आज का शब्द (१७)

28 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (234 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (१७)

मूर्द्धन्य :

​१- वह वर्ण जिसका उच्चारण मूर्द्धा से होता है जैसे 'ट' वर्ग के सभी वर्ण मूर्द्धन्य हैं I


२- जो बहुत बड़ा या अच्छा हो, श्रेष्ठ, उदात्त, अध्यारूढ़;


जैसे : पं0 महामना मदन मोहन मालवीय मूर्द्धन्य विद्वान थे I


३- मस्तक में स्थित;


जैसे : शिव भक्त स्वामी जी का मूर्द्धन्य तिलक उन पर बहुत फबता है I

अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अप्रैल 2015
साथियो, प्रस्तुत कविता हिंदी साहित्यकार शिवमंगल सिंह 'सुमन' की पुरस्कृत रचना 'मिटटी की बारात' से उद्घृत है. इस रचना के लिए आपको वर्ष १९७४ में साहित्य अकादमी पुरस्कार तथा वर्ष १९९३ में भारत भारती पुरस्कार से सम्मानित किया गया. कीचड़-कालिख से सने हाथ इनको चूमो सौ कामिनियों के लोल कपोलों से बढ़कर
16 अप्रैल 2015
24 अप्रैल 2015
कौमुदी : १- चाँदनी २- ज्योत्सना ३- चंद्रप्रभा ४- चन्द्रिका ५- मालती प्रयोग : बर्फ से ढकी, कौमुदी में नहाई घाटी ऐसी चमक रही थी मानो चाँद धरा पर उतर आया हो I
24 अप्रैल 2015
11 मई 2015
नज़्म... अटकी हुई है देर से, ज़ेहन के गोशों में कहीं। मुंह लटकाए पड़ी है कब से, खामोखयाली की मटमैली चादर ओढ़े। करेले सा ... कडुआपन हलक को चीरे जाता है जैसे; एक बच्चे ने आइसक्रीम खाते-खाते बहा रखी है कुहनियों तक, थोड़ी सी मैं भी चख लूँ फिर लिखता हूँ। नज़्म अटकी हुई है देर से......!
11 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x