वो तो आसमा का चाँद था

24 जुलाई 2018   |  vikas khandelwal   (44 बार पढ़ा जा चुका है)

फिर मन उदास हो गया


जो कल तक था अपना


वो आज , किसी और के लिए ख़ास हो गया


कल तक खिलखिलाती थी गज़ले मेरी


उसकी बेबाक शोख़ी में डूबी नज़्मे मेरी


कागज़ कि खिड़की से झाकती वो कविता मेरी


तेरे लबों को छु के आती शायरी मेरी


आज सब ख़ामोश है


धड़कनो का शोर भी खामोश है


टूटे हुए दिल के साज़ खामोश है


रोती है आँखे और ,


तन्हाई लिए होंठ खामोश है


कोई जवाब नहीं है ,


खुदा के पास मेरे सवाल का


आज ख़ुदा भी खामोश है


आ के मर जाए दिल मेरे


खत्म जब प्यार का , हर अहसास हो गया


कल रात के बाद जो गया


वो तो आसमां का चाँद था ,

जिसे तुम अपना समझ बैठे थे


सुबह कि रौशनी का साथ पाके


जो नज़रो से ओझल हो गया


फिर मन उदास हो गया

अगला लेख: जबसे खुदा बना हु



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2018
बकौल मोहब्बत वो मुझसे पूछता है दिल के मकान के उस कमरे में क्या?अब भी कोई रहता है। थोड़ा समय लगेगा,ध्यान से सुनना बड़ी शिद्दत से बना था वो कमराकच्चा था पर उतना ही सच्चा था उसे भी मालूम था कि उसकीएक एक ईंट जोड़ने में मेरीएक एक धड़कन निकली थी इकरारनामा तो थापर उस पर उसके दस्तख़त
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
ठहरे पानी में पत्थर उछाल दिया है । उसने यह बड़ा कमाल किया है ।वह तपाक से गले मिलता है आजकल । शायद कोई नया पाठ पढ़ रहा है आजकल । आँखों की भाषा भी कमाल है । एक गलती और सब बंटाधार है ।
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
कोईअस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |कोईअर्थ न हो मौन का,यदि निश्चित नहो वहाँ कोई ध्येय |मौनका लक्ष्य है प्रेम,मौन मौन कालक्ष्य है दया मौनका लक्ष्य है आनन्द,और मौन मौन काहै लक्ष्य संगीत भी |मौन, ऐसा गीत जो कभीगाया नहीं गया,फिरभी मुखरित हो गया |मौन, ऐसा
17 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x