बढ़ अकेला

29 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (595 बार पढ़ा जा चुका है)

बढ़ अकेला  - शब्द (shabd.in)

साथियो,


हिन्दी साहित्यकार त्रिलोचन शास्त्री एक कवि होने के साथ-साथ एक सफल संपादक के रूप में भी जाने जाते हैं I उनका जन्म 20 अगस्त सन 1917 को सुल्तानपुर उत्तर प्रदेश में हुआ था I उनकी प्रमुख रचनाएँ हैं- धरती, गुलाब और बुलबुल, दिगंत, ताप के ताए हुए दिन, शब्द, उस जनपद का कवि हूँ, अरधान, तुम्हें सौंपता हूँ, चेती, फूल नाम है एक, सबका अपना आकाश, अगर चोर मर जाता, आदमी की गंध, एक लहर फैली अनंत की, जीने की कला आदि I 'ताप के ताए हुए दिन' काव्य संग्रह पर उन्हें सन 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया I साहित्य सृजन का ये राही 7 दिसंबर सन 2007 को चिर निद्रा में लीन हो गया I 'शब्दनगरी' के मंच से आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं कविवर त्रिलोचन के साहित्य से उनकी अन्यतम रचना 'बढ़ अकेला' I हमें पूर्ण विश्वास है कि इसे पढ़ते हुए आपको मधुरिम रसानुभूति अवश्य होगी I





बढ़ अकेला
यदि कोई संग तेरे संग वेला
बढ़ अकेला
चरण ये तेरे रुके ही यदि रहेंगे
देखने वाले तुझे, कह, क्या कहेंगे
हो न कुंठित, हो न स्तंभित
यह मधुर अभियान वेला
बढ़ अकेला
श्वास ये संगी तरंगी क्षण प्रति क्षण
और प्रति पदचिन्ह् परिचित पंथ के कण
शून्य का श्रृंगार तू
उपहार तू किस काम मेला
बढ़ अकेला
विश्व जीवन मूल दिन का प्राणमय स्वर
सांद्र-पर्वत-श्रृंग पर अभिराम निर्झर
सकल जीवन जो जगत के
खेल भर उल्लास खेला
बढ़ अकेला


-त्रिलोचन

अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



पुष्पा जी, अनेक धन्यवाद एवं आभार !

बढ़ अकेला
यदि कोई संग तेरे संग वेला........बहुत सार्थक रचना .. इतने महान कवि की रचना के प्रकाशन के लिए हम आभारी है शब्द नगरी के .

भावना जी, अनेक धन्यवाद, आभार !

भावना तिवारी
29 अप्रैल 2015

वाह बहुत सुंदर रचना प्रकाशित की गई .....शब्द नगरी का आभार ..कि आप निरंतर अच्छे साहित्यकारों की रचनाएं और अन्य जानकारियाँ भी देते हैं .!!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 मई 2015
वैविध्य : १- विविधता, २- अनेकता, ३- विभिन्नता, ४- अनेकत्व, ५- वैभिन्य प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I
13 मई 2015
11 मई 2015
साथियो, 'आज का शब्द' की भांति आज से हम एक नई श्रंखला शुरू कर रहे हैं, 'सुनी-समझी'। इसमें दो वाक्य होंगे । पहला वाक्य किसी ने अंग्रेज़ी में सुना, तथा दूसरा वाक्य होगा जो उसने हिन्दी में समझा । बस यही है 'सुनी-समझी' । यह आपको तय करना है कि किसी ने कितना सही सुना, और कितना सही समझा । तो, प्रस्तुत है, आ
11 मई 2015
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x