नक्षत्र - एक विश्लेषण

01 अगस्त 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (155 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

पौराणिक ग्रन्थों जैसे रामायण में नक्षत्र विषयक सन्दर्भ :-

वेदांग ज्योतिष के प्रतिनिधि ग्रन्थ दो वेदों से सम्बन्ध रखने वाले उपलब्ध होते हैं | एक याजुष् ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध यजुर्वेद से है | दूसरा आर्च ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध ऋग्वेद से है | इन दोनों ही ग्रन्थों में वैदिककालीन ज्योतिष का समग्र वर्णन उपलब्ध होता है | बाद में यज्ञ भाग के विविध विधानों के साथ साथ दैनिक जीवन में भी ज्योतिष का महत्त्व वैदिक काल में ही जनसामान्य को मान्य हो गया था | परवर्ती ब्राहमण और संहिता काल में तो अनेक विख्यात ज्योतिषाचार्यों का वर्णन तथा रचनाएँ हमें उपलब्ध होती ही हैं | जिनमें पाराशर, गर्ग, वाराहमिहिर, आदिभट्ट, ब्रह्मगुप्त, भास्कराचार्य तथा कमलाकर जैसे ज्योतिर्विदों के नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं | ज्योतिषीय गणना का मूलाधार वाराहमिहिर का सूर्य सिद्धान्त ही है |

परवर्ती साहित्य और इतिहास में यदि हम रामायण और महाभारत जैसे ग्रन्थों का अध्ययन करें तो यह तथ्य स्पष्ट रूप से सामने आता है कि उस काल में भी प्रत्येक आचार्य ज्योतिषाचार्य अवश्य होते थे | इन दोनों ही इतिहास ग्रन्थों में ज्योतिषीय आधार पर फल कथन यत्र तत्र बिखरे पड़े हैं | भगवान् राम की जन्मपत्री बनाकर उनके भविष्य का फलकथन आचार्यों ने किया था | श्री राम का जन्म चैत्र शुक्ल नवमी को पुनर्वसु नक्षत्र और कर्क लग्न में हुआ था | उस समय सूर्य मेष में दशम भाव में, मंगल मकर में सप्तम में, शनि तुला में चतुर्थ में, गुरु कर्क में लग्न में, और शुक्र मीन का होकर नवम भाव में – इस प्रकार ये पाँच ग्रह अपनी अपनी उच्च राशियों में विराजमान थे | लग्न में गुरु के साथ चन्द्रमा भी था...

........ चैत्रे नावमिके तिथौ ||

नक्षत्रेSदितिदैवत्ये सवोच्चसंस्थेषु पञ्चसु |

ग्रहेषु कर्कटे लग्ने वाक्पताविन्दुना सह ||... वा. रा. बालकाण्ड 18/8,9

भरत का जन्म पुष्य नक्षत्र और मीन लग्न में हुआ था | लक्षमण और शत्रुघ्न आश्लेषा नक्षत्र और करके लग्न में पैदा हुए थे | उस समय सूर्य भी अपनी उच्च राशि में विद्यमान थे |

पुण्ये जातस्तु भरतो मीनलग्ने प्रसन्नधी: |

सर्पे जातौ तु सौमित्री कुलीरेSभ्युदिते रवौ ||... वा. रा. बालकाण्ड 18/15

साथ ही यह भी कहा गया है कि ये चारों भाई दोनों भाद्रपद नक्षत्रों के चारों तारों के समान कान्तिमान थे (वा. रा. बालकाण्ड 18/16)

श्री राम व उनके तीनों भाइयों के विवाह का मुहूर्त बताते हुए महर्षि वशिष्ठ कहते हैं...

