त्याग क्या है ????? आचार्य अर्जुन तिवारी

22 जुलाई 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (70 बार पढ़ा जा चुका है)

त्याग क्या है ????? आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में प्राय: लोगों के मुख से दो शब्द सुनने को मिल जाया करते हैं :- १- त्याग , २- तपस्या | त्याग एक अनोखा शब्द है , त्याग में ही जीवन का सार छुपा हुआ है | त्याग करके ही हमारे महापुरुषों ने जीवनपथ को आलोकित किया है | जिसने भी त्याग की भावना को अपनाया उसने ही जीवन में उच्च से उच्च मानदंड स्थापित किया है | जीवन का सच्चा सुख त्याग में ही है | सुखी जीवन की व्याख्या करते हुए योगेश्वर श्री कृष्ण गीता में कहते हैं कि :- त्याग करने से मनुष्य को तत्काल शांति मिलती है और जहाँ शांति है वहीं सुख | संसार में सुख की कामना प्राय: सभी करते हैं ओर भगवान श्री कृष्ण के अनुसार बिना त्याग किये शांति नहीं ओर बिना शांति सुख नहीं | तो त्याग किसका और कैसे किया जाय ??? क्या परिवार , समाज से विमुख हो जाना त्याग है ?? शायद नहीं ! परिवार व समाज को त्याग कर अनेक लोग योगी , यती , संयासी बन गये तो क्या उन्हें सुखी मान लिया जाय ?? शायद वे भी सुखी नहीं है | तो त्याग क्या है ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सद्गुरुओं एवं पुराणों के माध्यम से आज तक जो जान पाया हूँ वह यही है कि त्याग अपनी विषय वासनाओं का किया जाय | काम , क्रोध , मद , मोह , लोभ , मात्सर्य , अह्कार का त्याग ही सच्चा त्याग है | इनको त्याग कर देखिये हृदय का ज्वर शांत हो जायेगा ! जब हृदय ज्वर शान्त हो जायेगा तो सुखानुभूति अवश्य होगी | मनुष्य परिवार का त्याग कर तीर्थाटन करने तो चला जाता है परंतु उसे शांति नहीं मिलती क्योंकि वह एक मिनट के लिए भी इन विकारों का त्याग नहीं कर पाता है |* *आज चकाचौंध के युग में अनेक लोग अपने नाम के पीछे त्यागी लगाते हुए देखे जा सकते हैं | परंतु उनका चरित्र देखा जाय तो एक गृहस्थ से भी बदतर ही दिखायी पड़ता है | क्योंकि उन्होंने सिर्फ अपना परिवार व समाज त्यागा है परंतु अपनी विषयासक्ति का त्याग नहीं कर पाये हैं | विलासिता में आकण्ठ तक डूबे हुए ऐसे लोगों को त्यागी कैसे कहा जा सकता है | यह सत्य है कि मनुष्य की कुछ आवश्यक आवश्यकतायें हैं | परंतु यह भी सत्य है कि प्रत्येक मनुष्य की आवश्यकताये ईश्वर पूर्ण करता है | जब मनुष्य की आवश्यक आवश्यकतायें पूर्ण हो जायं तो विचार करने का समय होता है कि अब हम किस मार्ग पर जायं | ईश्वर की अनुभूति करने और समाज में उच्च मानदंड स्थापित करने के लिए त्याग की भावना को अंगीकार कर, उस पथ पर बढ़ने की आवश्यकता होती है | उस मार्ग में व्यक्तिगत व शारीरिक सुखों का त्याग करना होगा | उन सभी आसक्तिओं को छोड़ना होगा, जो मानव जीवन को संकीर्णता की ओर ले जाने वाली होती है | तब यही त्याग वृत्ति अंत:करण को पवित्र कर भीतर के तेज को देदीप्यमान करती है | हमारे देश भारत में त्याग की परंपरा पुरातनकाल से चली आ रही है | आसक्ति से विरत हो जाने वालों की यहां पूजा की जाती है | भगवान राम द्वारा अयोध्या के राज्य को एक क्षण में त्याग देने जैसे स्थापित किए गए आदर्श को संसार पूजता है | राज्य का त्याग कर वन में जाने से उन्होंने समाज में उच्चतम मानदंड स्थापित किया | साथ ही लोगों को धर्म, अध्यात्म, ज्ञान व भक्ति के मार्ग की ओर अग्रसर होने की प्रेरणा भी प्रदान की | त्याग से मनुष्य ईश्वर को प्राप्त कर सच्चे सुख व शांति का लाभ पाता है, वहीं समाज को भी उच्च आदर्शों के मानदंड बरकरार रखने की प्रेरणा प्रदान करता है |* *यदि सच्चे सुख की कामना है तो हृदय में प्रतिपल ज्वारभांटे की तरह उठ रही कुत्सित भावनाओं का त्याग करना ही होगा | अन्यथा सम्पूर्ण जीवन अशांति में व्यतीत हो जायेगा |*

