नक्षत्र

18 जुलाई 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (160 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र

ज्योतिष से सम्बन्धित अपने लेखों में हम अब तक बहुत से योगों पर चर्चा कर चुके हैं | ग्रहों के विषय में संक्षिप्त रूप से चर्चा | हमने पञ्चांग के पाँचों अंगों के विषय में जानने का प्रयास किया | संस्कारों पर – विशेष रूप से जन्म से पूर्व के संस्कार और जन्म के बाद नामकरण संस्कार पर चर्चा की | आज से उन्हीं संस्कारों के मुहूर्त निर्णय के लिए आवश्यक तथा पञ्चांग के पाँचों अंगों में सबसे महत्त्वपूर्ण अंग “नक्षत्र” पर विस्तार से प्रकाश डालने का प्रयास आरम्भ करते हैं... “आरम्भ” इसलिए, क्योंकि विषय लम्बा है, जिसमें बहुत समय लग सकता है...

संस्कारों के विषय में बात करते हुए हमने गर्भाधान संस्कार से नामकरण संस्कार तक छह संस्कारों के विषय में बात की | इनमें से कुछ संस्कार गर्भ से पूर्व सम्पन्न किये जाते हैं, कुछ गर्भ की अवस्था में और कुछ शिशु के जन्म लेने के बाद | इनके बाद जीवन भर पुनर्जन्म की यात्रा आरम्भ करने तक अन्य दस संस्कारों का विधान वैदिक हिन्दू परपरा में है | इनमें गर्भाधान और जातकर्म को यदि छोड़ दें तो शेष संस्कारों में मुहूर्त का विशेष ध्यान रखा जाता है | यद्यपि आजकल तो बहुत से लोग जातकर्म के लिए ज्योतिषी Astrologer से मुहूर्त निश्चित कराने लगे हैं | हमारी कुछ मित्रों से ज्ञात हुआ कि उनकी सन्तान का जन्म ज्योतिषी द्वारा बताए गए समय पर सर्जरी के द्वारा कराया गया | उन्हें लगता है कि पहले एक बहुत अच्छी सी जन्मकुण्डली बनवा ली जाए और जब वो कुण्डली बन जाए तो उसके समय पर ही बच्चे को सर्जरी के द्वारा जन्म दे दिया जाए तो सन्तान निश्चित रूप से वैसी ही उत्पन्न होगी जैसी वे लोग चाहते हैं | उन लोगों ने जब बच्चे के जन्म से पूर्व उसके जन्म का समय निश्चित करके कुण्डली बनवाई थी तो उसके अनुसार बच्चा अत्यन्त भाग्यशाली, तीव्र बुद्धि तथा और भी बहुत से सद्गुणों से युक्त होना चाहिए था | किन्तु दुर्भाग्यवश ऐसा नहीं हो सका और बच्चे का स्वभाव तथा भाग्य उस जन्मपत्री से बिल्कुल विपरीत ही निकला |

