वो लैजेंड एक्टर, जिसने राजेश खन्ना को थप्पड़ लगाकर स्टारपना निकाल दिया था

23 जुलाई 2018   |  रवि मेहता   (282 बार पढ़ा जा चुका है)

वो लैजेंड एक्टर, जिसने राजेश खन्ना को थप्पड़ लगाकर स्टारपना निकाल दिया था

#1 अमिताभ बच्चन से बहुत नाराज हुए

महमूद अंतिम दिनों में अमिताभ से ख़फा थे. एक इंटरव्यू में उन्होंने कई और बातों के साथ ख़ुद इस बारे में कहा, “मेरा बेटा अमित आज 25 साल का हो गया है. फिल्म लाइन में. अल्ला उसे सेहत दे. ऊरूज पर रखे. जिसको मैंने काम दिया, मैं उसके पास काम मांगने जाऊं तो मुझे शर्म नहीं आएगी? इसलिए मैं नहीं गया. जिस आदमी को सक्सेस मिले उसके दो बाप हो जाते हैं. एक बाप वो जो पैदा करता है और एक बाप वो जो पैसा कमाना सिखाता है. तो पैदा करने वाला बाप तो बच्चन साहब है हीं और मैं वो बाप हूं जिसने कमाना सिखाया. अपने साथ में रख के. घर में रख के. पिक्चरें दिलाईं. पिक्चरों में काम दिया. बहुत इज्जत करता है अमित मेरी. बैठा होगा, पीछे से मेरी आवाज सुनेगा, खड़ा हो जाएगा. लेकिन आखिर में मुझे इतना फील हुआ जब मेरा बाइपास हुआ, ओपन हार्ट सर्जरी. उसके फादर बच्चन साहब (हरिवंशराय) गिर गए थे तो मैं उन्हें देखने के लिए अमित के घर गया, एक कर्टसी है. और उसके एक हफ्ते बाद जब मेरा बाइपास हुआ तो अमित अपने वालिद को लेकर वहां आए ब्रीच कैंडी (अस्पताल), जहां मैं भर्ती था, लेकिन अमित ने वहां ये दिखा दिया कि असली बाप असली होता है और नकली बाप नकली होता है. उसने आके मुझे हॉस्पिटल में विश भी नहीं किया. मिलने भी नहीं आया. एक गेट वेल सून का कार्ड भी नहीं भेजा. एक छोटा सा फूल भी नहीं भेजा. ये जानते हुए कि भाईजान भी इसी हॉस्पिटल में हैं. खैर, मैं बाप ही हूं उसका और कोई बद्दुआ नहीं दी. आई होप, दूसरों के साथ ऐसा न करे.”


#2 महमूद गॉडफादर थे बच्चन के

अमिताभ खुद मानते हैं कि महमूद ने उन पर शुरू से बतौर एक्टर पूरा भरोसा किया. तब भी जब तमाम तरह के लोग उनकी नाकामी की भविष्यवाणी कर चुके थे. महमूद का जब 2004 में निधन हो गया तो अमिताभ ने लिखा था:

उन्हें हम भाईजान कहते थे. वे हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के महानतम कॉमेडियन हैं. उनके भाई अनवर अली और मैं, मेरी पहली फिल्म ‘सात हिंदुस्तानी’ के सेट पर मिले. वो भी एक रोल कर रहे थे. तब से हम करीबी दोस्त बन गए. मैं उनके साथ उनके अपार्टमेंट में रहा जो एक बड़े कॉम्पलेक्स में बना हुआ था, जो महमूद भाई का था. उसमें उनका पूरा बड़ा परिवार रहता था. महमूद भाई मेरे करियर के शुरुआती ग्राफ में मदद करने वालों में से थे. उनका मुझ पर पहले दिन से ही भरोसा था. वे मुझे न जाने क्यों ‘डेंजर डायबॉलिक’ कहकर बुलाते थे. वे पहले प्रोड्यूसर थे जिन्होंने मुझे लीड रोल दिया था – ‘बॉम्बे टु गोवा’ में.

