कबीर की वाणी में है हमारा आत्मबल

30 जुलाई 2018   |  Shashi Gupta   (192 बार पढ़ा जा चुका है)

कबीर की वाणी में है हमारा आत्मबल

महान समाज सुधारक संत कबीर को लेकर मेरा अपना चिंतन है। कबीर की वाणी में मुझे बचपन से ही आकर्षण रहा है । जब छोटा था, तो विषम आर्थिक परिस्थितियों में पापा (पिता जी) अकसर ही कहा करते थें - " रुखा सुखा खाई के ठंडा पानी पी। देख पराई चुपड़ी मत ललचाओ जी।।" जिसे सुन हम सभी अपनी सारी तकलीफों और शिकायतों को भुलाकर कर बिन मुस्कुराये रह नहीं पाते थें। और अब जब मैं किसी को इसलिए दुखी देखता हूं कि उसे कहीं से न्याय नहीं मिल पा रहा होता है । जिससे अपने इस शोषण से वह व्यथित हो रहा होता है , तो उसे सांत्वना देने के प्रयास कहा करता हूं- "दुर्बल को ना सताइये, वां की मोटी हाय। बिन सांस की चाम से, लोह भसम होई जाय।।" यह उस संत की वाणी है, जिसने 15 वीं शताब्दी में एक जनक्रांति ला दी थी । और आज 21 वीं सदी में भी उतनी ही प्रासंगिक है। मैंने स्वयं अपने आहत मन को अनेकों बार यही कह सांत्वना दिया है। कहना नहीं होगा कि परिणाम भी मेरे अनुकूल रहा। यहां पत्रकारिता में आज मैं इसी लिये ढ़ाई दशकों से डटा हुआ हूं। जो मुझे बाहर करना चाहते थें, वे स्वयं नेपथ्य में हैं। मेरा सदैव से यह चिन्तन रहा है कि गरीब और ईमानदार व्यक्ति को पीड़ा न दिया जाए। इनके विरुद्ध षड़यंत्र न हो और न ही इनके हक अधिकार पर डाका डाला जाए। फिर भी दर्प से भरे सामर्थ्यवान लोग कबीर की चेतावनी की अनदेखी करते रहते हैं। मैं सिर्फ दो बातें उनसे कहना चाहता हूं। गरीब व्यक्ति को भूल कर भी न सताया करों और एक निर्बल व्यक्ति की आह से भी खतरनाक एक ईमानदार व्यक्ति की बददुआ होती है, क्यों कि वह अपना सर्वस्व दावं पर लगा चुका होता है, इस संकल्प के लिये। वैसे, मैं कोई उपदेशक तो हूं नहीं ,जो ज्ञान बांटता फिरूं , भले ही स्वयं अंधकार में पड़ा रहूं। पहले क्या किया , वह और बात है, पर अब अपनी कथनी करनी में बिल्कुल भी अंतर नहीं रखना चाहता हूं। भले ही पत्रकार हूं, परंतु पला-बढ़ा एक निम्न मध्यवर्ग में ही हूं । जब कोलकाता में बाबा- मां के यहां था तो , वह दूसरी बात थी। वहां , मेरी हर अभिलाषा पलक झपकते ही पूरी हो जाती थी। फिर जब मीरजापुर आया तो संघर्ष की प्रतिमूर्ति बनने को विवश था। किसी तरह से समर्थ जन अमानुष बन निर्बल लोगों का शोषण कर रहे हैं, इसकी प्रथम अनुभूति भी इसी मीरजापुर में मुझे हुई। एक कड़ुवा सत्य तो यह भी है कि मैं स्वयं भी उन मूक बधिर लोगों से ही एक हूं, जिसने अपने हक अधिकार के लिये कभी भी जुबां नहीं खोली। नियति के समक्ष समर्पण के अतिरिक्त और कोई विकल्प भी तो नहीं होता है मनुष्य के पास। बस ऐसा ही कह देते हैं निर्बल जन ! पर कबीर ने ऐसा किया क्या ? इसलिये मैं इस लंबी बीमारी(ज्वर) में भी अपने कर्म का त्याग नहीं कर पाता हूं। मुझे कोलकाता में अपने बचपन का वह दिन याद हो आता है। जब सुबह लम्बे समय से अस्वस्थ मेरी मां (नानी) ट्रांजिस्टर जैसे ही खोलती थीं । वंदेमातरम के बाद कबीर वाणी ही सुनने को मिलती थी। मैं बाहर सीढ़ी पर बैठा पढ़ रहा होता था पर कान रेडियो की ओर रहता था । तब भी कबीर के इस दोहे में " माटी कहे कुम्हार से , तु क्या रौंदे मोय। एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौदूंगी तोय ।। " तब मेरा जितना आकर्षक था , आज कहीं अधिक है। इसी के बल पर तो मैं करीब दो दशक अपने पुराने बुखार को बराबर चुनौती दिये जा रहा हूं। सुबह 5 से 7 बजे दो घंटे साइकिल प्रतिदिन चलाता हूं और साथ ही चार घंटे तक समाचार भी मोबाइल पर ही रोजाना टाइप करता हूं। फिर भोजन बनाना आदि भी अनेक कार्य तो रहता ही है। हां, जब यह देख लिया हूं कि अखबार में स्वतंत्र लेखन नहीं कर सकता हूं। किसी जनप्रतिनिधि के प्रेसवार्ता के प्रकाशन के लिये पहले विज्ञापन चाहिए। तो मैंने इस नये प्लेटफार्म का चयन किया है। लेकिन, अन्याय के समक्ष समर्पण करना मेरी आदत नही हैं। सच कहूं, तो ब्लॉग लेखन से मेरी नई पहचान बनी है। यहां मैं कबीर की उस वाणी पर खरा उतरने की मंशा रखता हूं कि "कबीरा खड़ा बाजार में, मांगे सब की खैर। ना काहू से दोस्ती , न काहू से बैर ।।" निष्पक्ष भाव का होना जीवन में इसलिये आवश्यक है कि हम स्वयं को भी टटोल सकें। जब यह मित्र और शत्रु का द्वंद हमारे अंदर समाप्त हो जाएगा। तभी हमें इस सत्य का ज्ञान होगा - "बुरा जो देखन मैं चला , बुरा न मिलिया कोय। जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय ।।"

