वाराणसी की गंगा आरती ने मुझे पेरेंटिंग का सबक सिखाया

29 जुलाई 2018   |  Pratibha Bissht   (115 बार पढ़ा जा चुका है)

 वाराणसी की गंगा आरती ने मुझे पेरेंटिंग का सबक सिखाया

मैं कुछ दिनों के लिए वाराणसी में था । वहाँ, कजिन ने गंगा आरती के लिए जाने का आग्रह किया। जिसे मैं टालना चाहता थी । कृपया पहले से ही मेरा जज मत करो| मेरे धर्म के खिलाफ नहीं हूँ लेकिन मैं कभी भी अनुष्ठानों का बड़ा प्रशंसक नहीं रही हूं। हालाँकि, मुझे पहली बार अपनी पेरेंटिंग के बारे में संदेह हुआ जब एक दिन, स्कूल के बाद, मेरा 6 साल का लड़का घर में चला गया और शिकायत की कि कैसे एक सहपाठी ने उसे 'हिंदू' कहा था। जब मैंने समझाया कि उसे इसे अपराध समझने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि वह एक हिंदू है, उसने कहा," मैंने हमेशा सोचा कि हम भारतीय है|यही आपने हमेशा कहते हो । हम हिंदू कब बने ? "

इसने मुझे आश्चर्यचकित किया कि अगर मैं अपने बच्चों को हमारे रीति-रिवाजों और अनुष्ठानों से अवगत नहीं करा रही हूं तो मैं एक अच्छी माँ नहीं हूं। अगर मैं उन्हें अच्छे संगीत,

किताबें और कला के साथ पेश करती हूं, तो क्या यह मेरा काम भी नहीं होना चाहिए? लेकिन यह वह जगह है जहां मुझे लगता है कि मैं पतली बर्फ पर चल रही हूं। मैंने कभी पूजा की जगहों पर जाने की कोशिश ही नहीं की क्योंकि मैंने पहले कभी भी 'धार्मिक' भावना महसूस ही नहीं किया।

मेरे बच्चों के साथ भी मैंने इसे न्यूनतम ही रखा। ईश्वर एक है, लोग अलग-अलग तरीकों से उसकी पूजा करते हैं, उसे अलग-अलग नाम देते हैं। बस इतना ही। आरती के लिए जाने के विचार पर वापस आते है। मैं खुद को प्रतिबद्ध नहीं करती , मेरा बेटा बाड़ पर बैठा था, हमेशा की तरह, और मेरी बेटी, हमेशा नई चीजों का अनुभव करने के लिए उत्सुक थी|हमने होटल की कैब ली और 45 मिनट की सवारी के बाद जिसमें 5 किलोमीटर शामिल थे, हम वहां पहुंचे।

हमने नाव की सवारी कि और मैं सोच रही थी कि आरती कब शुरू होगी। मैंने अपने कजिन की और देखा, वही व्यक्ति जिसने हमें वहां पहुंचाया था, और वह उतनी ही अनजान थी जितनी मैं थी। हमारे समूह में आधा लोग पूजा सामग्रियों के साथ पट्टियों पर चिपके हुए थे| मेरे दिमाग में नाविक द्वारा घाटों के बारे में बताई गयी कहानियां चल रही थी , कैसे शिव स्वयं एक बार यहाँ आए थे , आदि|

जब मैंने सवारी का आनंद लेना शुरू किया, तो मुझे एहसास हुआ कि हम लौट रहे थे। यह अंधेरा हो गया था और घाट पर अब आरती होने वाली थी। दाईं ओर थोड़ा, पुजारियों का एक और समूह आरती के लिए भी तैयारी कर रहा था। नाविक ने हमें बताया कि दो आरती एक साथ आयोजित की जाती हैं। मेरी कजिन ने हाथ जोड़ लिए, मै थोड़ी संदिग्ध थी| पुजारियों का समूह पहले शुरू हुआ। सभी केसर रंग के कपडे पहने हुए, उन्होंने पहले भजन गाया और फिर अनुष्ठान शुरू किया। विशाल, बहु-स्तरीय दीपकों के साथ, उन्होंने मंत्रों का जप करने के साथ पूजा शुरू की। तब तक सभी नौकाएं घाट पर एकत्र हो गई थीं और एक-दूसरे के करीब चिपक रही थीं| हमारे बाएं ओर एक बड़े पंजाबी परिवार के साथ एक बड़ी नाव थी। वे जोर से बोल रहे थे , हंस रहे थे , यहां तक ​​कि आरती को वीडियो कॉल के माध्यम से किसी को भी दिखा भी रहे थे । मैंने सोचा,"तुम गंभीर नहीं हो सकते"| क्या मुझे एक पर्यटक की तरह व्यवहार करना चाहिए, जो में थी, और फ़ोटो क्लिक करूं और नाविक को शिकायत करूं कि मुझे अच्छा नज़र नहीं मिल रहा? या क्या मुझे भक्त की तरह व्यवहार करना चाहिए, जो दोनों हाथो को जोड़ कर जो भजन याद आये उसे गा रहा हो |