mehmood2

बच्चन ने एक बार कहा था कि उन्होंने ‘सात हिंदुस्तानी’, ‘रेशमा और शेरा’, ‘रास्ते का पत्थर’, ‘बंसी बिरजू’, ‘बंधे हाथ’ जैसी कई फिल्में की थीं लेकिन वे धड़ाधड़ करके गिर गईं. परिणाम ये हुआ कि वे दूसरी फिल्मों से भी बाहर किए जाने लगे. अब उनका पूरा आत्मविश्वास खत्म हो गया था. उन्हें अंधकारमय जीवन के अलावा कुछ भी नजर नहीं आ रहा था. वे हताश-निराश होकर अपना बोरिया-बिस्तर समेटने लगे. पूरा मन बना लिया था कि वापस चले जाएंगे लेकिन जैसे ही महमूद के भाई अनवर को ये पता चला, उन्होंने जाने से रोक लिया. काफी हौसला अफजाई की. बच्चन ने कहा था, “उस वक्त अगर वो नहीं होते तो शायद आज मैं भी यहां नहीं होता.” तब महमूद ने उन्हें ‘बॉम्बे टु गोवा’ में साइन किया था. उन्होंने कमर्शियल सिनेमा के गुण सिखाए.


#3 जब रेलवे स्टेशन पर कपड़े उतारने लगे

महमूद के पिता मुमताज अली 40 और 50 के दशक में जाने-माने एक्टर और डांसर थे. तमिल मूल के महमूद बचपन से भी फनी थे. एक बार उनकी मां ने उन्हें रेलवे स्टेशन पर पकड़ लिया जब वे भागने की कोशिश कर रहे थे. बच्चे ही थे. तो मां ने खूब सुनाया. बोलीं कि ये जो कपड़े भी तुमने पहन रखे हैं ये तुम्हारे बाप के पैसों के हैं. इतना सुनना था कि महमूद अपने कपड़े उतारने लगे. खैर, बाद में उन्होंने कमाई करनी शुरू कर दी. छोटे-मोटे काम करते थे, अंडे बेचते थे. बाद में मीना कुमारी को टेबल टेनिस खिलाते थे. राजकुमार संतोषी के पिता डायरेक्टर थे, उनकी गाड़ी चलाते थे.


#4 गुरु दत्त का फोटो बेडरूम में लगाकर रखा

बच्चे थे तब वे पिता के साथ फिल्म स्टूडियोज़ में जाया करते थे और ‘किस्मत’ (1943) और ‘सन्यासी’ (1945) जैसी फिल्मों में मामूली रोल भी किए. लेकिन मीना कुमारी की बहन मधु से शादी करने और एक बच्चे के बाप बनने के बाद महमूद ने पैसे कमाने के लिए एक्टिंग शुरू की. उन्हें पहला प्रमुख रोल राज कपूर और माला सिन्हा स्टारर 1958 में रिलीज हुई फिल्म ‘परवरिश’ में मिला था. वे राज कपूर के भाई के रोल में थे. बाद में गुरु दत्त जैसे फिल्मकार ने उन्हें ‘सीआईडी’ और ‘प्यासा’ जैसी फिल्मों में काम देकर उनका मान बढ़ाया. इस बात को महमूद कभी नहीं भूले. उन्होंने अपने बेडरूम में गुरुदत्त का एक बड़ा फोटोग्राफ लगाकर रखा.