उत्तरे दिवसे ब्रह्मन् फल्गुनीभ्यां मनीषिण: |

वैवाहिकं प्रशंसन्ति भगो यत्र प्रजापतिः ||... वा रा. बालकाण्ड 72/13

अर्थात, आने वाले दो दिन दोनों फाल्गुनी नक्षत्रों से युक्त हैं | जिनके देवता प्रजापति भग हैं | विद्वानों ने इस नक्षत्र में किया गया वैवाहिक कर्म सबसे अधिक उत्तम माना है |

राम के राज्याभिषेक के लिए राजा दशरथ बहुत चिन्तित थे | क्योंकि ऋषियों ने कुछ इस प्रकार की भविष्यवाणियाँ की थीं जिनके अनुसार राज्याभिषेक में बाधा पड़ सकती थी | इसीलिए दशरथ चाहते थे कि भरत के ननिहाल से आने से पहले ही राम का राज्याभिषेक हो जाए तो अच्छा है (वा. रा. अयोध्याकाण्ड 4/18,25) इसी प्रकार अयोध्याकाण्ड ही 41वें सर्ग में राम के वनगमन के समय उत्पातकालिक ग्रह स्थिति का वर्णन भी देखने योग्य है | श्री राम जब अयोध्या से जा रहे थे उस समय छह ग्रह वक्री होकर एक ही स्थान पर स्थित थे |

