ऊटी

29 जुलाई 2018   |  Pratibha Bissht   (179 बार पढ़ा जा चुका है)

ऊटी

उटकमंडलम या ऊटी, तमिलनाडु राज्य के प्रमुख शहरो में से एक है। यह शहर कर्नाटक और तमिलनाडु की सीमा पर स्थित है | यह शहर मुख्य रूप से एक पर्वतीय स्थल के रूप में जाना जाता है। ऊटी नीलगिरी की सुंदर पहाड़ियों के बीच बसा हुआ है|

ऊटी शहर के चारों ओर स्थित नीलगिरी पहाड़ियों के कारण इसकी सुंदरता पर्यटकाें काे अपनी आेर भी आकर्षक करती है। कुछ लोगों का ऐसा विश्वास है कि इस स्थान का नाम यहां की घाटियों में 12 वर्ष में एक बार फूलने वाले कुरुंजी फूलों के कारण पड़ा। ये फूल नीले रंग के होते हैं तथा जब ये फूल खिलते हैं तो घाटियों को नीले रंग में रंग देती हैं। जिसका नजारा बेहद खूबसूरत नजर आता है।

ऊटी झील : इस झील का निर्माण यहाँ के पहले कलैक्टर जॉन सुविलिअन ने 1825 में करवाया था। यह झील 2. 5 किलोमीटर लंबी है। झील के चारों ओर फूलों की क्यारियों में तरह-तरह के रंगबिरंगे फूल यहाँ की ख़ूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं। यहाँ आने वाले पर्यटक नौकायन और मछली पकड़ने का आनंद ले सकते हैं।

प्रतिवर्ष 12 लाख पर्यटक ऊटी झील देखने के लिए आते हैं। झील में मोटर बोट, पैडल बोट और रो बोट्स में बोटिंग का लुत्फ भी उठाया जा सकता है। गर्मी के मौसम में यहाँ दो दिवसीय बोट रेस का आयोजन किया जाता है। ऊँटी झील के पूर्वी किनारों पर बच्चों का पार्क है जहाँ बच्चों के मनोरंजन के लिए बहुत सी चीज़ें हैं।

बोटेनिकल गार्डन : बॉटनिकल गार्डन की स्थापना 1847 में की गई थी। यह गार्डन 22 हेक्टेयर भूमि में फैला हुआ है। इस ख़ूबसूरत गार्डन की देखरेख बागवानी विभाग करता है। यहाँ एक पेड़ के जीवाश्म संभाल कर रखे गए हैं जिसके बारे में माना जाता है, कि यह २० मिलियन वर्ष पुराना है। इस गार्डन में पेड़-पौधों की 650 से ज़्यादा प्रजातियाँ, अद्भुत ऑर्किड,

रंगबिरंगे लिली, ख़ूबसूरत झाड़ियाँ और दो हज़ार साल पुराने पेड़ के अवशेष देखने को मिलता है। बॉटनिकल गार्डन में मई के महीने में ग्रीष्मोत्सव मनाया जाता है। इस महोत्सव में फूलों की प्रदर्शनी और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसमें स्थानीय प्रसिद्ध कलाकार भाग लेते हैं।


ऊटी से जुड़ी और खबरें यहाँ पढ़े :


डोडाबेट्टा चोटी : डोड्डाबेट्टा तमिलनाडु राज्य के ऊटी शहर से लगभग 8 किलोमीटर दूर स्थित एक पर्वत है। यह नीलगिरि की सबसे ऊँचा पर्वत है, जिसकी ऊँचाई 2636 मीटर है। यहाँ से पूरे इलाके का सम्पूर्ण विहंगम दृश्य देखा जा सकता है। डोड्डाबेट्टा से न सिर्फ़ कोयंबटूर, बल्कि मैसूर शहर का नज़ारा भी देखा जा सकता है।

पायकारा लेक : नीलगिरी की पहाड़ियों में स्थित मुकुर्थी शिखर से बहने वाली पायकारा नदी के पानी से बनी है यह प्राकृतिक झील पायकारा लेक। पायकारा नदी घाटी के आसपास स्थित घने जंगलों के बीच स्थित है यह झील। राज्य सरकार ने यहां आने वाले पर्यटकों के लिए कम कीमत पर फॉरेस्ट हाउस भी बना रखा है। पायकारा झील के अलावा पायकारा फॉल्स और बोटिंग भी यहां के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। मेन ऊटी शहर से २१ किलोमीटर दूर है पायकारा लेक।