#5 ‘कुंवारा बाप’ उनकी ख़ुद की जिंदगी की कहानी थी

उनकी सबसे यादगार फिल्म ‘कुंवारा बाप’ को माना जाता था. ये उनकी असल कहानी थी. उसमें उन्होंने एक गरीब रिक्शे वाले का रोल किया और पोलियो से ग्रस्त उनके 15 साल के बेटे का रोल मैकी ने किया. मैकी यानी मकदूम अली, जो महमूद के तीसरे नंबर बेटे थे. उन्हें असल में पोलियो हो गया था. महमूद विदेश ले गए. बहुत इलाज करवाया लेकिन मैकी वैसे ही रहे. फिल्म में उन्होंने इसी कहानी को अपने अंदाज में दिखाया. वे दिखाना चाहते थे कि उन जैसा अमीर आदमी इतने पैसे लगाकर भी अपने अजीज़ बेटे का इलाज करवाने में लगा है, उस गरीब बाप का क्या हाल होता होगा जिसके पास पैसे भी नहीं हैं. इसी फिल्म के गाने ‘सज रही गली मेरी अम्मा चुनर गोटे में.. ‘ में उनके पिता मुमताज अली भी नाचते दिखे थे. ये एकमात्र समय था जब महमूद के परिवार की तीन पीढ़ियां साथ में थीं.


#6 नाचने के नाम पर अमिताभ रो रहे थे, महमूद ने ट्रिक की

महमूद ने बच्चन की एक्टिंग और डांस स्किल्स पर बात करते हुए कहा था, “मैं एक्टर के तौर पर अमित की इंटेंसिटी से प्रभावित हुआ था. उसकी आंखें उसकी आवाज से ज्यादा बोलती थीं. लेकिन अमित को एक टिपिकल बॉलीवुड एक्टर के रूप में तब्दील करना बहुत मुश्किल था. क्योंकि वो बहुत शर्मीला था और जब बात नाचने की आती थी तो एकदम भोंदू था. ‘बॉम्बे टू गोवा’ में एक गाने में वो नाच नहीं पाया. फिर दूसरा गाना जो बस में फिल्माया गया ‘देखा न हाय रे सोचा न हाय रे’ उसके दौरान भी यही हाल रहा. शूटिंग में पहुंचा तो देखा कि वो अपने कमरे में था शूट के लिए नहीं आया. 102 डिग्री बुखार था. कमरे में पहुंचा तो रो रहा था. कि भाईजान मुझसे नहीं होगा डांस. सुबक रहा था. मैंने कहा, देखो जो आदमी चल सकता है वो नाच भी सकता है. मैंने डांस मास्टर से कहा कि कल सुबह जब वो आए तो एक ही टेक लेना. उसमें वो जो भी करे बस में सब आर्टिस्ट को बोलना ताली बजाए. यही हुआ. अगली सुबह पहले टेक में उसने बहुत गंदा डांस किया. लेकिन सबने ताली बजाई. और अगले शॉट में बढ़ गए. तारीफ सुनकर वो चौड़ा हो गया. एक्टर की खुराक तारीफ ही होती है. फिर शूटिंग सही से हुई और जो गंदा शॉट था उसे हमने अंत में फिर फिल्माया.”


#7 आर. डी. बर्मन / पंचम, को ब्रेक दिया

महमूद ही थे जिन्होंने आर. डी. बर्मन को बतौर म्यूजिक डायरेक्टर पहला ब्रेक दिया. फिल्म थी ‘छोटे नवाब’ जो 1961 में आई. इसकी कहानी महमूद के पिता मुमताज अली ने लिखी थी. इसमें उन्होंने छोटे नवाब का लीड रोल किया था.