अगला लेख: बाबू यह दुनिया एक जुगाड़ तंत्र है



आलोक सिन्हा
31 जुलाई 2018

` तिल तिल जल कर ही दीपक ने मंगलमय उजियारा पाया , जितना दुःख सह लेता है मन , उतनी उजली होती काया | पुण्य पाप से हार गए तो इन विश्वासों का क्या होगा - सपनों ने संन्यास लिया तो पगली आँखों का क्या होगा |

Shashi Gupta
31 जुलाई 2018

जी आपका कथन बिल्कुल उचित है परंतु कौवों के मध्य यदि कोयल चली जाए, तो उसका क्या होगा ! प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2018
(सचमुच हम पत्रकार बुझदिल हैं, जो अपने हक की आवाज भी नहीं उठा पाते हैं) "अमन बेच देंगे,कफ़न बेच देंगे जमीं बेच देंगे, गगन बेच देंगे कलम के सिपाही अगर सो गये तो, वतन के मसीहा,वतन बेच देंगे" पत्रकारिता से जुड़े कार्यक्रमों में अकसर यह जुमला सुनने को मिल ही जाता है औ
18 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
न न्याय मंच है, न पंच परमेश्वर आज भी सुबह बारिश में भींग कर ही अखबार बांटना पड़ा। सो, करीब ढ़ाई घंटे लग गये। वापस लौटा तो बुखार ने दस्तक दे दी, पर विश्राम कहां पूरे पांच घंटे तक मोबाइल पर हमेशा की तरह समाचार संकलन और टाइप किया। तब जाकर तीन बजे फुर्सत मिली। मित्रों
26 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
न न्याय मंच है, न पंच परमेश्वर आज भी सुबह बारिश में भींग कर ही अखबार बांटना पड़ा। सो, करीब ढ़ाई घंटे लग गये। वापस लौटा तो बुखार ने दस्तक दे दी, पर विश्राम कहां पूरे पांच घंटे तक मोबाइल पर हमेशा की तरह समाचार संकलन और टाइप किया। तब जाकर तीन बजे फुर्सत मिली। मित्रों
26 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
"समझेगा, कौन यहाँ दर्द भरे, दिल की ज़ुबां रुह में ग़म, दिल में धुआँ जाएँ तो जाएँ कहाँ... एक कश्ती, सौ तूफां " अपनों से जब वियोग हो जाता है, शरीर जब साथ छोड़ने लगता है, प्रेम जब धोखा देता है, कर्म जुगाड़ तंत्र में उपहास बन जाता है, लक्ष्मी जब रूठ जाती है, पथिक जब राह भटक जाता है, जब आत्मविश्
03 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
" माटी चुन चुन महल बनाया, लोग कहें घर मेरा । ना घर तेरा, ना घर मेरा , चिड़िया रैन बसेरा । " बनारस में घर के बाहर गली में वर्षों पहले यूं कहे कि कोई चार दशक पहले फकीर बाबा की यह बुलंद आवाज ना जाने कहां से मेरी स्मृति में हुबहू उसी तरह से पिछले दिनों फिर से गूंजने लगी। कैसे भागे चला जाता थ
08 अगस्त 2018
17 जुलाई 2018
इस बार रविवार की छुट्टी मुझे नहीं मिल पाई, क्यों कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा का कवरेज जो करना था। सो, न कपड़े धुल सका और ना ही उनमें प्रेस ही कर पाया हूं। आराम करने की जगह इस उमस भरी गर्मी में शहर से कुछ दूर स्थित सभास्थल पर जाना पड़ा। इससे पहले वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में मोदी इसी मैद
17 जुलाई 2018
06 अगस्त 2018
सभी को देखो नहीं होता है नसीबा रौशन सितारों जैसा सच भले ही सूली हो और जुगाड़ तंत्र सिंहासन, फिर भी.. ------------------ शशि/ अपनी बात --------------- " एक बंजारा गाए, जीवन के गीत सुनाए हम सब जीने वालों को जीने की राह बताए ज़माने वालो किताब-ए-ग़म में खुशी का कोई फ़साना ढूँढो हो ओ ओ ओ ... आँखों में
