमी तीथी या नौवां दिन है। इसके बाद यह
08 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
जब किसी चीज की कोई कमी न हो तो इंसान क्या ढूंढता है? किसे ढूंढता है? क्या वो उसे मिलता है? जिसके पास धन-संपत्ति, रूपया-पैसा, लाड-प्यार, दौलत-सोहरत, सुकून-शांति, गाड़ी-घोड़ा, फ्लैट-बंगला और एक सेटल्ड करियर हो, फिर उसे किस चीज की तलाश रहती है?रिसर्च कीजिएगा, मगर फिलहाल अरबप
19 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
उत्तर प्रदेश के मथुरा के एक युवक ने गजब का अविष्कार किया है। यह युवक किसान है और केवल चौथी तक पढ़ा है।उदयवीर नाम के इस किसान ने ऐसी मशीन बनाई है जो हवा से बिजली बनाएगी। इस खोज के लिए जिले में किसान की तारीफ हो रही है। उदयवीर का कहना है कि उसे इस प्रोजेक्ट पर काम करने के ल
18 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x