#8 अरुणा ईरानी से अफेयर का सच

महमूद और अरुणा ईरानी का अफेयर हुआ करता था. एक बार तबस्सुम ने अरुणा से एक शो में पूछ भी लिया था कि “महमूद ने आपको छोड़ा क्यों?” उसके बाद महमूद ने उन्हें फोन करके कहा कि “तुमने अरुणा से ऐसा क्या पूछ लिया कि लोग हर जगह मुझे घेर रहे हैं.” दरअसल, महमूद के साथ अरुणा ईरानी ने ‘औलाद’ (1968), ‘हमजोली’ (1970), ‘देवी’ (1970), ‘नया जमाना’ (1971), ‘मन मंदिर’ (1971), ‘मैं सुंदर हूं’ (1971), ‘लाखों में एक’ (1971), ‘जौहर महमूद इन हॉन्ग कॉन्ग’ (1971), ‘अलबेला’ (1971), ‘गरम मसाला’ (1972) जैसी फिल्मों में काम किया था. महमूद की ‘बॉम्बे टू गोवा’ में भी अरुणा थीं. जहां पहली बार खासतौर पर उन्हें नोटिस किया गया. तब अरुणा की फिल्म ‘कारवां’ भी लगी हुई थी. दोनों ही सिल्वर जुबली हुईं. अरुणा को लगा कि अब उनके घर के बाहर निर्माता लाइन लगाकर खड़े होंगे. उन्होंने चाय सर्व करने के लिए नई क्रॉकरी भी खरीदी लेकिन अगले तीन साल एक भी प्रोड्यूसर चल कर उनके पास नहीं आया. इसका कारण महमूद से उनकी नजदीकी को माना जाता है जो कथित तौर पर अरुणा का करियर संचालित कर रहे थे. बहुत बाद में एक इंटरव्यू में अरुणा ने कहा:

हां, मैं उनके साथ दोस्ताना थी. यहां तक कि मैं ओवर-फ्रेंडली थी. आप इसे आकर्षण भी कह सकते हैं, दोस्ती भी या कुछ भी. लेकिन हम लोगों ने कभी शादी नहीं की थी. हम प्यार में भी नहीं थे.

garam_masala_4_1024x1024

करियर में आए तीन सालों के उस अकाल के बारे में अरुणा का कहना था, “लोगों ने हमारे रिश्ते को गलत समझ लिया था. उन्हें लगा होगा कि हम शादी कर चुके हैं. उन्हें (निर्माताओं को) लगा होगा कि वो (महमूद) मुझे काम नहीं करने देंगे. हमने कई फिल्में साथ कीं और अच्छी कैमिस्ट्री रही हमारी. इसके अलावा, मैं उस उम्र में थी जब आकर्षण हो जाता है. मैं बहक गई थी. लोग बातें बना रहे थे, हमारे बारे में लिखा जा रहा था लेकिन मैंने कभी स्पष्टीकरण नहीं दिया. मुझे लगा मीडिया के लोग मेरे पक्ष की कहानी सुनने भी आएंगे. मुझे पछतावा है कि मैं तब क्यों नहीं बोली. मेरी चुप्पी ने मेरे करियर को नुकसान पहुंचाया.”


#9 एक्टर और स्टार लोग जब महमूद से डरते थे

‘बॉम्बे टू गोवा’ में महमूद और उनके भाई अनवर कंडक्टर और बस ड्राइवर बने थे. वो एक तरीके से केंद्रीय पात्र थे. अमिताभ और अरुणा ईरानी हीरो-हीरोइन थे. शत्रुघ्न सिन्हा विलेन थे. अमिताभ के करियर की ये पहली प्रमुख फिल्म थी. वो भी बेरोजगारी के दौर के बाद मिली थी. महमूद ने उन्हें घर में आसरा दे रखा था. फिल्म दी थी. खुद तब कद्दावर सेलेब्रिटी हुआ करते थे. अमिताभ उनसे बहुत डरते थे. फिल्म में एक सीन में उन्हें अरुणा ईरानी का हाथ पकड़ना था लेकिन बहुत डरे हुए थे क्योंकि तब महमूद-अरुणा का अफेयर चल रहा था. वे कैसे उनका हाथ पकड़ लें? लेकिन ये देख महमूद ने उन्हें कहा कि सिर्फ काम पर ध्यान दो बाकी सब भूल जाओ कि कौन क्या कहां है? उसके बाद उन्होंने वो सीन किया. ये भी कहा जाता है कि अपने शीर्ष पर होने के दौर में महमूद जब सेट पर आते तो हीरो लोग भी शर्ट के बटन बंद करके खड़े हो जाते थे.


