“देशज गीत” जिनगी में आइके दुलार कइले बाट

31 जुलाई 2018   |  महातम मिश्रा   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

“देशज गीत”


जिनगी में आइके दुलार कइले बाट

गज़ब राग गाइके सुमार कइले बाट

नीक लागे हमरा के अजबे ई छाँव बा

कस बगिया खिलाइ के बहार कइले बाट॥......जिनगी में आइके दुलार कइले बाट


फुलाइल विरान वन चम्पा चमेली

कान-फूंसी करतानी सखिया सहेली

मनवा डेरात मोरा पतझड़ पहारू

रात-दिन सावन जस फुहार कइले बाट॥.....जिनगी में आइके दुलार कइले बाट


देख न उड़ी के हेरा जइह भौंरा

छोड़ि के दुवार घर आ गइली चौरा

प्रेम विश्वास कइली नाहीं घर पलानी

वाण मोहिनी चलाइके बीमार कइले बाट॥.....जिनगी में आइके दुलार कइले बाट


हाथ पकड़ि के लगाव पिया मेंहदी

कबहूं पराइ के न होइह बेदर्दी

गरवा लगाइ ल जुड़ाइ जा सम्हारू

अधखिले बसंत में विहार कइले बाट॥.....जिनगी में आइके दुलार कइले बाट


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “चतुष्पदी”सुना था कल की नीरज नहीं रहे।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जुलाई 2018
दक्षिण पूर्व लाओस में हाईड्रोइलैक्टि्रक बांध गिर गया है। इस बांध के गिरने से सैकड़ों लोगों की मौत की खबर सामने आई है, जबकी की अन्य लोग घायल बताए जा रहे है।बचावकर्मी नौकाओं की मदद से लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा रहे हैं।अट्टापेयू प्रांत के सान साई जिले में स्थित जेपिया
25 जुलाई 2018
01 अगस्त 2018
“पिरामिड”रे हवा बदरी आसमान साँझ विहान पावस रुझान घटता तापमान॥-१ रीबाढ़ निगोरी भीगी ओरीरूप अघोरीपागल बदरी गिरा गई बखरी॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
01 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
“कुंडलिया”इनका यह संसार सुख भीग रहा फल-फूल। क्या खरीद सकता कभी पैसा इनकी धूल॥ पैसा इनकी धूल फूल खिल रिमझिम पानी। हँसता हुआ गरीब हुआ है कितना दानी॥ कह गौतम कविराय प्याज औ लहसुन भिनका। ऐ परवर सम्मान करो मुँह तड़का इनका॥महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
02 अगस्त 2018
20 जुलाई 2018
सादर नमन साहित्य के महान सपूत गोपाल दास ‘नीरज’ जी को। ॐ शांति। “चतुष्पदी”सुना था कल की नीरज नहीं रहे। अजी साहित्य के धीरज नहीं रहे। गोपाल कभी छोड़ते क्या दास को- रस छंद गीत के हीरज नहीं रहे॥महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
20 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
समांत- अही पदांत- है मात्रा भार-२९ १६ १३ पर यति “गीतिका”हर मौसम के सुबह शाम से इक मुलाक़ात रही है सूरज अपनी चाल चले तो दिन और रात सही है भोर कभी जल्दी आ जाती तब शाम शहर सजाती रात कभी दिल दुखा बहकती वक्त की बात यही है॥हरियाली हर ऋतु को भाती जब पथ पुष्प मुसुकाते गुंजन करते
17 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
"गीत"चैन की बांसुरी बजा रहे बाबासु-धर्म की धूनी जगा रहे बाबाआसन जमीनी जगह शांतिदायी नदी पट किनारे नहा रहे बाबा॥..... चैन की बांसुरी बजा रहे बाबामाया सह काया तपा रहे बाबा सुमन साधना में चढ़ा रहे बाबा सुंदर तट लाली पीत वसन धारीराग मधुर संध्या
19 जुलाई 2018
14 अगस्त 2018
पिछले 24 घंटों में हिमाचल प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश हुई, जिससे 16 लोगों की मौत हो गई और भारी भूस्खलन शुरू हो गया, जिससे यातायात प्रभावित हो गया और यात्री राजमार्गों पर फंस गए | सरकार ने लोगों से यात्रा से बचने के लिए कहा क्योंकि मौसम अधिकारियों ने मंगल
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
कहते हैं मेरा वतन बात-बात में वाण। आतंकी के देश से आया कैसे गैर- मिला मंच खैरात का नृत्य कर रहा भाण॥-१ लेकर आओ हौसला हो जाए दो हाथ। क्यों करते गुमराह तुम सबके मालिक नाथ। बच्चे सभी समान हैं तेरे मेरे लाल- उनसे छल तो मत करों खेलें खाएँ साथ॥-२शौर्य तुम्हारा देखता सीधा सकल ज
10 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x