नमोऽस्तु गुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या

27 जुलाई 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (76 बार पढ़ा जा चुका है)

नमोऽस्तु गुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या

मातृवत् लालयित्री च, पितृवत् मार्गदर्शिका,

नमोऽस्तु गुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या ||

वास्तव में ऐसी श्रद्धा और प्रज्ञा से युत होती है गुरु की सत्ता – गुरु की प्रकृति – जो माता के सामान ममत्व का भाव रखती है तो पिता के सामान उचित मार्गदर्शन भी करती है | आज गुरु पूर्णिमा का पावन पर्व है – हमारे विचार से सभी पर्वों में सबसे उत्तम पर्व है गुरु पूर्णिमा का पर्व | क्योंकि गुरु अपने ज्ञान रूपी अमृत जल से शिष्य के व्यक्तित्व की नींव को सींच कर उसे दृढ़ता प्रदान करता है और उसका रक्षण तथा विकास करता है | तो सर्वप्रथम तो समस्त गुरुजनों को श्रद्धापूर्वक नमन करते हुए सभी को गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ |

हमारे देश में पौराणिक काल से ही आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को गुरु पूजा के रूप में मनाया जाता है | इसी दिन पंचम वेद “महाभारत” के रचयिता कृष्ण द्वैपायन वेदव्यास का जन्मदिन भी माना जाता है और इसीलिए इसे “व्यास पूर्णिमा” भी कहा जाता है | और महर्षि वेदव्यास को ही आदि गुरु भी माना जाता है इसीलिए व्यास पूर्णिमा को ही गुरु पूर्णिमा भी कहा जाता है | भगवान वेदव्यास ने वेदों का संकलन किया, पुराणों और उपपुराणों की रचना की, ऋषियों के अनुभवों को सरल बना कर व्यवस्थित किया, पंचम वेद ‘महाभारत’ की रचना की तथा विश्व के सुप्रसिद्ध आर्ष ग्रन्थ ब्रह्मसूत्र का लेखन किया । इस सबसे प्रभावित होकर देवताओं ने महर्षि वेदव्यास को “गुरुदेव” की संज्ञा प्रदान की तथा उनका पूजन किया । तभी से व्यास पूर्णिमा को “गुरु पूर्णिमा” के रूप में मनाने की प्रथा चली आ रही है | बौद्ध ग्रन्थों के अनुसार ज्ञान प्राप्ति के पाँच सप्ताह बाद भगवान बुद्ध ने भी सारनाथ पहुँच कर आषाढ़ पूर्णिमा के दिन ही अपने प्रथम पाँच शिष्यों को उपदेश दिया था | इसलिये बौद्ध धर्मावलम्बी भी इसी दिन गुरु पूजन का आयोजन करते हैं |

गुरुपूजा के अवसर पर न केवल गुरुओं का स्वागत सत्कार किया जाता था, बल्कि माता पिता तथा अन्य गुरुजनों की भी गुरु के समान ही पूजा अर्चना की जाती थी | वैसे भी व्यक्ति के प्रथम गुरु तो उसके माता पिता ही होते हैं |

आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा से प्रायः वर्षा आरम्भ हो जाती है और उस समय तो चार चार महीनों तक इन्द्रदेव धरती पर अमृत रस बरसाते रहते थे | आवागमन के साधन इतने थे नहीं, इसलिए उन चार महीनों तक अर्थात चातुर्मास की अवधि में सभी ऋषि मुनि एक ही स्थान पर निवास करते थे | और इस प्रकार इन चार महीनों तक प्रतिदिन गुरु के सान्निध्य का सुअवसर शिष्य को प्राप्त हो जाता था और उसकी शिक्षा निरवरोध चलती रहती थी | क्योंकि विद्या अधिकाँश में गुरुमुखी होती थी, अर्थात लिखा हुआ पढ़कर कण्ठस्थ करने का विधान उस युग में नहीं था, बल्कि गुरु के मुख से सुनकर विद्या को ग्रहण किया जाता था | गुरु के मुख से सुनकर उस विद्या का व्यावहारिक पक्ष भी विद्यार्थियों को समझ आता था और वह विद्या जीवनपर्यन्त शिष्य को न केवल स्मरण रहती थी, बल्कि उसके जीवन का अभिन्न अंग ही बन जाया करती थी | इस समय मौसम भी अनुकूल होता था – न अधिक गर्मी न सर्दी | तो जिस प्रकार सूर्य से तप्त भूमि को वर्षा से शीतलता तथा फसल उपजाने की सामर्थ्य प्राप्त होती है उसी प्रकार गुरुचरणों में उपस्थित साधकों को ज्ञानार्जन की सामर्थ्य प्राप्त होती थी और उनके व्यक्तित्व की नींव दृढ़ होती थी जो उसके व्यक्तित्व के विकास में सहायक होती थी |

तो, हम सभी समस्त गुरुजनों के चरणकमलों में सादर अभिवादन करके उनका आशीर्वाद प्राप्त करें | जय गुरुदेव…..

