मेरा अन्तर इतना विशाल

19 जुलाई 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरा अन्तर इतना विशाल

मेरा अन्तर इतना विशाल

समुद्र से गहरा / आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत

जितना चाहे भर लो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही

अनगिन भावों का घर है ये मेरा अन्तर

कभी बस जाती हैं इसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँ

जिनसे मिलता है मुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का

क्योंकि नहीं है कोई सीमा इस मन की

चाहे जितनी ऊँची पेंग बढ़ा लूँ / छू लूँ नभ को भी हाथ बढ़ाकर

क्योंकि धरती और आकाश दोनों ही हैं मेरा घर

या पहुँच जाऊँ नभ के भी पार / जहाँ न हो धरती का भी कोई आकर्षण

या चाहे अपनी कल्पनाओं से करा दूँ मिलन / धरा और आकाश का

इतना कुछ छिपा है मेरे इस अन्तर में / फिर भी है ये रीता का रीता

खिले हैं अनगिनती पुष्प मेरे अन्तर में

आशाओं के, विश्वासों के, उत्साहों के

न तो कोई दीवार है इसके चारों ओर / न ही कोई सीमा इसकी

अतुलित स्नेह का भण्डार मेरे इस अन्तर में

आ जाता है जो एक बार / नहीं लौटता फिर वो रिक्त हस्त

अपने इसी खालीपन में तो मिलता है मुझे

विस्तार अपार

नहीं चाहती भरना इसे पूरी तरह

भर गया यदि यह रीता घट / तो कहाँ रह जाएगा स्थान

नवीन भावनाओं के लिए... नवीन आशाओं के लिए...

इसीलिए तो प्रिय है मुझे

अपना ये विशाल अन्तर

क्योंकि रहता है सदा इसमें / अवकाश अपार...

https://purnimakatyayan.wordpress.com/2018/07/19/मेरा-अन्तर-इतना-विशाल

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2018
अपने अन्दर जलते हुए अपने अरमान देखे भड़के हुए शोलो की आग से हाथ सेकते हुए इन्सान देखे क्या सोचा था और क्या देखा हमने अपने लोगो को बदलते देखा काफी दिन हुए आईना देखे हुए
23 जुलाई 2018
08 जुलाई 2018
9 से 15 जुलाई तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिएसही ही हो – क्योंकि सूर्य एक राशि में एक माह तक रहता है और उस एक माह में लाखोंलोगों का जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल ग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधारितहोते हैं | इस फलकथन अथवा ज्योतिष
08 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
बकौल मोहब्बत वो मुझसे पूछता है दिल के मकान के उस कमरे में क्या?अब भी कोई रहता है। थोड़ा समय लगेगा,ध्यान से सुनना बड़ी शिद्दत से बना था वो कमराकच्चा था पर उतना ही सच्चा था उसे भी मालूम था कि उसकीएक एक ईंट जोड़ने में मेरीएक एक धड़कन निकली थी इकरारनामा तो थापर उस पर उसके दस्तख़त
23 जुलाई 2018
15 जुलाई 2018
ज़ि
हाथ से रेत फिसलती रही वक़्त के साथ दुनिया बदलती रही जिन्दगी तुझे देखा तो तबियत बिमार कि बहलती रही हाथ से रेत फिसलती रही मौसम को भी
15 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
कोईअस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |कोईअर्थ न हो मौन का,यदि निश्चित नहो वहाँ कोई ध्येय |मौनका लक्ष्य है प्रेम,मौन मौन कालक्ष्य है दया मौनका लक्ष्य है आनन्द,और मौन मौन काहै लक्ष्य संगीत भी |मौन, ऐसा गीत जो कभीगाया नहीं गया,फिरभी मुखरित हो गया |मौन, ऐसा
17 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
शुक्रवार, 20 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें (10:17 पर सूर्य का पुष्य नक्षत्र में प्रवेश)सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : चित्रा 08:08 तक, तत्पश्चात स्वाति तिथि :
19 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
जन्म से पुनर्जन्म – बात चल रही थीगर्भ संस्कारों की... उसे ही आगे बढाते हैं...गर्भाधान – आत्मा का पुनर्जन्म – एकशरीर को त्यागने के बाद अपनी इच्छानुसार आत्मा अन्य शरीर में प्रविष्ट होकर नौ माहतक माता के गर्भ में निवास करने का बाद पुनः जन्म लेती है... एक नन्हे से शिशु केरूप
05 जुलाई 2018
06 जुलाई 2018
मे
मैं तेरा हु सिर्फ तेरा एतबार कर मेरा चिराग़ बनके जला हु तो ये रौशनी रहेगी उमर भर एतबार कर मेरा मै तेरा हु सिर्फ तेरा मुझको अपने दिल मे बसा लो कब तलक
06 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
गुरुवार, 19 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या 19:56 तक, तत्पश्चाततुला चन्द्र नक्षत्र : हस्त 07:52 तक, तत्पश्चात चित्रा तिथि : आषाढ़ शुक्ल सप्तमी 13:3
18 जुलाई 2018
05 जुलाई 2018
ते
वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है तेरा घर महल अमीर है, मेरा घर झोपड़ी गरीब है वो तेरा घर जो मेरे घर के करीब है कल मिल गए थे,कुछ
05 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
बुधवार, 18 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:34 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या चन्द्र नक्षत्र : उत्तर फाल्गुनी 08:19 तक, तत्पश्चात हस्त तिथि : आषाढ़ शुक्ल षष्ठी 14:36 तक, तत्पश्चात आषा
18 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x