#10 आज जो फीस बड़े सितारे पाते हैं, वो तब महमूद लेते थे

‘मैं सुंदर हूं’ (1971) फिल्म में एक्टर विश्वजीत की फीस थी 2 लाख रुपये और उसी फिल्म के लिए महमूद को 8 लाख रुपये दिए गए. इससे एक साल पहले रिलीज हुई फिल्म ‘हमजोली’ में जीतेंद्र हीरो थे लेकिन वहां भी अन्य भूमिका कर रहे महमूद को ज्यादा फीस मिली. बहुत बाद के वर्षों में खुद महमूद ने कहा था कि जितनी फीस अमिताभ सुपरस्टार बनने के बाद लेते थे, उतनी वे अपने समय में लिया करते थे.


#11 किशोर कुमार की एक्टिंग के कायल थे

मुंबई फिल्म इंडस्ट्री में सिर्फ किशोर कुमार ही थे जिनके अभिनय से महमूद घबराते थे. एक बार उनके साथी एक्टर बीरबल ने पूछा कि वे किस एक्टर की एक्टिंग से डरते हैं तो उनका जवाब था, “मैं सभी एक्टर्स की सीमाएं जानता हूं लेकिन किशोर कुमार का पता लगाना मुश्किल है. वो अपने किरदार के साथ कभी भी कुछ भी कर जाते हैं.” इसीलिए जब उन्होंने ‘पड़ोसन’ फिल्म प्रोड्यूस की तो उसमें किशोर कुमार को भी लिया. उस फिल्म की हाइलाइट ही महमूद और किशोर की जुगलबंदी थी. फिल्म ‘साधू और शैतान’ में दोनों ने साथ काम किया था. यहां दोनों का ये दृश्य देखें:


#12 जब महमूद को किशोर ने काम नहीं दिया

जब किशोर कुमार स्थापित सिंगर-एक्टर-डायरेक्टर हो चुके थे तब उनसे परिचित महमूद उनके पास गए और कहा कि उन्हें भी अपनी फिल्म में मौका दें. किशोर ने कथित तौर पर उन्हें काम देने से मना कर दिया और कहा कि “ऐसे आदमी को क्यों मौका दूं जो आगे चल कर मेरा ही प्रतिद्वंदी हो जाने वाला है”. इस पर महमूद नाराज नहीं हुए. उन्होंने कहा, “कोई बात नहीं लेकिन जब मैं फिल्म बनाऊंगा तो उसमें आपको जरूर लूंगा”. फिर जब अपने बैनर की फिल्म ‘पड़ोसन’ उन्होंने बनाई तो उसमें किशोर कुमार को लिया.


#13 राजेश खन्ना का सुपरस्टारडम एक थप्पड़ में उतार दिया

ये वो दौर था जब राजेश खन्ना सुपरस्टार थे. लेकिन महमूद भी सुपरस्टार रह चुके थे और बतौर एक्टर-डायरेक्टर बिजी थे. उन्होंने अपनी फिल्म ‘जनता हलवदार’ (1979) में राजेश को लिया. हेमा मालिनी हीरोइन थीं. महमूद अपने फार्म हाउस में फिल्म की शूटिंग कर रहे थे. वहां एक दिन महमूद का एक बेटा राजेश से मिला और सीधे दुआ-सलाम करके निकल गया. राजेश इससे नाराज हो गए कि सिर्फ हैलो क्यों बोला? ये कारण था या कुछ और कि वे सेट पर लेट आने लगे. शूटिंग में दिक्कत होने लगी. रोज़ महमूद को घंटों इंतजार करना पड़ रहा था. वे डायरेक्टर भी थे और एक्टर भी. ऐसे में एक दिन महमूद ने सबके सामने राजेश खन्ना को थप्पड़ लगा दिया. वे बोले, “आप सुपरस्टार होंगे अपने घर के, मैंने फिल्म के लिए आपको पूरा पैसा दिया है और आपको फिल्म पूरी करनी ही पड़ेगी.” इसके बाद फिल्म का काम सही से चला.


