राष्ट्रपति बनने से पहले कोविंद ने जिस काम का विरोध किया था, अब वो खुद कर डाला

19 जुलाई 2018   |  कुनाल मंजुल   (144 बार पढ़ा जा चुका है)

राष्ट्रपति बनने से पहले कोविंद ने जिस काम का विरोध किया था, अब वो खुद कर डाला

राष्ट्रपति सचिवालय से 14 जुलाई को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई, जिसमें लिखा था – ‘राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए चार सदस्यों को मनोनीत किया है. वे चारों हैं- राम शकल, राकेश सिन्हा, रघुनाथ मोहपात्रा और सोनल मानसिंह. राम शकल की बात करें तो – ‘ये एक लोकप्रिय नेता हैं. उत्तर प्रदेश की जनता के प्रतिनिधि हैं. रॉबर्ट्सगंज संसदीय क्षेत्र से वे तीन बार सांसद रह चुके है.’

kovind 3

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 80 और प्रधानमंत्री की सलाह से इन चारों को राज्यसभा का मनोनीत सदस्य घोषित करते हुए भारत के राष्ट्रपति ने इन्हें अपनी शुभकामनाएं दीं. प्रेस रीलीज में आगे बताया गया है- संविधान के धारा 3 के अनुच्छेद 80 के अनुसार राज्यसभा के लिए वही लोग मनोनीत हो सकते हैं जो- साहित्य, विज्ञान कला या समाज विज्ञान के क्षेत्र में अपना विशेष स्थान रखते हों और इस क्षेत्र में उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान भी दिए हों.’ असल में ये संगीतकारों, अभिनेताओं, कवियों या समाज सेवियों के लिए संसद तक पंहुचने का एक मौक़ा होता है. जो कोई चुनाव जीतकर संसद तक नहीं पहुंच सकते उनके लिए ये एक अवसर होता है. जिसके माध्यम से वे अपने अनुभवों से राजनीति को भी समृद्ध कर पाते हैं.

kovind 1
स्पष्ट है कि राम शकल जैसे सक्रिय राजनेताओं को चुनाव के माध्यम से संसद तक जाना चाहिए न कि मनोनयन के माध्यम से. लेकिन ये पहली बार नहीं है जब ऐसा हुआ है कि किसी राजनेता को इस आसान रास्ते से संसद तक पहुंचाया गया हो. अप्रैल 2016 में भाजपा के मंत्री सुब्रमन्यम स्वामी और नवजोत सिंह सिद्धू (जो अब कांग्रेस में हैं) को नरेंद्र मोदी सरकार के विशेष आग्रह पर राष्ट्रपति ने राजयसभा के लिए मनोनीत किया था. पहले भी जगमोहन, भूपिंदर सिंह मान, प्रकाश अंबेडकर, गुलाम रसूल कार जैसे लोग मनोनीत होकर राज्यसभा तक पहुंच चुके हैं.

manmohan singh

मनमोहन सिंह के कार्यकाल में मणिशंकर अय्यर का राज्य सभा के लिए मनोनयन सबसे विवादास्पद मनोनयन रहा है जब 2009 में वो लोक सभा चुनाव हार गए थे. तब भाजपा ने उनके मनोनयन का भारी विरोध किया था. साहित्य में मणिशंकर के योगदान को ध्यान में रखते हुए उन्हें राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया था. तब भाजपा प्रवक्ता रामनाथ कोविंद ने अनुच्छेद 80 का ज़िक्र करते हुए अय्यर के मनोनयन पर तमाम सवाल खड़े किए थे. उन्होंने कहा था कि जो इन श्रेणियों में आते हैं उन्हें ही इन पदों के अंतर्गत मनोनीत किया जाना चाहिए.

kovind 2
तब भाजपा प्रवक्ता रहे रामनाथ कोविंद ने कहा था कि मणिशंकर इस तरह की किसी भी श्रेणी में नहीं आते और वे कांग्रेस के सक्रिय कार्यकर्ता भी हैं. कोविंद ने आगे कहा था- मणिशंकर का मनोनयन संवैधानिक नियमों के खिलाफ है. कानून को ताक पर रखकर ये मनोनयन किया गया है. कांग्रेस अपनी सत्ता का दुरुपयोग कर रही है.’ 2010 में भाजपा के प्रवक्ता की भूमिका में कोविंद ने कांग्रेस के प्रतिबद्ध कार्यकर्ता के मनोनयन का विरोध किया था लेकिन अब 2018 में जब वे देश के राष्ट्रपति हैं तब भाजपा के इन सक्रिय कार्यकर्ताओं को राज्यसभा भेजने के लिए कैसे उन्होंने अपनी अनुमति दे दी. ऐसा लगता है जैसे राष्ट्रपति कोविंद ने उस सलाह पर ध्यान नहीं दिया जो कभी भाजपा प्रवक्ता कोविंद ने तब सत्ता में बैठे लोगों को दी थी.


president Ram Nath Kovind's double standards about Rajya Sabha nominations

https://www.thelallantop.com/bherant/president-ram-nath-kovinds-double-standards-about-rajya-sabha-nominations/

अगला लेख: MOVIE REVIEW: दिल को नहीं धड़का सकी 'धड़क'



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 जुलाई 2018
मुंबई: टीवी एक्ट्रेस हिना खान हाल ही में प्रियांक शर्मा और बॉयफ्रेंड रॉकी जैसवाल के साथ एयरपोर्ट पर स्पॉट हुईं।उनकी कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। रिएलिटी शो बिग बॉस 11 में हिना की प्रियांक और लव त्यागी के साथ काफी जमती थी। लंबे समय बाद हिना अपने दोस्त प्रियांक के साथ नजर आई हैं। हिना ने रॉकी और प्रियां
20 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद अब अलगाववादियों पर कार्रवाई तेज हो गई है। जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता यासिन मलिक को गुरुवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। यासिन मलिक ने कश्मीर घाटी में बंद का आह्वान किया था।बता दें अलगाववादि नेता सैय
02 अगस्त 2018
31 जुलाई 2018
नागेंद्र सिंह भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं और खजुराहो (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से भारतीय आम चुनाव, 2014 जीते हैं। नागेंद्र सिंह संसद सदस्य बनने से पहले मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री थे।नागेंद्र सिंह का जन्म 2 मार्च 1943 को हुआ था। इनका जन्म महाराजा महेंद्र सिंह और महारानी श्याम कुमारी के पुत्र क
31 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
सावन और देवों के देव महादेव का गहरा नाता है। 2018 में सावन का महीना बेहद खास भी है। संक्रांति की गणना से सावन का महीना 16 जुलाई से ही आरंभ हो गया है लेकिन पूर्णिमा की गणना के अनुसार 28 जुलाई से सावन आरंभ हो रहा है और पहला सावन सोमवार 30 जुलाई को है। इस सावन में बेहद दुर्ल
19 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
पटना: बिहार की सियासत में जहां राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव को अगले सीएम के रूप में देखा जा रहा है. वहीं देश भर में प्रख्यात और उनके परिवार के राज ज्योतिष पंडित शंकर चरण त्रिपाठी की भविष्यवाणी सीधे इसके उलट है. इन दिनों जहां तेजस्वी की पॉलिटिक्स में बहुत
09 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x