कोटागिरी हिल : कोटागिरी हिल ऊटी से 28 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कोटागिरी हिल प्राकृतिक सुंदरता के लिए दर्शनीय स्थल है। यहां के चाय बाग़ानों को देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते है | नीलगिरी के तीन हिल स्टेशनों में से यह सबसे पुराना है। यहां बहुत ही सुंदर हिल रिजॉर्ट हैं, जहां चाय के बहुत खूबसूरत बाग़ान हैं।

कालहट्टी जलप्रपात : कालहट्टी जलप्रपात ऊटी का एक ख़ूबसूरत दर्शनीय स्थल है। यह जलप्रपात लगभग 100 फुट ऊंचा है। यहां अनेक प्रकार के पर्वतीय पक्षी भी देखे जा सकते हैं। कालपट्टी के किनारे किनारे स्थित यह झरना 100 फीट ऊंचा है। यह वॉटरफॉल्स ऊटी से केवल 13 किमी. की दूरी पर है। झरने के अलावा कलहट्टी-मसिनागुडी की ढलानों पर जानवरों की अनेक प्रजातियां भी देखी जा सकती हैं, जिसमें चीते, सांभर और जंगली भैसा शामिल है।

एमरल्ड लेक : एमरल्ड लेक मुख्य ऊटी शहर से 22 किलोमीटर दूरी पर है जो साइलंट वैली नैशनल पार्क के अंदर स्थित है। यह पूरा इलाका अपने शांत वातावरण और जंगली वनस्पतियों के लिए जाना जाता है। नेचर लवर्स के लिए यह जगह किसी जन्नत से कम नहीं है। इस लेक के चारों तरफ ऊंचे-ऊंचे पहाड़ और चाय के बागान हैं। साथ ही बर्ड वॉचिंग का शौक रखने वालों के लिए भी यह जगह मुफीद है क्योंकि लेक के आसपास के इलाके में बड़ी संख्या में चिड़ियों की ढेरों प्रजातियां पायी जाती हैं।

रोज़ गार्डन : यहाँ भारत में सबसे बड़ा गुलाब उद्यान है। रोज़ गार्डन ऊटी के विजयनगरम में एल्क हिल की ढलानों पर स्थित है। इस उद्यान की स्थापना 1995 में की गई थी। यह उद्यान 10 एकड़ में फैला हुआ है। रोज़ गार्डन में लगभग 200 प्रकार के गुलाब के फूलों का संग्रह है। ऊटी रेलवे स्टेशन के पास स्थित यह उद्यान हर समय गुलाब की खुशबू से सराबोर रहता है। रोज़ गार्डन को दक्षिण एशिया का सबसे उत्कृष्टता का पुरस्कार मिला है।

अपर भवानी लेक : अपर भवानी लेक एक बहुत बड़ा बांध है जो इस पूरे क्षेत्र में पानी का मुख्य स्त्रोत है। यह लेकर ऊटी से 60 किलोमीटर दूर पर है लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए पर्यटकों को घने जंगलों के बीच से ट्रेकिंग करके पहुंचना पड़ता है। लिहाजा यहां तक पहुंचने के लिए स्थानीय फॉरेस्ट डिपार्टमेंट से पहले परमिशन लेनी पड़ती है। मुकुर्थी नैशनल पार्क से होते हुए हाइकिंग और ट्रेकिंग करते हुए यहां पहुंचना पड़ता है और अडवेंचर पसंद करने वाले लोग यहां ज्यादा आते हैं। लेक तक जाने वाले पर्यटक लेक के पास ही स्थित भवानी अम्मन मंदिर में भी दर्शन जरूर करते हैं।

डॉलफिन नोज : यह ऊटी के पर्यटन स्थल मे महत्वपूर्ण है। यह डॉलफिन मछली के नाक के आकार वाली एक विशाल चट्टान है। यहां से पूरी घाटी का सुंदर दृश्य दिखाई देता है। यहाँ से कोटागिरी के कैथरज फाल का नजार भी देखा जा सकता है।

