नदी

29 अप्रैल 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (266 बार पढ़ा जा चुका है)

नदी  - शब्द (shabd.in)

सुधी साथियो,
'बाघ' देखा है कभी आपने...? ज़रूर देखा होगा; और बहुत मुमकिन है कि कभी 'बाघ' शीर्षक की कविता का भी रस लिया हो ! अगर 'हाँ' तो अवश्य आपने डाo केदारनाथ सिंह की रचना पढ़ी होगी । 'बाघ' आपकी वो कविता है जो मील का पत्थर मानी जाती है । बहमुखी प्रतिभा के साहित्यकार डाo केदारनाथ सिंह सन 1934 में बलिया उत्तर प्रदेश के चकिया ग्राम में जन्मे थे । 'अकाल में सारस' कविता संग्रह के लिए आपको सन १९८९ में साहित्य अकादमी तथा अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया । डाo केदारनाथ सिंह समकालीन कविता के प्रमुख हस्ताक्षर हैं । आपके प्रमुख कविता संग्रह हैं-अभी बिलकुल अभी, ज़मीन पाक रही है, यहाँ पर देखो, अकाल में सारस, टॉलस्टॉय और साईकिल, तीसरा सप्तक आदि । आपके प्रमुख निबंध और कहानियां हैं- मेरे समय के शब्द, कल्पना और छायावाद, हिंदी कविता में बिम्ब विधान, कब्रिस्तान में पंचायत आदि । 'शब्दनगरी' के मंच से आपके लिए हम प्रस्तुत कर रहे हैं डाo केदारनाथ सिंह​ की अनुपम कविता 'नदी'...


अगर धीरे चलो
वह तुम्हें छू लेगी
दौड़ो तो छूट जाएगी नदी
अगर ले लो साथ
वह चलती चली जाएगी कहीं भी
यहाँ तक कि कबाड़ी की दुकान तक भी
छोड़ दो
तो वही अँधेरे में
करोड़ों तारों की आँख बचाकर
वह चुपके से रच लेगी
एक समूची दुनिया
एक छोटे से घोंघे में
सच्चाई यह है
कि तुम कहीं भी रहो
तुम्हें वर्ष के सबसे कठिन दिनों में भी
प्यार करती है एक नदी
नदी जो इस समय नहीं हैं इस घर में
पर होगी ज़रूर कहीं न कहीं
किसी चटाई
या फूलदान के नीचे
चुपचाप बहती हुई
कभी सुनना
जब सारा शहर सो जाए,
तो किवाड़ों पर कान लगा
धीरे-धीरे सुनना
कहीं आस-पास
एक मादा घड़ियाल की कराह की तरह
सुनाई देगी नदी I


-केदारनाथ सिंह

अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अप्रैल 2015
नैहर : १- विवाहित स्त्रियों के लिए उनके माता-पिता का घर​ २- मायका, ३- पीहर, ४- मैका, मायका ५- मैहर, ६- प्योसार
25 अप्रैल 2015
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
13 मई 2015
वैविध्य : १- विविधता, २- अनेकता, ३- विभिन्नता, ४- अनेकत्व, ५- वैभिन्य प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I
13 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x