किसान की कुर्बानी

27 अप्रैल 2015   |  वैभव दुबे   (319 बार पढ़ा जा चुका है)

किसान की कुर्बानी

राजनीति की बेदी पर एक और किसान कुर्बान हुआ।
ठुकराया जिसे धरती ने ,बेदर्द बहुत आसमान हुआ।


सोचा था अब वक़्त आ गया दुःख सारे मिट जायेंगे
मगर गीली माटी में मिल ओझल निज अरमान हुआ।


लाशों पर बिछा हुआ बिस्तर काले नोटों का।
कब थमेगा सिलसिला इन मासूम मौतों का?


जिस दिल में सपने पलते थे दिल का दौरा पड़ गया।
जिस बदन ने सींचा खेतों को जहर से नीला पड़ गया।


परिजन के आंसू सूख गए,सिसकियाँ भी दम तोड़ रहीं
झूठे वादों ने मुहँ फेर लिया ,बोझ कर्ज का बढ़ गया।


रक्त से भरता रहेगा बैंक सत्ता के वोटों का।
कब थमेगा सिलसिला इन मासूम मौतों का?


आत्महत्या के बाद जो तुमने धन देने का ऐलान किया।
आधा ही दे देते पहले,क्यूँ दाता का घर शमशान किया?


प्राकृतिक आपदा पर तो मनुष्य का है नहीं जोर कोई
मुर्दे को पानी पिला कर तुमने कौन सा एहसान किया?


दीन दुर्दशा किसान की दर्द कराह उठा होंठों का।
कब थमेगा सिलसिला इन मासूम मौतों का?


वैभव”विशेष”

अगला लेख: एक फूल एक बचपन।



अमित
16 अक्तूबर 2015

सच में एक वास्तविक सच्चाई की बेहतरीन अनुभूति आप के द्वारा \

सुन्दर अभिव्यक्ति !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अप्रैल 2015
ये वृक्ष हमने ही बोया था जिसके फल में भी कांटे हैं| जो छाया देते थे हमको निज स्वार्थ में वो ही काटे हैं | गौ हत्या,हवस ,वासना ढोंगी बाबा प्रवचन सुनाते हैं| यहीं हिसाब चुकाना है सबको ये पाप के बही खाते हैं| बेवक़्त हुई जो बारिश तो कितनों की अँधेरी रातें हैं| अब भयभीत हुए भूकम्पन से क्यों ईश्वर
30 अप्रैल 2015
03 मई 2015
जीवन जाने के बाद ये जाना जान की कीमत क्या होगी। फूलों की चादर ओढ़े हुए सम्मान की कीमत क्या होगी। माँ गंगा का किनारा है अभिमान की कीमत क्या होगी। जिसमें मिल सब एक हुए शमशान की कीमत क्या होगी? भूख से दम निकल गया घृत दान की कीमत क्या होगी। घृणित दृष्टि से देखा सबने स्नान की कीमत क्या होगी। रहने को नहीं
03 मई 2015
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x