ऊटी मे अनेक चर्च है। जिनमे से सन् 1829 मे निर्मित नीलगिरी का सबसे प्राचीन चर्च सेंट स्टीफंस मुख्य है, इसके विशाल लकडी के स्तम्भ टीपू सुल्तान के महल से आए थे। इसके अलावा यहां पर कैंडल चर्च का भी काफी महत्व है और ऊटी के पर्यटन स्थल और पर्यटन क्षेत्र मे काफी प्रसिद्ध है। कहा जाता है है कि कैंडल चर्च मे उस क्रास के अवशेष सुरक्षित है जिस पर जीसस क्राइस्ट को सूली पर चढाया गया था। इस चर्च मे एक विशाल क्लाक टावर भी है।

ऊटी में तथा इसके आसपास पर्यटन स्थल बोटेनिकल गार्डन, डोडाबेट्टा उद्यान, ऊटी झील, कलहट्टी प्रपात और फ्लॉवर शो आदि कई कारण हैं जिनके लिए ऊटी पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। एवलेंच, ग्लेंमोर्गन का शांत और प्यारा गाँव मुकुर्थी राष्ट्रीय उद्यान आदि ऊटी के कुछ प्रमुख पर्यटन स्थल हैं।

यहां पर मुख्य रूप से आपको साउथ इंडियन भोजन मिलेगा, पर कुछ रेस्टोरेन्ट आपको ऐसे भी मिलेंगे जो ईस्ट इंडियन भोजन देने के लिए ही प्रसिद्ध हैं। इसके अलावा चाइनीज या इंडो चाइनीज खाने के लवर्स के लिए “शिन्कोव्स” जैसे रेस्टोरेन्ट और वेस्टर्न खाने के लिए अच्छे रेस्टोरेन्ट उपलब्ध हैं। कोटागिरी हिल्स और कुन्नुर ऊटी के निकटतम पर्यटन स्थल है।

ऊटी

ऊटी

अगला लेख: बिनान्स दे रहा है बिनान्स कॉइन पे छूट



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 जुलाई 2018
कर्नाटक एसएसएलसी सप्लीमेंटी की परीक्षा का रिजल्ट घोषित हो गया है। सभी अभ्यर्थी कर्नाटक एसएसएलसी सुप्प्लिमेंट्री के अधिकारिक वेबसाइट पे रिजल्ट देख सकता है एचटीटीपी://एसएसएलसी.केएआर.एनआईसी.आईएन और एचटीटीपी://केऐआररिजल्ट्स.एनआईसी.इन एसएमएस के द्वारा भी छात्रों को परिणाम भेजे जायेंगे |परिणाम 2
20 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
लिवरपूल ने पिछले कुछ सालों में कोच जुर्गन क्लॉप के तहत प्रीमियर लीग और यूईएफए चैंपियंस लीग दोनों में काफी उन्नतिकी है| 2017-18 के जबरदस्त कैंपेन बाद, एन्फील्ड समर्थक अपने को फुटबॉल के एक और शानदार सीजन के लिए तैयार कर रहे है और क्लब के प्र
19 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
पूर्व में मद्रासके नाम से जानाजाता था | चेन्नई देश का चौथा सबसे बड़ा शहर है, और यह दक्षिण भारत मेंसबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है। एक शहर जिस का समृद्ध सांस्कृ
25 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
यह उस समय एक अच्छा विचार प्रतीत होता था - मार्क कार्नी और उसके बैंक ऑफ इंग्लैंड के सहयोगियों को साथ वेस्टमिंस्टर कमेटी रूम में बैठ कर पकने के बजाय, फर्नबोरो में एक दिन का आनंद क्यों नहीं लेते?आखिरकार,लंदन के ४० मील दक्षिण पश्चिम में हैम्प
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
अमेरिका में कार्नेगी विज्ञान संस्थान के स्कॉट एस शेफर्ड की अगुवाई में शोधकर्ताओं ने प्लूटो से आगे विशाल ग्रह की मौजूदगी की तलाश करने के दौरान पिछले साल पहली बार इन चंद्रमाओं को ढूंढा था| वैज्ञानिकों ने बृहस्पति ग्रह की परिक्रमा कर रहे 12 नये चंद्रमा की खोज की है|इसके साथ ही सौर मंडल के सबस
19 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में तेल उत्पादन स्थलों में गैस फ्लॉरिंग में उल्लेखनीय गिरावट आई है , यह रिपोर्ट मंगलवार को देर रात जारी की गयी | यह आश्चर्य की बात है क्योंकि वैश्विक तेल उत्पादन में आधे प्रतिशत की वृद्धि 2017 में दर्ज की गई थी| ग्लो
19 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x