नाविक ने हमे बताया हम पूजा क्र सकते है क्योकि आरती शुरू हो गयी है| मेरी कजिन ने बच्चों को भगवान से प्रार्थना करने को कहा और जो वो चाहते है भगवान से मांगने को कहा| हवा में मंत्र गूंज रहे थे, मैंने अपने भगवान से बात की, मुझे अपनी समस्याओं से निपटने के लिए साहस देने के लिए कहा।

मेरी कजिन के आँखों में आंशू थे ,क्योंकि उसे एक कनेक्शन महसूस हुआ। मेरे बच्चे शो (!) से खुश थे और हम वहाँ से निकल गए| धर्म यही सब कुछ है, है ना? हर किसी को हमारे जैसे होने की आवश्यकता नहीं है और साथ ही, हमें अलग-अलग लोगों को स्वीकार करने में सक्षम होना चाहिए। गंगा आरती सभी रंगों, कट्टर हिंदुओं, पर्यटकों, यहां तक ​​कि मेरे जैसे लोगों को भी एकसाथ लाती है क्योंकि वे वाराणसी में होते हैं। मैं मुस्कुराती हुई वापस आ गयी क्योंकि मुझे यकीन था कि मैं माँ के रूप में ठीक काम कर रही हूँ | मेरे बच्चे भी किसी दिन सीखेंगे, शायद किसी और गंगा आरती में ?

 वाराणसी की गंगा आरती ने मुझे पेरेंटिंग का सबक सिखाया

अगला लेख: अमेज़न प्राइम डे: यू एस में वेबसाइट क्रैश



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जुलाई 2018
Aapne Yaad Dilaya To Mujhe Yaad Aaya Lyrics of Aarti (1962) is penned by Majrooh Sultanpuri, it's composed by Roshan and sung by Mohammad Rafi and Lata Mangeshkar.आरती (Aarti )आपने याद दिलाया तो मुझे याद आयाआपने याद दिलाया तो मुझे याद आयाके मेरे दिल पे पड़ा था कोई ग़म का सायाआपने याद दिलायामैं भी क्या
31 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
भारत और इंग्लैंड मंगलवार को हेडिंग्ले में श्रृंखला के तीसरे और निर्णायक खेल में ५० ओवर की ट्रॉफी के लिए लड़ेंगे, दोनों टीमें श्रृंखला जीतने और सकारात्मक नोट पर टेस्ट खेलने के
18 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने हरिस सोहेल को जिम्बाब्वे दौरे से घर लौटने की इजाजत दे दी है।हरिस सोहेल ने पाकिस्तान टीम प्रबंधन से जिम्बाब्वे दौरे से अपनी बेटी की बीमारी के चलते घर वापिस लौटने के लिए अनुरोध किया
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
लिवरपूल ने पिछले कुछ सालों में कोच जुर्गन क्लॉप के तहत प्रीमियर लीग और यूईएफए चैंपियंस लीग दोनों में काफी उन्नतिकी है| 2017-18 के जबरदस्त कैंपेन बाद, एन्फील्ड समर्थक अपने को फुटबॉल के एक और शानदार सीजन के लिए तैयार कर रहे है और क्लब के प्र
19 जुलाई 2018
14 जुलाई 2018
गर्मियों के मौसम के दौरान गर्भावस्था में देखभाल कैसे करें? बधाई हो ... आप सही जगह पर हैं !!! इस पोस्ट के द्वारा आप जान पाएंगे गर्मी में अपनी और बेबी बम्प की द
14 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
अब्या मिसाल डून फिल्म आरती से मुख्य गीत मोहम्मद रफी द्वारा गाया जाता है, इसका संगीत रोशन द्वारा रचित है और गीत मजूरो सुल्तानपुरी द्वारा लिखे गए हैं।आरती (Aarti )अब क्या मिसाल दूँ मैं तुम्हारे शबाब कीइंसान बन गयी है किरण महताब कीअब क्या मिसाल दूँचेहरे में घुल गया है हसीं चाँदनी का नूरआँखों में है चमन
31 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
31 जुलाई 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x