कांवड़ यात्रा

26 जुलाई 2018   |  Pratibha Bissht   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

 कांवड़ यात्रा

भगवान शिव की आराधना के लिये फाल्गुन की महाशिवरात्रि के पश्चात सावन शिवरात्रि भी बाला भोलेनाथ की आराधना का खास पर्व माना जाता है। सावन माह तो विशेष रूप से भगवान शिव का प्रिया मास माना जाता है। दोनों ही अवसरों पर शिवभक्त गोमुख, ऋषिकेश से हरिद्वार तक से पदयात्रा करते हुए गंगाजल लाकर शिवरात्रि के दिन अपने आराध्य भगवान शिवशंकर का जलाभिषेक करते हैं। यही यात्रा कांवड़ यात्रा कही जाती है। सावन के महीने में बरसात का मौसम होता है इसलिये शिवभक्त इस समय अधिक मात्रा में कांवड़ लेकर आते हैं। प्रशासन से लेकर स्थानीय नागरिकों द्वारा शिवभक्तों की सेवा हेतु जगह-जगह पर शिविर भी लगाये जाते हैं। कांवड़ यात्रा के भी भिन्न-भिन्न रूप हैं। आइये जानते हैं कांवड़ यात्रा के महत्व के बारे में।

कांवड़ का महत्व : भगवान भोलेनाथ की छवि ऐसे देव के रूप में मानी जाती है जिन्हें प्रसन्न करने के लिये केवल सच्ची श्रद्धा से थोड़े से प्रयास करने होते हैं। भोलेनाथ अपने भक्तों पर इसी से कृपा बरसा देते हैं। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिये फाल्गुन और श्रावण मास में कांवड़ लाने की बहुत अधिक मान्यता है। हर साल करोड़ों शिवभक्त कांवड़ लेकर आते हैं। मान्यता है कि इससे शिवभक्तों के बिगड़े या अटके हुए कार्य संपन्न हो जाते हैं। भगवान शिव शंकर की कृपा से शिवभक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

कावंड शिव की ही आराधना का ही एक रूप है| इस यात्रा के दौरा जो शिव की आराधना कर लेता है वो धन्य हो जाता है| कावंड का अर्थ है परात्पर शिव के साथ विहार अर्थात ब्रह्मा यानी परात्पर शिव, जो उनमे रमन करे वह कांवरिया | इस बार कांवड़ यात्रा 28 जुलाई से शुरू होगी

कैसे शुरू हुई कांवड़ परंपरा: कांवड़ परंपरा के आरंभ होने की कई कथाएं मिलती हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं-माना जाता है कि सर्वप्रथम भगवान परशुराम ने कांवड़ के जरिये गंगाजल लाकर भगवान शिव का जलाभिषेक किया था। वहीं मान्यता यह भी है कि कांवड़ की परंपरा श्रवण से शुरु हुई थी जिसने अपने नेत्रहीन माता-पिता की इच्छानुसार गंगा स्नान करवाया था। इसके लिये श्रवण अपने माता-पिता को कांवड़ में बैठाकर हरिद्वार लेकर गये थे।

वहीं कुछ मत समुद्र मंथन से भी जुड़े हैं इनके अनुसार मान्यता यह है कि समुद्र मंथन से निकले विष को भगवान शिव ने अपने कंठ में धारण तो कर लिया जिससे वे नीलकंठ भी कहलाए लेकिन इससे भगवान शिव पर बहुत सारे नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगे। इन्हें दूर करने के लिये उन्होंने चंद्रमा को अपने मस्तक पर धारण कर लिया। इसके साथ ही देवताओं ने उनका गंगाजल से अभिषेक किया। यह महीना श्रावण का ही बताया जाता है। इसी से मिलती जुलती अन्य मान्यता है कि नीलकंठ भगवान शिवशंकर पर विष के नकारात्मक प्रभाव होने लगे तो शिवभक्त रावण ने पूजा-पाठ करते हुए कांवड़ के जरिये गंगाजल लाकर भगवान शिव का जलाभिषेक किया जिससे भगवान शिव नकारात्मक प्रभावों से मुक्त हुए। मान्यता है कि तभी से कांवड़ की परंपरा का आरंभ हुआ।