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः

गुरुर्साक्षाद्परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः |

अज्ञानतिमिरान्धस्य ज्ञानान्जन्शलाकया

चक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः ||

अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम्

तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः |

अनेकजन्मसम्प्राप्तम कर्मबन्धविदाहिने

आत्मज्ञानप्रदानेन तस्मै श्री गुरवे नमः ||

ब्रह्मानन्दं परमसुखदं केवलं ज्ञानमूर्तिम्

द्वन्द्वातीतं गगनसदृशं तत्त्वमस्यादिलक्ष्यम् |

एकं नित्यं विमलमचलं सर्वधी साक्षिभूतम्

भावातीतं त्रिगुणरहितं सद्गुरुं तन्नमामि ||

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/07/27/guru-purnima/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जुलाई 2018
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में पूरे देश में उत्साह के साथ मनाया जाता है| भारतव र्ष में कई विद्वान गुरु हुए हैं, जिन्होंने सनातन धर्म (हिन्दू धर्म) के चारों वेदों की व्याख्या की थी| कहते है जैसे सूर्य की गर्मी से तपती भूमि को
22 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
गु
क्षण-प्रतिक्षण,जिंदगी सीखने का नाम सबक जरूरी नहीं,गुरु ही सिखाएजिससे शिक्षा मिले वही गुरु कहलाये जीवंत पर्यन्त गुरुओं से रहता सरोकार हमेशा करना चाहिए जिनका आदर-सत्कार प्रथम पाठशाला की गुरु माँ बनी दूजी शाला के शिक्षक गुरु बने सामाजिकता का पाठ माँ ने सिखाया शैक्षणिक स्तर शिक्षक ने उच्च बनाया नैतिक श
02 अगस्त 2018
17 जुलाई 2018
कोईअस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |कोईअर्थ न हो मौन का,यदि निश्चित नहो वहाँ कोई ध्येय |मौनका लक्ष्य है प्रेम,मौन मौन कालक्ष्य है दया मौनका लक्ष्य है आनन्द,और मौन मौन काहै लक्ष्य संगीत भी |मौन, ऐसा गीत जो कभीगाया नहीं गया,फिरभी मुखरित हो गया |मौन, ऐसा
17 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
शनिवार, 21 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : स्वाति 09:06 तक, तत्पश्चात विशाखा तिथि : आषाढ़ शुक्ल नवमी 13:43 तक, तत्पश्चात आषाढ़ शुक्
20 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
गुरुवार, 19 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या 19:56 तक, तत्पश्चाततुला चन्द्र नक्षत्र : हस्त 07:52 तक, तत्पश्चात चित्रा तिथि : आषाढ़ शुक्ल सप्तमी 13:3
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
फिल्म गुरु से तेरे बीना गीत एआर रहमान और चिन्मययी श्रीपाद द्वारा गाए जाते हैं, इसका संगीत एआर रहमान द्वारा रचित है और गीत गुलजार द्वारा लिखे गए हैं।गुरु (Guru )तेरे बिना (२००६)की लिरिक्स (Lyrics Of Tere Bina )[दम दारा दम दारा मस्त मस्तदारा दम दारातेरे बिना बेस्वादी बेस्वादी रतियाँ ओ सजना..तेरे ब
02 अगस्त 2018
24 जुलाई 2018
बुधवार, 25 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:38 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:16 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : मूल 18:20 तक, तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी 20:45 तक, तत्पश्चात आष
24 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
गुरु से माया माया गीत: यह गीत मैरीम टोलर, चिन्मययी श्रीपाड़ा और केर्थी सगाथिया की शानदार आवाज़ में है। माया माया संगीत एआर रहमान द्वारा रचित है और गीत गुलजार द्वारा लिखे गए हैं। मल्लिका शेरावत ने इस गीत पर प्रदर्शन किया है।गुरु (Guru )मैया मैया की लिरिक्स (Lyrics Of Mayya Mayya )तू नील समुन्दर है
02 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x