परवाना बना दिया

23 जुलाई 2018   |  vikas khandelwal   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

तेरी याद ने दिवाना बना दिया



शमा बनके जो जली हो तुम



हमको उमर भर जलने वाला,



परवाना बना दिया



तेरी याद ने दिवाना बना दिया



मुझको तस्वीरें तुम्हारी ,



कुछ जो दि थी तुमने



अपने दिल कि दीवारों पे



सज़ा के तस्वीरें तुम्हारी



मैंने दिल को अपने,



खुदा का मन्दिर बना दिया



तेरी याद ने दिवाना बना दिया











अगला लेख: वो तो आसमा का चाँद था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2018
ज़ि
हाथ से रेत फिसलती रही वक़्त के साथ दुनिया बदलती रही जिन्दगी तुझे देखा तो तबियत बिमार कि बहलती रही हाथ से रेत फिसलती रही मौसम को भी
15 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
वो
फिर मन उदास हो गया जो कल तक था अपना वो आज , किसी और के लिए ख़ास हो गया कल तक खिलखिलाती थी गज़ले मेरी उसकी बेबाक शोख़ी में डूबी नज़्मे मेरी कागज़ कि खिड़की से झाकत
24 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
ठहरे पानी में पत्थर उछाल दिया है । उसने यह बड़ा कमाल किया है ।वह तपाक से गले मिलता है आजकल । शायद कोई नया पाठ पढ़ रहा है आजकल । आँखों की भाषा भी कमाल है । एक गलती और सब बंटाधार है ।
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
अपने अन्दर जलते हुए अपने अरमान देखे भड़के हुए शोलो की आग से हाथ सेकते हुए इन्सान देखे क्या सोचा था और क्या देखा हमने अपने लोगो को बदलते देखा काफी दिन हुए आईना देखे हुए
23 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x