आज का शब्द (20)

08 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (716 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (20)

उत्कर्ष :

१- प्रकर्ष


२- प्रकर्षण


३- उत्कर्षण


भाव, मूल्य, महत्व आदि की सबसे बढ़ी हुई अवस्था


प्रयोग : सेठ करोड़ीमल का व्यापार इन दिनों सफलता के उत्कर्ष पर है I




अगला लेख: आज का शब्द (१३)



विजय जी अनेक धन्यवाद !

उत्कृष्ट शुरुआत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अप्रैल 2015
कौमुदी : १- चाँदनी २- ज्योत्सना ३- चंद्रप्रभा ४- चन्द्रिका ५- मालती प्रयोग : बर्फ से ढकी, कौमुदी में नहाई घाटी ऐसी चमक रही थी मानो चाँद धरा पर उतर आया हो I
24 अप्रैल 2015
13 मई 2015
वैविध्य : १- विविधता, २- अनेकता, ३- विभिन्नता, ४- अनेकत्व, ५- वैभिन्य प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I
13 मई 2015
18 मई 2015
निर्वाण : १- मोक्ष २- कैवल्य ३- तथागति ४- अमृतत्व ५- परमपद प्रयोग : बुद्ध का जीवन हज़ार धाराओं में होकर बहता है। जन्म से लेकर निर्वाण तक उनके जीवन की प्रधान घटनाएँ अजंता की दीवारों पर कुछ ऐसे लिख दी गई हैं कि आँखें अटक जाती हैं, हटने का नाम नहीं लेतीं।
18 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x