सम्मान अमर वाणी-2015

06 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (110 बार पढ़ा जा चुका है)

सम्मान अमर वाणी-2015

मित्रो,


अखिल भारतीय कवि सम्मलेन में सुप्रसिद्ध कवियों की उपस्थिति में अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो अतुल माहेश्वरी अमर वाणी--2015 सम्मान समारोह, विगत 03 मई 2015 को शहर के नवोदित कवियों व काव्यपाठ के रसिक श्रोताओं के मध्य काव्यपाठ की बौछारों के साथ संपन्न हुआ I इसमें सर्वश्रेष्ठ कवियों की श्रेणी में विजेता रहे, ज़हीर कानपुरी तथा मोहम्मद नूरैन खान I इस अवसर पर मशहूर शायर वसीम बरेलवी, शकील जमाल, कवि के डी शर्मा हाहाकारी, गीतकार सोम ठाकुर, विष्णु सक्सेना, कवि यशपाल यश, गीतकार अंसार कंबरी, मदन मोहन समर, डॉo श्लेष गौतम, शकील जमाली, हास्य कवि लटूरी सिंह लट्ठ, रामकिशोर वर्मा और कवियत्री अना देहलवी ने अपनी कविताओं से खूब रंग जमाया I प्रतिभागी कवियों में सर्वश्रेष्ठ दोनों कवियों को 11 -11 हज़ार रूपए तथा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।


मशहूर शायर वसीम बरेलवी की उपस्थिति ने इस अवसर की गरिमा में चार-चाँद लगा दिए। कविता और शायरी की बात करते हुए उन्होने कहा कि...’जिसके अंदर की टूटन और एहसास ने कलम का सहारा ले लिया, वो शायर हो गया। उनका मानना है कि सब्र, आदाब, तहज़ीब, तजुर्बा और खुदा की बंदगी एक शायर के लिए बेहद ज़रूरी हैं।


ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है,


समंदरों ही के लहजे में बात करता है I


खुली छतों के दीये कब के बुझ गए होते,


कोई तो है जो हवाओं के पर कतरता है।


शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं,


किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है।


ज़मीन की कैसी विक़ालत हो फिर नहीं चलती,


जब आसमान से कोई फैसला उतरता है।


तुम आ गए हो तो फिर कुछ चाँदनी सी बातें हों,


ज़मीन पे चाँद कहाँ रोज़-रोज़ उतरता है।


जनाब वसीम बरेलवी साहब मशहूर शायर होने के साथ-साथ रुहेलखंड विश्वविद्यालय में उर्दू विभाग में प्रोफेसर भी हैं I आपकी कुछ प्रमुख कृतियाँ हैं,'आँखों-आँखों रहे', 'मौसम अंदर-बाहर के', 'तबस्सुमें ग़म', 'आंसू मेरे दामन तेरा', 'मिज़ाज' और 'मेरा क्या' I


चित्र : मशहूर शायर वसीम बरेलवी (बांये) व् शब्दनगरी प्रतिनिधि रजत प्रताप सिंह

अगला लेख: आज का शब्द (१३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अप्रैल 2015
मूर्द्धन्य : ​१- वह वर्ण जिसका उच्चारण मूर्द्धा से होता है जैसे 'ट' वर्ग के सभी वर्ण मूर्द्धन्य हैं I २- जो बहुत बड़ा या अच्छा हो, श्रेष्ठ, उदात्त, अध्यारूढ़; जैसे : पं0 महामना मदन मोहन मालवीय मूर्द्धन्य विद्वान थे I ३- मस्तक में स्थित; जैसे : शिव भक्त स्वामी जी का मूर्द्धन्य तिलक उन पर बहुत
28 अप्रैल 2015
18 मई 2015
निर्वाण : १- मोक्ष २- कैवल्य ३- तथागति ४- अमृतत्व ५- परमपद प्रयोग : बुद्ध का जीवन हज़ार धाराओं में होकर बहता है। जन्म से लेकर निर्वाण तक उनके जीवन की प्रधान घटनाएँ अजंता की दीवारों पर कुछ ऐसे लिख दी गई हैं कि आँखें अटक जाती हैं, हटने का नाम नहीं लेतीं।
18 मई 2015
08 मई 2015
उत्कर्ष : १- प्रकर्ष २- प्रकर्षण ३- उत्कर्षण भाव, मूल्य, महत्व आदि की सबसे बढ़ी हुई अवस्था प्रयोग : सेठ करोड़ीमल का व्यापार इन दिनों सफलता के उत्कर्ष पर है I
08 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x