06 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
सभी को देखो नहीं होता है नसीबा रौशन सितारों जैसा सच भले ही सूली हो और जुगाड़ तंत्र सिंहासन, फिर भी.. ------------------ शशि/ अपनी बात --------------- " एक बंजारा गाए, जीवन के गीत सुनाए हम सब जीने वालों को जीने की राह बताए ज़माने वालो किताब-ए-ग़म में खुशी का कोई फ़साना ढूँढो हो ओ ओ ओ ... आँखों में
06 अगस्त 2018
26 जुलाई 2018
न न्याय मंच है, न पंच परमेश्वर आज भी सुबह बारिश में भींग कर ही अखबार बांटना पड़ा। सो, करीब ढ़ाई घंटे लग गये। वापस लौटा तो बुखार ने दस्तक दे दी, पर विश्राम कहां पूरे पांच घंटे तक मोबाइल पर हमेशा की तरह समाचार संकलन और टाइप किया। तब जाकर तीन बजे फुर्सत मिली। मित्रों
26 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
"समझेगा, कौन यहाँ दर्द भरे, दिल की ज़ुबां रुह में ग़म, दिल में धुआँ जाएँ तो जाएँ कहाँ... एक कश्ती, सौ तूफां " अपनों से जब वियोग हो जाता है, शरीर जब साथ छोड़ने लगता है, प्रेम जब धोखा देता है, कर्म जुगाड़ तंत्र में उपहास बन जाता है, लक्ष्मी जब रूठ जाती है, पथिक जब राह भटक जाता है, जब आत्मविश्
03 अगस्त 2018
28 जुलाई 2018
गुरु किया है देह का, सतगुरु चीन्हा नाहिं । भवसागर के जाल में, फिर फिर गोता खाहि आज गुरु पूर्णिमा है। महात्मा और संत को लेकर मेरा अपना चिंतन है। यदि गुरु से अपनी चाहत की बात कहूं तो, मुझे गुरु से ज्ञान नहीं चाहिए, विज्ञान नहीं चाहिए, दरबार नहीं चाहिए एवं भगवान भी नहीं चाहिए। मैं तो
28 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
"समझेगा, कौन यहाँ दर्द भरे, दिल की ज़ुबां रुह में ग़म, दिल में धुआँ जाएँ तो जाएँ कहाँ... एक कश्ती, सौ तूफां " अपनों से जब वियोग हो जाता है, शरीर जब साथ छोड़ने लगता है, प्रेम जब धोखा देता है, कर्म जुगाड़ तंत्र में उपहास बन जाता है, लक्ष्मी जब रूठ जाती है, पथिक जब राह भटक जाता है, जब आत्मविश्
03 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
बहुत देख ली आडंबरी दुनिया के झरोखों से बहुत उकेर लिए मुझे कहानी क़िस्सागोई में लद गए वो दिन, कैद थी परम्पराओं के पिंजरे में भटकती थी अपने आपको तलाशने में उलझती थी, अपने सवालों के जबाव ढूँढने में तमन्ना थी बंद मुट्ठी के सपनों को पूरा करने की उतावली,आतुर हकीकत की दुनिया जीने की दासता की जंजीरों को तो
01 अगस्त 2018
17 जुलाई 2018
इस बार रविवार की छुट्टी मुझे नहीं मिल पाई, क्यों कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा का कवरेज जो करना था। सो, न कपड़े धुल सका और ना ही उनमें प्रेस ही कर पाया हूं। आराम करने की जगह इस उमस भरी गर्मी में शहर से कुछ दूर स्थित सभास्थल पर जाना पड़ा। इससे पहले वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में मोदी इसी मैद
17 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
"समझेगा, कौन यहाँ दर्द भरे, दिल की ज़ुबां रुह में ग़म, दिल में धुआँ जाएँ तो जाएँ कहाँ... एक कश्ती, सौ तूफां " अपनों से जब वियोग हो जाता है, शरीर जब साथ छोड़ने लगता है, प्रेम जब धोखा देता है, कर्म जुगाड़ तंत्र में उपहास बन जाता है, लक्ष्मी जब रूठ जाती है, पथिक जब राह भटक जाता है, जब आत्मविश्