JANTA


#14 रिहर्सल नहीं करते, जो करते लाइव करते थे

अपने दृश्यों में और निजी रूप से भी महमूद की मौजूदगी बहुत हावी होने वाली थी. वे डायलॉग बोलते थे तो बड़े एक्टर्स और सुपरस्टार भी घबरा जाते थे. क्योंकि शॉट देते हुए वे पूरी तरह improvise करते थे. सामने वाले को पता नहीं होता था कि वे क्या करने वाले हैं? उनके साथ कई फिल्मों में काम कर चुके जूनियर महमूद ने एक इंटरव्यू में बताया था, “जब शूट खत्म होता था तो महमूद के लिए खूब तालियां बजाई जाती थीं. वे अकेले हास्य कलाकार थे जिनकी फोटो पोस्टर में हीरो के साथ रहती थी. चाहे हीरो कोई भी हो, कितना भी बड़ा हो. दर्शक फिल्म देखने सिर्फ इसलिए जाते थे क्योंकि उसमें महमूद होते थे. डायरेक्टर लोगों को ये बात अच्छे से मालूम थी कि अगर फिल्म हिट करवानी है तो उन्हें लेना ही होगा. खास बात ये कि महमूद को कभी किसी ने किसी सीन की रिहर्सल करते हुए नहीं देखा था. वे जो भी करते थे लाइव करते थे.”



#15 ‘पड़ोसन’ में किशोर कुमार, मन्ना डे के साथ गाया

1968 में रिलीज हुई ‘पड़ोसन’ फिल्म में “एक चतुर नार” गाने के दौरान महमूद उलझन में फंस गए थे. इस गाने में एक क्लासिकल और एक देसी उस्ताद के बीच मुकाबला दिखाया गया है. एक ओर महमूद थे जो सायरा बानो के कैरेक्टर बिंदू के तमिल उस्ताद बने थे. दूसरी ओर सुनील दत्त के कैरेक्टर भोला के गुरु थे किशोर कुमार. अपनी-अपनी खिड़की में खड़े होकर दोनों जुलगबंदी करते हैं. किशोर कुमार ने गाना कंपोज किया था. गाने के अंत में क्लासिकल गाने वाला गुरु हार जाता है. किशोर के साथ गायकी के लिए महमूद ने मन्ना डे से बात की. वे बिलकुल राजी नहीं थे कि बेसुरे देसी गुरु से वे कैसे हार सकते हैं. ऐसे कौन से सुर हैं जो उनके सुर को हरा देंगे. तो महमूद ने मन्ना को बताया कि किशोर ने अपने सुर बना लिए हैं जो ऊट-पंटाग थे. खैर, बहुत मिन्नत के बाद मन्ना डे माने. लेकिन गाने में वो हिस्सा जहां मन्ना डे के सुर गड़बड़ा जाते हैं, बताया जाता है कि वो हिस्सा महमूद ने गाया.


saira-kr5H--621x414@LiveMint


https://www.thelallantop.com/jhamajham/the-other-father-of-amitabh-bachchan-legendary-actor-mehmood-ali-who-gave-us-films-like-padosan-bombay-to-goa-kunwaara-baap/

