मौन का लक्ष्य

17 जुलाई 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

मौन का लक्ष्य


कोई अस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |

कोई अर्थ न हो मौन का, यदि निश्चित न हो वहाँ कोई ध्येय |

मौन का लक्ष्य है प्रेम, मौन मौन का लक्ष्य है दया

मौन का लक्ष्य है आनन्द, और मौन मौन का है लक्ष्य संगीत भी |

मौन, ऐसा गीत जो कभी गाया नहीं गया,

फिर भी मुखरित हो गया |

मौन, ऐसा सन्देश जो कभी सुना नहीं गया

फिर भी ज्ञात हो गया |

मौन, एक भाषा, जिसकी कोई लिपि नहीं |

मौन, एक नृत्य, जिसकी कोई मुद्रा नहीं |

मौन, स्थिरता की ऐसी ऊर्जा, जिसका कोई रूप नहीं |

मौन, एक शब्दहीन शब्द

इसीलिये नहीं हो सकती अनुचित व्याख्या इसकी |

प्रश्न केवल इतना ही

क्यों रुदन करते हैं हम जन्म लेते समय ?

क्यों नहीं जन्म ले सकते हम मौन भाव से ?

ताकि हमारी सत्ता ही बन जाए हमारा मोक्ष

और भाव बन जाए अभाव ?

https://purnimakatyayan.wordpress.com/2018/07/17/मौन-का-लक्ष्य

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
तेरी याद ने दिवाना बना दिया शमा बनके जो जली हो तुम हमको उमर भर जलने वाला, परवाना बना दिया तेरी याद ने दिवाना बना दिया मुझको तस्वीरें तुम्हारी ,कुछ जो
23 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
ज्योतिष से सम्बन्धित अपने लेखों में हम अब तक बहुत से योगों पर चर्चा करचुके हैं | ग्रहों के विषय मेंसंक्षिप्त रूप से चर्चा | हमने पञ्चांग केपाँचों अंगों के विषय में जानने का प्रयास किया | संस्कारों पर – विशेषरूप से जन्म से पूर्व के संस्कार और जन्म के बाद नामकरण संस्कार पर
18 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
कुछ लोगों को संशय होता है कि ज्योतिष कोआयुर्वेद के समान वेद तो नहीं माना जाता ?ज्योतिष वेद है भी नहीं, वेदों का अंग है – वेदांग | ज्योतिष से सम्बन्धित ज्ञान वेदों में निहित है |ऋग्वेद में लगभग 20 मन्त्र ज्योतिष के विषय में उपलब्ध होते हैं,
24 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
ठहरे पानी में पत्थर उछाल दिया है । उसने यह बड़ा कमाल किया है ।वह तपाक से गले मिलता है आजकल । शायद कोई नया पाठ पढ़ रहा है आजकल । आँखों की भाषा भी कमाल है । एक गलती और सब बंटाधार है ।
23 जुलाई 2018
07 जुलाई 2018
जन्म से पुनर्जन्म – हम बात कर रहेहैं सीमन्तोन्नयन संस्कार की - आज की भाषा में जिसे “बेबी शावर” कहा जाता है | यह संस्कार भी गर्भ संस्कारों का एक महत्त्वपूर्ण अंग है | पारम्परिक रूप से ज्योतिषीय गणनाओं द्वारा शुभ मुहूर्त निश्चित करके उसमुहूर्त में यह संस्कार सम्पन्न किया जाता था | इस संस्कार
07 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
ते
वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है तेरा घर महल अमीर है, मेरा घर झोपड़ी गरीब है वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है कल मिल गए थे,कुछ
05 जुलाई 2018
21 जुलाई 2018
रविवार, 22 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक चन्द्र नक्षत्र : विशाखा 10:44 तक, तत्पश्चात अनुराधा तिथि : आषाढ़ शुक्ल दशमी 14:47 तक, तत्पश्चात आषाढ़
21 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
शनिवार, 21 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : स्वाति 09:06 तक, तत्पश्चात विशाखा तिथि : आषाढ़ शुक्ल नवमी 13:43 तक, तत्पश्चात आषाढ़ शुक्
20 जुलाई 2018
12 जुलाई 2018
टे
मुंह अँधेरे ही भजन की जगह,फोन की घंटी घनघना उठी,घंटी सुन फुर्ती आ गई,नही तो,उठाने वाले की शामत आ गई,ड्राईंग रूम की शोभा बढाने वाला,कचड़े का सामान बन गया,जरूरत अगर हैं इसकी,तो बदले में कार्डलेस रख गया,उठते ही चार्जिंग पर लगाते,तत्पश्चात मात-पिता को पानी पिलाते,दैनान्दनी से निवृत हो,पहले मैसेज पढ़ते,बा
12 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये,सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर,एकटक टकटकी लगाए,पश्चाताप के ऑंसू भरे,लरजती जुवान कह रही हो कि,तुम लौट कर क्यों नहीं आई,शायद खफा मुझसे,बस, इतनी सी हुई,हीरे को कांच समझता रहा,समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता,हठधर्मिता करता रहा,जानकर भी, नकारता र
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
मंगलवार, 24 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:37 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:17 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक 15:28 तक, तत्पश्चात धनु चन्द्र नक्षत्र : ज्येष्ठा 15:28 तक, तत्पश्चात मूल तिथि : आषाढ़ शुक्ल द्वाद
23 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x