ईश्वर ने कुछ कार्यों विशेष रूप से जन्म और मृत्यु के लिए जो समय निश्चित किया है उसमें यदि व्यवधान डाला जाएगा तो ऐसा ही होगा | बच्चे का जन्म स्वाभाविक रूप से किसी और समय होना चाहिए था – क्योंकि गर्भस्थ आत्मा ने अपनी माता का चयन करने के साथ ही संसार में प्रवेश के लिए कोई समय निश्चित किया हुआ था | किन्तु मनुष्य के हस्तक्षेप के कारण उसे किसी अन्य समय संसार में प्रविष्ट होना पड़ा | ऐसा करके उसका भाग्य तो नहीं बदला जा सकता न ? बहरहाल, ये एक विस्तृत चर्चा का विषय है | यहाँ हम बात कर रहे हैं संस्कारों में मुहूर्त के महत्त्व की | प्रत्येक संस्कार एक निश्चित और शुभ मुहूर्त में किया जाए तो निश्चित रूप से उसका परिणाम अनुकूल ही होगा | किन्तु अन्धविश्वास कहीं भी नहीं होना चाहिए | मुहूर्त निश्चित करने में नक्षत्रों की विशेष भूमिका होती है | अस्तु, अपने अगले लेख से हम वार्ता आरम्भ करेंगे नक्षत्रो के विषय में...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/07/18/constellation-nakshatras/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: आपकी प्राकृतिक स्थिति एक बहुत रचनात्मक, उत्पादक, जनरेटिव है। बाधाएं - बचपन में दर्द होता है, वयस्क असुविधाएं - जो कभी-कभी आपको अवरुद्ध नहीं कर रही हैं। इसका मतलब है कि आप अपने अत्यधिक रचनात्मक आत्म बनने के लिए स्वतंत्र हैं। गहराई से सांस लें और पंजीकरण करने के लिए बस एक मिनट दें कि य
13 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: 'आदत' 'खरगोशों' के साथ गायन करती है, और शायद ऐसा इसलिए है क्योंकि दोनों पागल की तरह खुद को पुन: पेश करते हैं। तो अगर आपके पास कोई भी भयानक आदत नहीं है (और हर कोई करता है), तो चक्र को रोकने के लिए असली प्रयास क्यों न करें? आज एक चल रही, आत्म-पराजित आदत या दो को मुक्त करने का एक अच्छा
13 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: आप अच्छे हैं। यह कहना नहीं है कि आप बहुत अच्छे हैं, या आप एक पुशओवर हैं, या आप saccharine मीठे हैं। नहीं, आप बस अच्छे हैं, और आप अपने साथी इंसानों के लिए अच्छे हैं और लोग इसकी सराहना करते हैं। वे आपके साथ काम करना पसंद करते हैं और वे आपके साथ खेलना पसंद करते हैं। वे आपसे बात करना पसं
13 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: दर्पण में आप क्या देख रहे हैं? ओह! तुम? तुम देख रहे हो क्या आप कहते हैं? यह स्पष्ट होना चाहिए, आप दर्पण में और क्या देख रहे होंगे? ठीक है, ठीक है। तो, आप क्या देखते हैं? क्या आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखते हैं जो हाल ही में उगाया गया है? अपने और दुनिया भर में दुनिया की बेहतर समझ किसके
13 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
बुधवार, 18 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:34 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या चन्द्र नक्षत्र : उत्तर फाल्गुनी 08:19 तक, तत्पश्चात हस्त तिथि : आषाढ़ शुक्ल षष्ठी 14:36 तक, तत्पश्चात आषा
18 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
शनिवार, 21 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : स्वाति 09:06 तक, तत्पश्चात विशाखा तिथि : आषाढ़ शुक्ल नवमी 13:43 तक, तत्पश्चात आषाढ़ शुक्
20 जुलाई 2018
21 जुलाई 2018
रविवार, 22 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक चन्द्र नक्षत्र : विशाखा 10:44 तक, तत्पश्चात अनुराधा तिथि : आषाढ़ शुक्ल दशमी 14:47 तक, तत्पश्चात आषाढ़
21 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: यदि आपके पास अतिरिक्त कप चीनी है, तो कप देने में क्या नुकसान होता है? खैर, उसमें कोई नुकसान नहीं है। आप से अधिक दुखी पड़ोसियों का नाटक हो सकता है कि वे केवल एक प्राकृतिक-प्राकृतिक फ्रक्टोज़ विकल्प का उपयोग करते हैं, और वे सभी इससे बाहर हैं। आप बेहतर जानते हैं। पड़ोसियों को दो कप चीनी
13 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
23 से 29 जुलाई तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिएसही ही हो – क्योंकि सूर्य एक राशि में एक माह तक रहता है और उस एक माह में लाखोंलोगों का जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल ग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधारितहोते हैं | इस फलकथन अथवा ज्योतिष
22 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
मंगलवार, 24 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:37 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:17 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक 15:28 तक, तत्पश्चात धनु चन्द्र नक्षत्र : ज्येष्ठा 15:28 तक, तत्पश्चात मूल तिथि : आषाढ़ शुक्ल द्वाद
23 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
13 जुलाई, 2018: आप बस अपने आस-पास के लोगों की मदद करके जीवित नहीं रहते हैं, आप इस पर बढ़ते हैं। ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे आप यह जानकर बेहतर पसंद करते हैं कि आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ किसी की मदद करने में सक्षम हैं, जिसे वह अपने करियर या उनकी प्यारी पाई है। आप क्या कह सकते हैं? तुम एक अच्छे इंसान हो औ
13 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x