चींटी

06 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (1244 बार पढ़ा जा चुका है)

चींटी

हिंदी साहित्य के प्रिय रसिको,


20 मई, 1900 को कौसानी, अल्मोड़ा में जन्मे सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उनकी प्रमुख काव्य कृतियाँ हैं - ग्रन्थि, गुंजन, ग्राम्या, युगांत, स्वर्णकिरण, स्वर्णधूलि, कला और बूढ़ा चाँद, लोकायतन, चिदंबरा, सत्यकाम आदि। 'शब्दनगरी' से आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं पंत जी की अनेकानेक रचनाओं में से एक अत्यंत सुन्दर रचना 'चींटी'...





चींटी को देखा ?
वह सरल, विरल काली रेखा
तम के तागे सी जो हिल-डुल
चलती लघुपद पल-पल मिल-जुल
वह है पिपीलिका पाँति !
देखो ना, किस भाँति
काम करती वह संतत !
कन कन कनके चुनती अविरत !
गाय चराती,
धूप खिलाती,
बच्चों की निगरानी करती,
लड़ती, आरी से तनिक न डरती,
दल के दल सेना संवारती,
घर आँगन, जनपथ बुहारती I


चींटी है प्राणी सामाजिक,
वह श्रमजीवी, वह सुनागरिक I


देखा चींटी को ?
उसके जी को ?
भूरे बालों की सी कतरन,
छिपा नहीं उसका छोटापन,
वह समस्त पृथ्वी पर निर्भय
विचरण करती श्रम में तन्मय,
वह जीवन की चिनगी अक्षय I


वह भी क्या देही, तिल सी ?
प्राणों की रिलमिल झिलमिल-सी !
दिन भर में वह मीलों चलती,
अथक, कार्य से कभी न टलती II


-सुमित्रानंदन पन्त

अगला लेख: आज का शब्द (१३)



, मन से एक ही शब्द निकलता है इस कविता को पढ़कर , ,...अद्भुद रचना ...

विजय जी, अनेक धन्यवाद !

निश्चय ही चींटी जैसे मेहनती जीव पर यह एक सर्वोत्तम रचना है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अप्रैल 2015
मूर्द्धन्य : ​१- वह वर्ण जिसका उच्चारण मूर्द्धा से होता है जैसे 'ट' वर्ग के सभी वर्ण मूर्द्धन्य हैं I २- जो बहुत बड़ा या अच्छा हो, श्रेष्ठ, उदात्त, अध्यारूढ़; जैसे : पं0 महामना मदन मोहन मालवीय मूर्द्धन्य विद्वान थे I ३- मस्तक में स्थित; जैसे : शिव भक्त स्वामी जी का मूर्द्धन्य तिलक उन पर बहुत
28 अप्रैल 2015
11 मई 2015
नज़्म... अटकी हुई है देर से, ज़ेहन के गोशों में कहीं। मुंह लटकाए पड़ी है कब से, खामोखयाली की मटमैली चादर ओढ़े। करेले सा ... कडुआपन हलक को चीरे जाता है जैसे; एक बच्चे ने आइसक्रीम खाते-खाते बहा रखी है कुहनियों तक, थोड़ी सी मैं भी चख लूँ फिर लिखता हूँ। नज़्म अटकी हुई है देर से......!
11 मई 2015
18 मई 2015
आविर्भाव : १- उत्पत्ति २- उद्भव ३- जन्म ४- प्रादुर्भाव ५- उद्गम प्रयोग : पृथ्वी पर सबसे पहले एककोशीय जीवों का आविर्भाव हुआ i
18 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x