आज का शब्द (१७)

28 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (203 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (१७)

मूर्द्धन्य :

​१- वह वर्ण जिसका उच्चारण मूर्द्धा से होता है जैसे 'ट' वर्ग के सभी वर्ण मूर्द्धन्य हैं I


२- जो बहुत बड़ा या अच्छा हो, श्रेष्ठ, उदात्त, अध्यारूढ़;


जैसे : पं0 महामना मदन मोहन मालवीय मूर्द्धन्य विद्वान थे I


३- मस्तक में स्थित;


जैसे : शिव भक्त स्वामी जी का मूर्द्धन्य तिलक उन पर बहुत फबता है I

अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अप्रैल 2015
अनन्यमनस्क : १-एकाग्रचित्त २-स्थिरचित्त ३- तन्मय ४- एकतान ५- अनन्यचित्त प्रयोग : अनन्यमनस्क होकर कंठस्थ किया हुआ पाठ सहज ही याद हो जाता है I १७ अप्रैल, २०१५
16 अप्रैल 2015
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
08 मई 2015
उत्कर्ष : १- प्रकर्ष २- प्रकर्षण ३- उत्कर्षण भाव, मूल्य, महत्व आदि की सबसे बढ़ी हुई अवस्था प्रयोग : सेठ करोड़ीमल का व्यापार इन दिनों सफलता के उत्कर्ष पर है I
08 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x