अगला लेख: जीवन में आवश्यक है नियमबद्धता ----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जुलाई 2018
हि
हिंदू कैलेंडर में मंगलवार, 10 जुलाई, 2018 - हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के अंधेरे चरण या अंधेरे चरण और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग के दौरान बारहवें दिन। यह 10 जुलाई को 3:20 बजे तक चंद्रमा के पंख या अंधेरे चरण के दौरान कृष्णा पक्ष दवादासी तीथी या बारहवें दिन है। इसके बाद कृष्णा पक्ष त्रयोदासी तीथी या
10 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
*मानव जीवन बहुत रंग बिरंगा है ! इस जीवन में मनुष्य तरह तरह के व्यवहार इस संसार में करता रहता है | इन्हीं में एक है छल करना या धोखा देना | मनुष्य किसी को धोखे में रखकर बहुत प्रसन्न होता रहता है | जबकि धोखा देने या छल करने वालों का क्या परिणाम होता है इसे लगभग सभी जानते हैं | मनुष्य यह सोंचकर प्रसन्न
22 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*प्राचीनकाल से ही सनातन धर्म के साधु - संतों , ऋषियों - महर्षियों ने समाज के उत्थान के लिए सदैव प्रयास किया है | इस क्रम में कइयों ने तो स्वयं के प्राणों की आहुति भी दे दी | कुछ लोग समझते हैं कि घर छोड़ कर जंगल में रहने वाला ही साधप हो सकता है | किसी संत या साधु की चर्चा आते ही आँखों के आगे एक गेरुव
24 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
हि
हिंदू कैलेंडर में तिथि सोमवार, 9 जुलाई, 2018 - कृष्णा पक्ष एकदशी तिथी या ग्यारहवें दिन हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के अंधेरे चरण और अंधेरे चरण और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग के दौरान। यह 9 जुलाई को 5:04 बजे तक चंद्रमा की पंख या अंधेरे चरण के दौरान ग्यारहवें दिन है। इसके बाद यह कृष्णा पक्ष दवासादी तिथ
09 जुलाई 2018
07 जुलाई 2018
शब्द 'माया' का उपयोग ऋग्वेद में जादुई पर सीमाओं को इंगित करने के लिए किया जाता है: 'इंद्र मायाभ्य pururupa iyate'; इंद्र, माया की मदद से, विभिन्न रूपों को मानता है। ' (ऋग्वेद, 6.47.18) उपनिषद में शब्द एक दार्शनिक महत्व प्राप्त करता है। श्वेताश्वर उपनिषद ने घोषणा की: 'जानें कि प्रकृति, प्रकृति, निश्च
07 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*सनातन धर्म में प्रभु प्राप्ति के कई साधन बताये गये हैं ! जैसे कि :- जप , तप , पूजा , पाठ , सतसंग आदि | कभी कभी मनुष्य दिग्भ्रमित हो जाता है कि वह प्रभु को प्राप्त करने के लिए कौन सा मार्ग चुने | प्राचीनकाल की कथाओं को पढकर ऐसा लगता है कि सबसे महत्तपूर्ण साधन जप एवं तप ही रहे होंगे | परंतु किसी भी ज
24 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *इस संसार में भगवान की माया बहुत ही प्रबल होकर समस्त प्राणिमात्र को नचाती रहती है | इसी माया के वशीभूत होकर मनुष्य लोभ, मोह, क्रोध, काम अहंकार, मात्सर्य आदिक गुणों के आधीन होकर अपने क्रिया कलाप करने लगता है | इन षडरिपुओं में सबसे प्रबल एवं घातक मोह को बताते हुए गोस्वाम
14 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे मनीषियों ने मनुष्य के षडरिपुओं का वर्णन किया है | जिसमें से एक अहंकार भी है | अहंकार मनुष्य के विनाश का कारण बनता देखा गया है | इतिहास गवाह है कि अहंकारी चाहे जितने विशाल साम्राज्य का अधिपति रहा हो , चाहे वह वेद - वेदान्तों में पारंगत कियों न रहा हो उसका विनाश अ
14 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
*इस समस्त सृष्टि में श्रीराम नाम की व्यापकता कण कण में समायी हुई है | राम कौन हैं ??? कोई अयोध्या के राजकुमार श्री राम को भजता है तो कोई निर्गुण निराकार राम को | अयोध्या में श्री राम का अवतरण त्रेतायुग में हुआ था परंतु राम नाम की व्यापकता वेदों में भी दिखाई पड़ती जो कि सृष्टि के आदिकाल से ही हैं |
22 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि के वलम् !! *यह संसार विचित्रताओं से भरा पड़ा है | यहाँ भाँति - भाँति के विचित्र जीव देखने को मिलते हैं | कुछ जीव तो ऐसे - ऐसे कभी देखने को मिल जाते हैं कि अपनी आँखों पर भी विश्वास नहीं होता | और मनुष्य विचार करने लगता है कि :- परमात्मा की सृष्टि भी अजब - गजब है | हमारे वैज्ञानि
14 जुलाई 2018
07 जुलाई 2018
देहरा और आलंदी से महाराष्ट्र के पंढरपुर में प्रसिद्ध विठोबा मंदिर में वार्षिक पंढरपुर यात्रा (वारी) हजारों लोगों और तीर्थयात्रियों को वारारिस के रूप में जाना जाता है। आशिदी एकादाशी पर पांडारपुर यात्रा 2018 की तारीख 23 जुलाई को है। 2018 के अनुसूची के अनुसार, देहु से तुकाराम महाराज पालखी की शुरूआत 5 ज
07 जुलाई 2018
10 जुलाई 2018
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *यह संसार परिवर्तनशील है ! यहाँ कभी भी कुछ भी एक जैसा न रहा है और न ही रहेगा | नित्यप्रति परिवर्तन ही सृष्टि का नियम है | जिस प्रकार प्रात:काल सूर्योदय होता है और दिनभर सारे संसार को प्रकाशित करने के बाद वह पुन: समयनुकूल अपने पीछे एक गहन
10 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
*मानव जीवन एक संघर्ष है | इसमें उतार चढाव लगे रहते हैं | जीवन में सफलता का मूलमंत्र है :- साहस | जिसके पास साहस है वह कभी असफल नहीं होता है | साहस के ही बल पर संसार में मनुष्य ने असम्भव को भी सम्भव कर दिखाया है | कहते हैं कि ईश्वर भी उसी की सहायता करता है जिसके पास साहस होता है | इतिहास में उन्हीं क
22 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x