अगला लेख: लालू के ज्योतिषी ने तेजस्वी पर की बड़ी भविष्यवाणी, बताया-रावण जैसा अहंकारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2018
पटना:पुलिसवालों का काम समाज में कानून की रखवाली और शांति बनाए रखना है। जनता की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिसवालों की ही है।आमतौर पर आपने सुना होगा कि पुलिसवाले ही सबका बैंड बजाते हैं लेकिन इस बार कुछ अलग हुआ है। बिहार में एक 14 साल के लड़के ने पुलिसवालों का बाजा बजा दिया।बा
09 जुलाई 2018
28 जुलाई 2018
विशाखापट्टनम से चली थी, यूपी में बस्ती तक पहुंचना था.भारतीय रेलवे की जय हो. इतनी अद्भुत कहानी सामने आई है कि जय हो कहने के सिवाए कुछ और मुख से निकलता नहीं है. कुछ दिन पहले जापान रेलवे की खबर सुनी थी कि ट्रेन एक मिनट लेट हुई और तमाम रेलवे अधिकारियों ने सामूहिक माफीनामा जार
28 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
रिएलिटी शो बिग बॉस 11 की विनर शिल्पा शिंदे का हाल ही में कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। दरअसल, शिल्पा ने एक कार खरीदी है जिसकी तस्वीरें उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर फैंस के साथ शेयर की हैं।तस्वीरों में वो कार की चाभी लेते हुए नजर आ रही हैं और काफी खुश भी लग रही हैं। खबरों के मुताबिक शिल्पा ने Me
23 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
हम अकसर अपने पहले की जेनरेशन को खुद से पीछे मानते हैं, फिर वो पढ़ाई हो या फिर फ़ैशन. लेकिन हम ये भूल जाते हैं कि हम आज जहां भी हैं, इसमें सबसे बड़ा हाथ हमारे पीछे की जेनरेशन का ही है. हम आपको कुछ देशों के ऐसे ही फ़ैशन की तस्वीरें दिखाते हैं. लेकिन ये तस्वीरें आज की नहीं ह
27 जुलाई 2018
05 अगस्त 2018
दोस्त इंसान के जीवन में अलग ही रिश्ते में बंधे होते हैं जिनसे खून का रिश्ता नहीं होता लेकिन उनका साथ निभाने के लिए लोग खून के रिश्तों को भी नजरअंदाज कर जाते हैं। दोस्ती का रिश्ता दिल से बना होता है और इन्हें हम जब तक चाहें निभा सकते हैं। अगर किसी ने ये रिश्ता दिल से नहीं निभाया तो उनके जीवन में बहुत
05 अगस्त 2018
31 जुलाई 2018
'तूने मेरे जाना, कभी नहीं जाना. इश्क़ मेरा, दर्द मेरा'... ये गाना याद तो होगा? इस गाने के साथ ये कहानी भी मशहूर हुई थी कि इस गाने को लिखने वाले रोहन राठौड़ को कैंसर था.हालांकि इसमें कोई सच्चाई नहीं थी. इस बेहतरीन गाने को गजेंद्र वर्मा ने गाया था.गजेंद्र वर्मा का ही एक और
31 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
हम सबकी ज़िंदगी में एक न एक शख़्स ऐसा होता ही है, जिसे कैमरे के पीछे रहने का शौक होता है और वो सबकी तस्वीरें भले खींच ले, लेकिन खुद तस्वीरों में कम ही नज़र आता है. इसके अलावा वर्तमान में टेक्नोलॉजी के बेहतर होने के साथ ही फ़ोटो खींचना भी बेहद आम और आसान हो चुका है. घूमते
22 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
हम अकसर अपने पहले की जेनरेशन को खुद से पीछे मानते हैं, फिर वो पढ़ाई हो या फिर फ़ैशन. लेकिन हम ये भूल जाते हैं कि हम आज जहां भी हैं, इसमें सबसे बड़ा हाथ हमारे पीछे की जेनरेशन का ही है. हम आपको कुछ देशों के ऐसे ही फ़ैशन की तस्वीरें दिखाते हैं. लेकिन ये तस्वीरें आज की नहीं ह
27 जुलाई 2018
13 जुलाई 2018