03 अगस्त 2018
29 जुलाई 2018
कोई निशानी छोड़, फिर दुनिया से डोल एक दिन बिक जाएगा, माटी के मोल -------------------------------------------- "किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार किसीका दर्द मिल सके तो ले उधार किसीके वास्ते हो तेरे दिल में प्यार जीना इसी का नाम है " वॉयस आफ गॉड के इस गाने में छिपे संदेश को आत्मसात करने का प्
29 जुलाई 2018
03 अगस्त 2018
"समझेगा, कौन यहाँ दर्द भरे, दिल की ज़ुबां रुह में ग़म, दिल में धुआँ जाएँ तो जाएँ कहाँ... एक कश्ती, सौ तूफां " अपनों से जब वियोग हो जाता है, शरीर जब साथ छोड़ने लगता है, प्रेम जब धोखा देता है, कर्म जुगाड़ तंत्र में उपहास बन जाता है, लक्ष्मी जब रूठ जाती है, पथिक जब राह भटक जाता है, जब आत्मविश्
03 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं ये पुरपेच गलियाँ, ये बदनाम बाज़ार ये ग़ुमनाम राही, ये सिक्कों की झन्कार ये इस्मत के सौदे, ये सौदों पे तकरार जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं दशकों पूर्व एक फ
01 अगस्त 2018
24 जुलाई 2018
सावन के झूले पड़े तुम चले आओ दिल ने पुकारा तुम्हें तुम चले आओ तुम चले आओ... रिमझिम बारिश के इस सुहावने मौसम में अश्वनी भाई द्वारा प्रेषित इस गीत ने स्मृतियों संग फिर से सवाल- जवाब शुरू कर दिया है। वो क्या बचपना था और फिर कैसी जवानी थी। ख्वाब कितने सुनहरे थें ,यादें कितनी सताती हैं। अकेले में यूं
24 जुलाई 2018
11 अगस्त 2018
दुख और सुख के रास्ते, बने हैं सब के वास्ते जो ग़म से हार जाओगे, तो किस तरह निभाओगे खुशी मिले हमें के ग़म, खुशी मिले हमे के ग़म जो होगा बाँट लेंगे हम जहाँ में ऐसा कौन है कि जिसको ग़म मिला नहीं इ
11 अगस्त 2018
24 जुलाई 2018
सावन के झूले पड़े तुम चले आओ दिल ने पुकारा तुम्हें तुम चले आओ तुम चले आओ... रिमझिम बारिश के इस सुहावने मौसम में अश्वनी भाई द्वारा प्रेषित इस गीत ने स्मृतियों संग फिर से सवाल- जवाब शुरू कर दिया है। वो क्या बचपना था और फिर कैसी जवानी थी। ख्वाब कितने सुनहरे थें ,यादें कितनी सताती हैं। अकेले में यूं
24 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
“विचार और व्यवहार में सामंजस्य न होना ही धूर्तता है, मक्कारी है।" मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनका यह उद्घोष मुझे फिर से याद हो आया। सो, मैंने अपने ब्लॉग पर एक बार दृष्टि डाली। अंतरात्मा से सवाल पूछा कि संघर्ष के प्रतीक, जीवन एवं अपनी रचना दोनों से ही और हम जैसों की लेखन शक्ति के ऊर्जा स्रोत के कथन
02 अगस्त 2018
22 जुलाई 2018
गीतसम्राट गोपाल दास नीरज की स्मृति में एक श्रद्धांजलि ---------------------------------------------------------"दुनिया ये सर्कस है। बार-बार रोना और गाना यहाँ पड़ता है। हीरो से जोकर बन जाना पड़ता है। " सचमुच कितनी बड़ी बात कह गये नीरज जी। सो, मैं उनकी इसी गीत में अपने अस्तित्व को तलाश रहा हूं - " ऐ
22 जुलाई 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x