"गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा

19 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (73 बार पढ़ा जा चुका है)

 "गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा

"गीत"


चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा

सु-धर्म की धूनी जगा रहे बाबा

आसन जमीनी जगह शांतिदायी

नदी पट किनारे नहा रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा


माया सह काया तपा रहे बाबा

सुमन साधना में चढ़ा रहे बाबा

सुंदर तट लाली पीत वसन धारी

राग मधुर संध्या सुना रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा


पपीहा को पानी पिला रहे बाबा

कोयल को गाना सुना रहे बाबा

परम राग निर्गुण गान शुभ प्रभाती

बारह महिना गुनगुना रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबा


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “चतुष्पदी”सुना था कल की नीरज नहीं रहे।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2018
“कुंडलिया”पढ़ते-पढ़ते सो गया भर आँखों में नींद। शिर पर कितना भार है लगता बालक बींद॥लगता बालक बींद उठाए पुस्तक भारी। झुकी भार से पीठ हँसाए मीठी गारी॥कह गौतम कविराय आँख के नंबर बढ़ते। अभी उम्र नादान गरज पर पोथी पढ़ते॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
05 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
मापनी- २१२ २१२ १२२२ “मुक्तक” हर पन्ने लिख गए वसीयत जो। पढ़ उसे फिर बता हकीकत जो। देख स्याही कलम भरी है क्या- क्या लिखे रख गए जरूरत जो॥-१ गाँव अपना दुराव अपनों से। छाँव खोकर लगाव सपनों से। किस कदर छा रही बिरानी अब- तंग गलियाँ रसाव नपनों से
13 जुलाई 2018
16 जुलाई 2018
विधान - २५ मात्रा १३ १२ पर यति यति से पूर्व वाचिक १२/लगा अंत में वाचिक २२/गागा क्रमागत दो-दो चरण तुकान्त कुल चार चरण पर मुक्तक में तीसरा चरण का तुक विषम “छंद मुक्तामणि मुक्तक”अतिशय चतुर सुजान का छद्मी मन हर्षायामीठी बोली चटपटी सबका दिल उलझाया पौरुष अपने आप में नरमी गरमी स
16 जुलाई 2018
12 जुलाई 2018
“कुंडलिया”मम्मा ललक दुलार में नहीं कोई विवाद। तेरी छवि अनुसार मैं पा लूँ सुंदर चाँद.. पा लूँ सुंदर चाँद निडर चढ़ जाऊँ सीढ़ी। है तेरा संस्कार उगाऊँ अगली पीढ़ी॥ कह गौतम कविराय भरोषा तेरा अम्मा। रखती मन विश्वास हमारी प्यारी मम्मा॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
12 जुलाई 2018
16 जुलाई 2018
बह्र- २१२२ २१२२ २१२२ २ काफ़िया- अर रदीफ़- दिया मैंने“गज़ल”क्या लिखा क्योंकर लिखा क्या भर दिया मैंनेकुछ समझ आया नहीं क्या डर दिया मैंनेआज भी लेकर कलम कुछ सोचता हूँ मैंवो खड़ी जिस द्वार पर क्या घर दिया मैंने।।हो सके तो माफ़ करना इन गुनाहों कोजब हवा में तीर थी क्यों शर दिया मैंन
16 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
“हाइकु”कुछ तो बोलो अपनी मन बातकैसी है रात॥सुबह देखो अब आँखें भी खोलो चींखती रात॥ जागते रहोकरवट बदलो ये काली रात॥ टपके बूंद छत छाया वजूद भीगती रात॥ दिल बेचैन फिर आएगी रैन जागती रात.. महातम मिश्र , गौतम गोरखपुरी
18 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
छंद- दुर्मिल सवैया (वर्णिक ) शिल्प - आठ सगण सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२"दुर्मिल सवैया"हिलती डुलती चलती नवका ठहरे विच में डरि जा जियरा।भरि के असवार खुले रसरी पतवार रखे जल का भँवरा ।।अरमान लिए सिमटी गठरी जब शोर मचा हंवुका उभरा।ततक
23 जुलाई 2018
10 जुलाई 2018
छन्द- वाचिक विमोहा (मापनीयुक्त मात्रिक) मापनी - २१२ २१२"विमोहा छंद मुक्तक"दृश्य में सार हैआप बीमार हैं पूछता कौन क्या कान बेकार है॥-१ आँख बोले नहीं मौन देखे नहीं पाँव जाए कहाँ सार सूझे नहीं॥-२ वेदना साथ है. आयना सार है। दाग दागी नहीं- देखती आँख है॥-३ देख ये बाढ़ है। चेत आष
10 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x