कांवड़ के प्रकार : कांवड़ में सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण तत्व या कहें कांवड़ का मूल गंगाजल होता है। क्योंकि गंगाजल से ही भगवान शिव का अभिषेक किया जाता है। गंगाजल को लोग अनेक प्रकार से लेकर आते हैं। इसमें दो तरीके प्रमुख हैं व्यक्तिगत रूप से कांवड़ लाना और सामूहिक रूप से कांवड़ लाना। पैदल चलते हुए कांवड़ लाना और दौड़कर कांवड़ लाना।

पैदल कांवड़ – पैदल कांवड़ अधिकतर व्यक्तिगत रूप से ही लाई जाती है। लेकिन कई बार अपने प्रियजन की असमर्थता के कारण उनके नाम से भी कुछ लोग कांवड़ लेकर आते हैं। इसमें कांवड़ यात्री को यह ध्यान रखना होता है कि जिस स्थल से उसे कांवड़ लेकर आनी है और जहां उसे भगवान शिव का जलाभिषेक करना है उसकी दूरी क्या है। उसी के अनुसार अपनी यात्री की योजना बनानी होती है। उसे शिवरात्रि तक अपने जलाभिषेक स्थल तक पंहुचना होता है। पैदल कांवड़ यात्री कुछ समय के लिये रास्ते में विश्राम भी कर सकते हैं।

डाक कांवड़ – डाक कांवड़ बहुत तेजी से लाई जाने वाली कांवड़ है इसमें कांवड़ियों का एक समूह होता है जो रिले दौड़ की तरह दौड़ते हुए एक दूसरे को कांवड़ थमाते हुए जल प्राप्त करने के स्थल से जलाभिषेक के स्थल तक पंहुचता है। इसमें कांवड़ यात्रियों को रूकना नहीं होता और लगातार चलते रहना पड़ता है। जब एक थोड़ी थकावट महसूस करता है तो दूसरा कांवड़ को थाम कर आगे बढ़ने लगता है |

कावंड़ एक सजी-धज्जी, भार में हल्कि पालकी होती है जिसमें गंगाजल रखा होता है। हालांकि कुछ लोग पालकी को न उठाकर मात्र गंगाजल लेकर भी आ जाते हैं। मान्यता है कि जो जितनी कठिनता से जितने सच्चे मन से कांवड़ से कांवड़ लेकर आता है उसपर भगवान शिव की कृपा उतनी ही अधिक होती है।

अन्‍य कहानियां भी हैं प्रचलित: परशुराम की कहानी के अलावा एक अन्‍य कहानी के अनुसार जब समुद्र मंथन हुआ तब उसमें से निकले विष को शिव जी ने पी लिया था। मां पार्वती जी को यह पता था कि यह विष बेहद खतरनाक है इसलिए उन्‍होंने शिव जी के गले में ही इसे रोक दिया। फिर इस विष को कम करने के लिए गंगा जी को बुलाया गया था तभी से सावन के महीने में शिव जी को गंगा जल चढ़ाने की पंरपरा बन गई।

पुराणों के अनुसार भगवान परशुराम ने अपने शिव जी की पूजा के लिए भोलेनाथ के मंदिर की स्थापना की जिसके लिए उन्‍होंने कांवड़ में गंगा जल भरा और जल से शिव जी का अभिषेक किया था। इसी दिन से कांवड़ यात्रा की पंरपरा की शुरुआत हो गई।

कावड़ यात्रा का क्या मिलता है फल: संतान की बाधा व उनके विकास के लिए, मानसिक प्रसन्नता हेतु, मनोरोग के निवारण के लिए, आर्थिक समस्या के समाधान हेतु कावड़ यात्रा शीघ्र व उत्तम फलदायी है। कावड़ यात्रा किसी भी जलस्रोत से किसी भी शिवधाम तक की जाती है।

कावंड की प्रमुख यात्राये :

