पाकिस्तान में अहमदियों को मुस्लिम नहीं माना जाता

26 जुलाई 2018   |  Pratibha Bissht   (91 बार पढ़ा जा चुका है)

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रबवाह शहर के लोग बीते 41 साल से चुनावों में वोट नहीं डालते। दरसअल, 1977 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो ने उन्हें गैर-मुस्लिम वर्ग में वोट का अधिकार दिया। इससे वे नाराज हो गए और तभी से अपने मताधिकार का इस्तेमाल करना बंद कर दिया। रबवाह शहर की आबादी करीब एक लाख है और यहां 90 फीसदी से ज्यादा अहमदी हैं।

मुस्लिम नहीं माने जाने की वजह से अहमदियों में सरकार के प्रति बहुत गुस्सा है। इससे डरे उम्मीदवार चुनाव में उनके इलाकों में प्रचार करने तक नहीं जाते। वहां कोई नेताओं के बैनर-पोस्टर लगाने भी नहीं जाता। देशभर में करीब पांच लाख अहमदी हैं। जानकारों का मानना है कि वे चुनाव पर बड़ा असर डाल सकते हैं। इस मामले में चुनाव आयोग भी कोई दखल नहीं देता। उसका कहना है कि वह कानून का पालन कर रहा है जिसे वह खुद भी नहीं बदल सकता।

इस्लामिक पार्टियां भी अहमदियों की विरोधी हैं। उनका मानना है कि इन्हें मुस्लिम समुदाय का शामिल किया गया तो उनके हाथ से उनका परंपरागत रूढ़िवादी वोटर फिसल जाएगा।

पिछले साल ही अहमदियों को मुस्लिम समुदाय में शामिल करने के लिए कानून में बदलाव का प्रस्ताव दिया गया था। लेकिन इस्लामिक संगठनों ने इसका सड़क से संसद तक विरोध शुरू कर दिया। उधर, पाकिस्तान के राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि अगर अहमदियों को चुनाव में हिस्सा लेने दिया जाए तो सिर्फ पंजाब में ही करीब २० सीटों पर कड़ा मुकाबला हो सकता है। अहमदी समुदाय का उदय 1889 में ब्रिटिश भारत में हुआ था। ये लोग पैगंबर मोहम्मद के साथ संस्थापक मिर्जा गुलाम अहमद को भी पैगंबर का दर्जा देते हैं,

जबकि सुन्नी बहुसंख्यक इसे मानने से इनकार करते हैं। पाकिस्तान में कानूनन अहमदियों को उनके इबादतगाहों को मस्जिद कहने का हक नहीं है। वे कुरान और दूसरे इस्लामिक अभिवादन का इस्तेमाल भी नहीं कर सकते। हालांकि,अहमदी इस कानून को नहीं मानते।

अगर अहमदी पासपोर्ट प्राप्त करना चाहते हैं तो उन्हें मिर्जा गुलाम अहमद के प्रति निष्ठा के खिलाफ शपथ लेने और शपथ ग्रहण करना होगा। अगर वे चुनाव में मतदान करना चाहते हैं, तो उन्हें या तो अपने विश्वास को त्यागना होगा या खुद को 'गैर-मुस्लिम' के रूप में नामांकित करना होगा। ज्यादातर अहमदी अपने विश्वास की निंदा नहीं करेंगे और इसलिए वे मतदान से दूर रहना चुनते हैं। अगर अहमदी वास्तव में गैर-मुसलमानों के रूप में पंजीकृत हैं, तो उन्हें अलग बूथों में मतदान करने के लिए कहा जाता है।

वे सार्वजनिक रूप से अपने धर्म का दावा नहीं कर सकते हैं और उन्हें मस्जिद बनाने से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

अहमदीस की कैच -२२ स्थिति हज को करने से रोके जाने के तरीके में सबसे स्पष्ट है। अगर उन्हें पासपोर्ट प्राप्त करना है तो उन्हें अपनी आस्था को निंदा करना होगा और एक घोषणा पर हस्ताक्षर करना होगा जो कहता है: 'मैं मिर्जा गुलाम अहमद कदियानी को एक नपुंसक नबी मानता हूं और अपने अनुयायियों पर भी विचार करता हूं ... गैर-मुस्लिम होने के लिए।'

पासपोर्ट प्राप्त करने का दूसरा तरीका गैर-मुस्लिम के रूप में इसके लिए आवेदन करना है। लेकिन,यदि आप एक गैर-मुस्लिम हैं तो आप हज करने के लिए मक्का यात्रा नहीं कर सकते हैं। उन्होंने अहमदी प्रकाशनों पर प्रतिबंध लगा दिया, साथ ही अहमदी शादी के निमंत्रण पर किसी भी इस्लामी शब्दावली के उपयोग , अहमदी अंतिम संस्कार की प्रार्थना पर भी |

अगला लेख: स्कूलों से शारीरिक दंड को खत्म करने के लिए महाराष्ट्र सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2018
किली जेनर और ट्रेविस स्कॉट इस महीने के जीक्यू पत्रिका के कवर पर चित्रित होंगे। ट्रैविस अपने ड्रेडलॉक्स में काले धारीदार सूट के साथ दिख रहे है, जबकि किली को काले पोशाक में देखा जाता है। पत्रिका ने दृश्य क
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
बि
लगभग २ सप्ताह पहले, लोकप्रिय क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज, बिनेंस को सिस्कोन (एसवाईएस) के संबंध में कुछ अनियमित ट्रेड के कारण १२ घंटों तक ट्रेड रोकना पड़ा जो की इंटरनल रिस्क मैनजमेंट सिस्टम द्वारा नोटिस किय
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
जो
जो रूट के शतक (१०० नाबाद) और उनके तथा इयोन मॉर्गन (८८ नाबाद) के बीच हुई शतकीय भागीदारी की मदद से इंग्लैंड ने मंगलवार को भारत को तीसरे और निर्णायक वनडे में ८ विकेट से रौंदा। भारत ने विराट कोहली के अर्द्धशतक (
18 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x