बुध पूर्णिमा

04 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (1172 बार पढ़ा जा चुका है)

बुध पूर्णिमा

बुद्ध पूर्णिमा या बुद्ध जयन्ती बौद्ध धर्म में आस्था रखने वालों का एक प्रमुख त्यौहार है। बुद्ध जयन्ती वैशाख पूर्णिमा को मनाया जाता हैं। पूर्णिमा के दिन ही गौतम बुद्ध का स्वर्गारोहण समारोह भी मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी। आज पूरे विश्व में बौद्ध धर्म को मानने वाले करोड़ो लोग इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं।


धार्मिक ग्रंथों के अनुसार महात्मा बुद्ध को भगवान विष्णु का तेइसवां अवतार माना गया है| बुद्ध पूर्णिमा के दिन लोग व्रत-उपवास रखते हैं| इस दिन बौद्ध मतावलंबी श्वेत वस्त्र धारण करते हैं और बौद्ध मठों में एकत्रित होकर सामूहिक उपासना करते हैं तथा दान दिया जाता है| बौद्ध और हिंदू दोनों ही धर्मो के लोग बुद्ध पूर्णिमा को बहुत श्रद्धा के साथ मनाते हैं| बुद्ध पूर्णिमा का पर्व बुद्ध के आदर्शों व धर्म के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है| संपूर्ण विश्व में मनाया जाने वाला यह पर्व सभी को शांति का संदेश देता है I


दुनियाभर से बौद्ध धर्म के अनुयायी बोधगया आते हैं और प्रार्थनाएँ करते हैं तथा बोधिवृक्ष की पूजा करते हैं तथा उसकी शाखाओं पर रंगीन ध्वज सजाए जाते हैं I वृक्ष पर दूध व सुगंधित जल अर्पित जाता है और उसके पास दीपक जलाए जाते है| श्रीलंका में इस पर्व को 'वेसाक' पर्व के नाम से जाना जाता है I इस दिन दीपक जलाए जाते हैं और फूलों से घरों को सजाया जाता है| बौद्ध धर्म के धर्मग्रंथों का निरंतर पाठ किया जाता है I ऐसा माना जाता है कि इस दिन किए गए अच्छे कार्यों से पुण्य की प्राप्ति होती है I


गौतम बुद्ध का मूल नाम 'सिद्धार्थ' था इन्हें ‘बुद्ध', 'महात्मा बुद्ध' आदि नामों से भी जाना जाता है। गौतम बुद्ध के पिता का नाम शुद्धोधन और माता जी का नाम महामाया था। राज घराने में जन्में सिद्धार्थ के विषय में इनके पिता राजा शुद्धोधन को विद्वानों द्वारा बताया गया था कि युवराज सिद्धार्थ या तो एक महान राजा बनेंगे, या एक महान साधु बनेगें। विद्वानों ने राजा शुद्धोधन को सचेत किया कि युवराज सिद्धार्थ का सामना किसी दुख से न हो तथा न ही कभी किसी बूढे, रोगी, मृतक और सन्यासी से सामना हो, तभी यह राज्य कर पाएंगे।

इस भविष्यवाणी को सुनकर राजा शुद्धोधन ने अपनी सामर्थ्य की हद तक सिद्धार्थ को दुख से दूर रखने की कोशिश की तथा सांसारिक बंधन में पूर्ण रूप से बांधने के लिए इनका विवाह यशोधरा जी के साथ कर दिया। परंतु जब सिद्धार्थ ने एक बार एक वृद्ध विकलांग व्यक्ति, एक रोगी, एक पार्थिव शरीर और एक साधु समेत इन चार दृश्यों को एक साथ देखा तो उनके मन में जीवन के सत्य को जानने की जिज्ञासा उत्पन्न हुई। उनका मन इतना व्यथित हो गया कि एक रात सिद्धार्थ अपना सब कुछ छोड़कर सत्य की खोज में निकल पड़े व एक साधु का जीवन अपना लिया। उन्होंने कठिन तप किया तथा अंत में महावृक्ष के नीचे आठ दिन तक समाधिवस्था में वैशाख पूर्णिमा के दिन उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई। यहीं से सिद्धार्थ गौतम बुद्ध कहलाए।


आप सभी को बुद्ध पूर्णिमा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !



अगला लेख: आज का शब्द (१३)



बुद्ध की शिक्षा आज सर्वाधिक प्रासंगिक है.

बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर उक्त जानकारी ताजा कराने के लिए कोटि-कोटि धन्यवाद शर्मा जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 मई 2015
साथियो, 'आज का शब्द' की भांति आज से हम एक नई श्रंखला शुरू कर रहे हैं, 'सुनी-समझी'। इसमें दो वाक्य होंगे । पहला वाक्य किसी ने अंग्रेज़ी में सुना, तथा दूसरा वाक्य होगा जो उसने हिन्दी में समझा । बस यही है 'सुनी-समझी' । यह आपको तय करना है कि किसी ने कितना सही सुना, और कितना सही समझा । तो, प्रस्तुत है, आ
11 मई 2015
08 मई 2015
उत्कर्ष : १- प्रकर्ष २- प्रकर्षण ३- उत्कर्षण भाव, मूल्य, महत्व आदि की सबसे बढ़ी हुई अवस्था प्रयोग : सेठ करोड़ीमल का व्यापार इन दिनों सफलता के उत्कर्ष पर है I
08 मई 2015
30 अप्रैल 2015
शब्दनगरी मित्रो, आशा करते हैं कि आपने भी अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो 'अमरवाणी-2015' हेतु अपनी प्रविष्टि भेजी होगी I आइए श्रेष्ठ कवियों के चयन सम्बन्धी आपको आवश्यक जानकारी दे दें I इस प्रतियोगिता में आज यानि 30 अप्रैल को 24 प्रविष्टियाँ चुनी जाएंगी I 01 मई, 2015 को, दोनों आयु वर्ग में से रियल
30 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x