1. नर्मदा से महाकाल तक

2. गंगाजी से नीलकंठ महादेव तक

3. गंगा से बैजनाथ धाम (बिहार) तक

4. गोदावरी से त्र्यम्बक तक

5. गंगाजी से केदारेश्वर तक

कांवड़ यात्रा के नियम-

1. इस यात्रा में किसी भी प्रकार का नशा करने की मनाही है|

2. शराब नही पी सकते है.मांस का सेवन इस यात्रा के दौरान वर्जित है|

3. कांवड़ को जमीन पर नही रख सकते हैं|

4. चमड़े से बने सामान, वस्त्रो को छूना,धारण करना मना है|

5. यात्रा में “बोल बम” “हर हर महादेव” के नारे लगाना चाहिये|

6. इस यात्रा को पैदल ही करना चाहिये|वाहन पर सवार होकर यात्रा करने से पुण्य नही मिलता है|

अगला लेख: स्कूलों से शारीरिक दंड को खत्म करने के लिए महाराष्ट्र सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2018
सोमवार को अपने बहुत ही प्रचारित प्राइम डे पर शुरुआती कठिनाई के कारण तकनीकी कंपनी को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा |अमेरिका में ३ बजे ईटी लॉन्च के बाद प्राइम डे लिंक पर खरीदारी करने वाले शॉपर्स को केवल कुत्तों की छवियां प्राप्त हुई - कुछ ब
17 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
यह उस समय एक अच्छा विचार प्रतीत होता था - मार्क कार्नी और उसके बैंक ऑफ इंग्लैंड के सहयोगियों को साथ वेस्टमिंस्टर कमेटी रूम में बैठ कर पकने के बजाय, फर्नबोरो में एक दिन का आनंद क्यों नहीं लेते?आखिरकार,लंदन के ४० मील दक्षिण पश्चिम में हैम्प
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
किली जेनर और ट्रेविस स्कॉट इस महीने के जीक्यू पत्रिका के कवर पर चित्रित होंगे। ट्रैविस अपने ड्रेडलॉक्स में काले धारीदार सूट के साथ दिख रहे है, जबकि किली को काले पोशाक में देखा जाता है। पत्रिका ने दृश्य क
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
लिवरपूल ने पिछले कुछ सालों में कोच जुर्गन क्लॉप के तहत प्रीमियर लीग और यूईएफए चैंपियंस लीग दोनों में काफी उन्नतिकी है| 2017-18 के जबरदस्त कैंपेन बाद, एन्फील्ड समर्थक अपने को फुटबॉल के एक और शानदार सीजन के लिए तैयार कर रहे है और क्लब के प्र
19 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने हरिस सोहेल को जिम्बाब्वे दौरे से घर लौटने की इजाजत दे दी है।हरिस सोहेल ने पाकिस्तान टीम प्रबंधन से जिम्बाब्वे दौरे से अपनी बेटी की बीमारी के चलते घर वापिस लौटने के लिए अनुरोध किया
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
इस गर्मी की डूबने वाली रोकथाम और जल सुरक्षा अभियान के संयोजन के साथ यह हमारी जल सुरक्षा श्रृंखला की तीसरी किस्त है। यह अभियान हमारे सामुदायिक जोखिम न्यूनीकरण कार्यक्रम का हिस्सा है। लाइफ जैकेट (पर्सनल फ्लोटेश
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
बि
लगभग २ सप्ताह पहले, लोकप्रिय क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज, बिनेंस को सिस्कोन (एसवाईएस) के संबंध में कुछ अनियमित ट्रेड के कारण १२ घंटों तक ट्रेड रोकना पड़ा जो की इंटरनल रिस्क मैनजमेंट सिस्टम द्वारा नोटिस किय
18 जुलाई 2018
12 जुलाई 2018
हंगरी इस साल लागू तीसरा शेंगेन वीजा है। साल का मेरा पहला चेक गणराज्य के लिए था। यह मेरी बेटी और भतीजी के साथ व्यक्तिगत यात्रा के लिए था। दूसरा स्पेन की ब्लॉगिंग यात्रा के लिए था जहां वीज़ा प्राप्त करना आसान था क्योंकि मुझे पर्यटन बोर्ड द्वारा सहायता मिली थी! फिर भी, मुझे स्पेन के लिए प्रलेखन पूरा कर
12 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x