आज का शब्द (20)

08 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (689 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (20)  - शब्द (shabd.in)

उत्कर्ष :

१- प्रकर्ष


२- प्रकर्षण


३- उत्कर्षण


भाव, मूल्य, महत्व आदि की सबसे बढ़ी हुई अवस्था


प्रयोग : सेठ करोड़ीमल का व्यापार इन दिनों सफलता के उत्कर्ष पर है I




अगला लेख: आज का शब्द (१३)



विजय जी अनेक धन्यवाद !

उत्कृष्ट शुरुआत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 मई 2015
नज़्म... अटकी हुई है देर से, ज़ेहन के गोशों में कहीं। मुंह लटकाए पड़ी है कब से, खामोखयाली की मटमैली चादर ओढ़े। करेले सा ... कडुआपन हलक को चीरे जाता है जैसे; एक बच्चे ने आइसक्रीम खाते-खाते बहा रखी है कुहनियों तक, थोड़ी सी मैं भी चख लूँ फिर लिखता हूँ। नज़्म अटकी हुई है देर से......!
11 मई 2015
18 मई 2015
आविर्भाव : १- उत्पत्ति २- उद्भव ३- जन्म ४- प्रादुर्भाव ५- उद्गम प्रयोग : पृथ्वी पर सबसे पहले एककोशीय जीवों का आविर्भाव हुआ i
18 मई 2015
06 मई 2015
मित्रो, अखिल भारतीय कवि सम्मलेन में सुप्रसिद्ध कवियों की उपस्थिति में अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो अतुल माहेश्वरी अमर वाणी--2015 सम्मान समारोह, विगत 03 मई 2015 को शहर के नवोदित कवियों व काव्यपाठ के रसिक श्रोताओं के मध्य काव्यपाठ की बौछारों के साथ संपन्न हुआ I इसमें सर्वश्रेष्ठ कवियों क
06 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x