"छंद रोला मुक्तक”पहली-पहली रात निकट बैठे जब साजन।

30 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

"छंद रोला मुक्तक”


पहली-पहली रात निकट बैठे जब साजन।

घूँघट था अंजान नैन का कोरा आँजन।

वाणी बहकी जाय होठ बेचैन हो गए-

मिली पास को आस पलंग बिराजे राजन।।-१


खूब हुई बरसात छमा छम बूँदा बाँदी

छलक गए तालाब लहर बिछा गई चाँदी।

सावन झूला मोर झुलाने आए सैंया-

ननदी करें किलोल सिखाएं सासू दादी।।-२


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “चतुष्पदी”सुना था कल की नीरज नहीं रहे।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2018
“मुक्तक”तर्क तौलते हैं सभी लिए तराजू हाथ। उचित नीति कहती सदा मिलों गले प्रिय साथ। माँ शारद कहती नहीं रख जिह्वा पर झूठ- ज्ञान-ध्यान गुरुदेव चित अर्चन दीनानाथ॥-१ प्रथम न्याय सम्मान घर दूजा सकल समाज। तीजा अपने आप का चौथा हर्षित आज। धन-निर्धन सूरज धरा हो सबका बहुमान- गाय भाय बेटी-बहन माँ- ममता अधिराज॥-२
03 अगस्त 2018
19 जुलाई 2018
"गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबासु-धर्म की धूनी जगा रहे बाबाआसन जमीनी जगह शांतिदायी नदी पट किनारे नहा रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबामाया सह काया तपा रहे बाबा सुमन साधना में चढ़ा रहे बाबा सुंदर तट लाली पीत वसन धारीराग मधुर संध्या
19 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
“देशज गीत” जिनगी में आइके दुलार कइले बाटगज़ब राग गाइके सुमार कइले बाटनीक लागे हमरा के अजबे ई छाँव बा कस बगिया खिलाइ के बहार कइले बाट॥......जिनगी में आइके दुलार कइले बाटफुलाइल विरान वन चम्पा चमेलीकान-फूंसी करतानी सखिया सहेलीमनवा डेरात मोरा पतझड़ पहारूरात-दिन सावन जस फुहार कइ
31 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x