आज का शब्द (१४)

24 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (252 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (१४) - शब्द (shabd.in)

कौमुदी :

१- चाँदनी


२- ज्योत्सना


३- चंद्रप्रभा


४- चन्द्रिका


५- मालती


प्रयोग : बर्फ से ढकी, कौमुदी में नहाई घाटी ऐसी चमक रही थी मानो चाँद धरा पर उतर आया हो I

अगला लेख: आज का शब्द (३)



पूनम जी, आभार !

poonamsingh
24 अप्रैल 2015

सुन्दर प्रयोग जानकारी के लिए धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अप्रैल 2015
यार मदारी! तुम अच्छे हो; रस्सी पर चल लेते हो, लोहे के छल्ले से कैसे ये करतब कर लेते हो? एक पैसे से दो फिर दो से, चार उन्हें कर देते हो; हाँ तो जमूरे कह-कह के, क्या से क्या कर देते हो I कालू-भालू और बंदरिया सबको नचाते एक उंगली पर, एक डुगडुगी की थापों पर सबका मन हर लेते हो I जीवन की पगडंडी पर, मु
11 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
किंकर्तव्यविमूढ़ : १-दुविधा की स्थिति, २-भौचक्का या अवाक रह जाना, ३-जो यह न समझ सके की उसे अब क्या करना चाहिए जैसे-आपको कोई एक निर्णय तो लेना ही होगा कि जीवन में नौकरी करोगे या व्यापार, लेकिन इस तरह किंकर्तव्यविमूढ़ होकर बैठने से कोई लाभ नहीं होगा I शुक्रवार, १० अप्रैल, २०१५
11 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
पाचक : १- रसोइया, बावर्ची, खानसामा; प्रयोग : हमारा पाचक अत्यंत स्वादिष्ट भोजन बनाता है I २-वह पदार्थ जो खाई हुई चीज़ को पचाता हो या पाचन शक्ति बढ़ाता हो; प्रयोग : प्राकृतिक वस्तुओं से बना अवलेह सर्वोत्तम पाचक होता है I ►'अवलेह' का अर्थ होता है, किसी वस्तु का गाढ़ा लसीला रूप जैसे गाढ़ी औषधि आदि I
11 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
25 अप्रैल 2015
14 अप्रैल 2015
23 अप्रैल 2015
16 अप्रैल 2015
20 अप्रैल 2015
10 अप्रैल 2015
11 अप्रैल 2015
सा
13 अप्रैल 2015
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x