एक सर्वे के अनुसार 10 प्रतिशत तस्वीरें पिछले 12 महीनों में ख़ीची गई हैं. वजह साफ़ है, इतने सारे स्मार्ट फ़ोन, उसमें शानदार कैमरा, बेहतरीन फ़ोटो फ़िल्टर्स. हर किसी का फ़ोटो ख़ींचने का दिल करेगा. ख़ाली बैठा इंसान सेल्फ़ी ही लेता है. सौ सेल्फ़ी क्लिक करेगा, तो एक दो तो अच्छी
13 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
टीवी पॉपुलर सीरियल "कसौटी जिंदगी की-2" एक दशक बाद फिर से दर्शकों के बीच होगा। हाल ही में मोस्ट अवेटेड सीरियल का प्रोमो लॉन्च कर दिया गया है। लेकिन इस बार स्टार कास्ट पूरी बदल दी गई है। प्रोमो के लिए लोग एकता को बधाई भी दे रहे है। वहीं कसौटी ज‍िंदगी में प्रेरणा का किरदार न‍िभा चुकी श्वेता त‍िवारी ने
23 जुलाई 2018
30 जुलाई 2018
जुगाड़ की सबसे अच्छी बात ये होती है कि वो पैसे और मेहनत दोनों की बचत करता है और ये देखने में भी कूल लगता है. जुगाड़ की पढ़ाई भी नहीं होती, फिर भी देश में जुगाड़ुओं की कोई कमी नहीं है. एक ढूंढोगे, हज़ार मिलेंगे. आज हम आपको कुछ नए जुगाड़ुओं की प्रतिभा से रूबरू कराएंगे. देखत
30 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
बॉलीवुड फ़िल्मों का एक वो दौर था, जब हीरो-हीरोइन स्टूडियो में ही रुकी हुई गाड़ी में गाना गाते और नाचते थे, और जब फ़िल्म पर्दे पर आती थी तो दिखता था कि गाड़ी तेज़ स्पीड में सड़क पर दौड़ रही है. ठीक वैसे ही उस दौर में हीरो और गुंडों के बीच होने वाली फ़ाइटिंग में ढिशूम-ढिशूम की आवाज़
17 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
लगता है वर्ष 2018 सिनेमा जगत के अच्छा नहीं है। तभी तो एक के बाद एक दुखद खबर लोगों के बीच आ रहे हैं। ताजा अपडेट के अनुसार फिल्‍म और टीवी जगत से एक बुरी खबर आई हैं। दिग्‍गज अभिनेत्री रीता भादुड़ी अब हमारे बीच नहीं रहीं। ‘निमकी मुखिया’ में दादी के किरदार से घर-घर में मशहूर ह
17 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
संजू ने कई सारी जिंदगियों को बदल कर रख दिया। फिल्म से संजय दत्त की छवि पर पड़ी धूल काफी हद तक साफ हो गई, रणबीर कपूर का लड़खड़ाता हुआ करियर एकाएक संभल गया। इन सबसे अलग फिल्म ने कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले। फिल्म को रिलीज हुए काफी वक्त हो चुका है लेकिन अभी भी उसी दिल्लगी
18 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
लगता है वर्ष 2018 सिनेमा जगत के अच्छा नहीं है। तभी तो एक के बाद एक दुखद खबर लोगों के बीच आ रहे हैं। ताजा अपडेट के अनुसार फिल्‍म और टीवी जगत से एक बुरी खबर आई हैं। दिग्‍गज अभिनेत्री रीता भादुड़ी अब हमारे बीच नहीं रहीं। ‘निमकी मुखिया’ में दादी के किरदार से घर-घर में मशहूर ह
17 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
1. दोस्तों इस तस्वीर को देखकर बताएं कि देश का असली हीरो कौन है।Third party image reference2. इस तस्वीर में एक नाम लिखा हुआ है, क्या आप बता सकते हैं वह नाम क्या है।Third party image reference3. दोस्तों इस तस्वीर को पहले ध्यान से देखें और हमें बताएं कि कौन सी टंकी सबसे पहले
19 जुलाई 2018
09 जुलाई 2018
पटना: बिहार की सियासत में जहां राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव को अगले सीएम के रूप में देखा जा रहा है. वहीं देश भर में प्रख्यात और उनके परिवार के राज ज्योतिष पंडित शंकर चरण त्रिपाठी की भविष्यवाणी सीधे इसके उलट है. इन दिनों जहां तेजस्वी की पॉलिटिक्स में बहुत
09 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x