त्रिशंकुर्लोहितांगश्च बृहस्पतिबुधावपि |

दारुणा: सोममभ्येत्य ग्रहा: सर्वे व्यवस्थिता: || वा. रा. अयोध्याकाण्ड 41/11

इसी प्रकार युद्धकाण्ड में रावण मरण के समय की ग्रहस्थिति भी दर्शनीय है | राम रावण युद्ध के समय की ग्रहस्थिति का कलात्मक वर्णन देखते ही बनता है | श्री राम रूपी चन्द्रमा को रावण रूपी राहु से ग्रस्त हुआ देखकर बुध से रहा नहीं गया और वह भी चन्द्रप्रिया रोहिणी नामक नक्षत्र पर जा बैठा | यह स्थिति प्रजा के लिए अहितकर थी | सूर्य की किरणें मन्द हो गई थीं | सूर्यदेव अत्यन्त प्रखर कबन्ध के चिह्न से युक्त धूमकेतु नामक उत्पात ग्रह से संसक्त दिखाई दे रहे थे | आकाश में इक्ष्वाकु वंश के नक्षत्र विशाखा पर – जिसके कि देवता इन्द्र और अग्नि हैं – मंगलदेव विराजमान थे (वा. रा. युद्धकाण्ड 102/32-35) यहाँ एक यह बात भी स्पष्ट दिखाई दे रही है कि उस समय किसी भी वंश का मुखिया जिस नक्षत्र में जन्म लेता होगा सम्भवतः वह नक्षत्र समस्त परिवार के लिए पूज्य हो जाता होगा | इसीलिए विशाखा नक्षत्र को इक्ष्वाकु वंश का नक्षत्र बताया गया है | ये सभी इस बात के ज्वलन्त प्रमाण हैं कि उस काल में ज्योतिष शास्त्र को परम प्रमाण माना जाता था |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/08/01/constellation-nakshatras-4/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2018
समस्त बारहवैदिक मासों का आधार नक्षत्र मण्डल ही है | प्रत्येक माह को पूर्ण चन्द्र की रात्रिपूर्णिमा कहलाती है | पूर्णिमा को जो नक्षत्र पड़ता है, वैदिक महीनों का नाम उन्हीं नक्षत्रों के नाम पर होता है | अर्थात प्रत्येक पूर्णिमाका चन्द्र नक्षत्र उस माह के वैदक नाम है | जैसे,
03 अगस्त 2018
18 जुलाई 2018
18 जुलाई, 2018: आपके दिमाग में कुछ नया करने की अपेक्षा से बेहतर क्या हो सकता है? कुछ भी तो नहीं। बिल्कुल कुछ नहीं। यहां तक ​​कि अगर यह काम नहीं करता है, यह अभी भी वही पुराना पुराना है। यह रवैया बहुत आसान काम में आने वाला है, एक आकर्षक नए परिचित व्यक्ति के लिए धन्यवाद जो आपको जागृत करेगा और आपके क्षि
18 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
बुधवार, 25 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:38 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:16 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : मूल 18:20 तक, तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी 20:45 तक, तत्पश्चात आष
24 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
18 जुलाई, 2018: एक निश्चित व्यक्ति जिसे आपने हाल ही में काफी समय बिताया है, वह आवाज बना रहा है जैसे कि वे सिर्फ दोस्तों से ज्यादा होने में रूचि रखते हैं, और आपको यकीन नहीं है कि क्या करना है। आपके रिश्तों का हिस्सा है, लेकिन यहां कुछ दिलचस्प चल रहा है। आप सोच रहे हैं कि वास्तव में कुछ नया हो सकता है
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
17 जुलाई 2018
कोईअस्तित्व न हो शब्दों का, यदि हो न वहाँ मौन का लक्ष्य |कोईअर्थ न हो मौन का,यदि निश्चित नहो वहाँ कोई ध्येय |मौनका लक्ष्य है प्रेम,मौन मौन कालक्ष्य है दया मौनका लक्ष्य है आनन्द,और मौन मौन काहै लक्ष्य संगीत भी |मौन, ऐसा गीत जो कभीगाया नहीं गया,फिरभी मुखरित हो गया |मौन, ऐसा
17 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
23 से 29 जुलाई तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिएसही ही हो – क्योंकि सूर्य एक राशि में एक माह तक रहता है और उस एक माह में लाखोंलोगों का जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल ग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधारितहोते हैं | इस फलकथन अथवा ज्योतिष
22 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
बुधवार, 18 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:34 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या चन्द्र नक्षत्र : उत्तर फाल्गुनी 08:19 तक, तत्पश्चात हस्त तिथि : आषाढ़ शुक्ल षष्ठी 14:36 तक, तत्पश्चात आषा
18 जुलाई 2018
07 अगस्त 2018
प्रश्न यह उत्पन्न होता है कि नक्षत्रों को वैदिक ज्योतिषमें इतना अधिक महत्त्व क्यों दिया गया ? जैसा कि हमने पहले भीबताया, नक्षत्र किसी भी ग्रह की गति तथा स्थिति कोमापने के लिए एक स्केल अथवा मापक यन्त्र का कार्य करते हैं | यही कारण है कि पञ्चांग (Indian Vedic Ephemeris) के पाँच अं
07 अगस्त 2018
18 जुलाई 2018
ज्योतिष से सम्बन्धित अपने लेखों में हम अब तक बहुत से योगों पर चर्चा करचुके हैं | ग्रहों के विषय मेंसंक्षिप्त रूप से चर्चा | हमने पञ्चांग केपाँचों अंगों के विषय में जानने का प्रयास किया | संस्कारों पर – विशेषरूप से जन्म से पूर्व के संस्कार और जन्म के बाद नामकरण संस्कार पर
18 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
कुछ लोगों को संशय होता है कि ज्योतिष कोआयुर्वेद के समान वेद तो नहीं माना जाता ?ज्योतिष वेद है भी नहीं, वेदों का अंग है – वेदांग | ज्योतिष से सम्बन्धित ज्ञान वेदों में निहित है |ऋग्वेद में लगभग 20 मन्त्र ज्योतिष के विषय में उपलब्ध होते हैं,
24 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
18 जुलाई, 2018: ठीक है, ताकि आपका गुस्से अब दूसरों के लिए थोड़ा और स्पष्ट हो। तो क्या? यदि कोई भी अपना गुस्सा दिखाने के लिए हकदार है (नियंत्रित फैशन में, निश्चित रूप से - कोई भौतिक सामान नहीं, जब तक कि यह कुछ फास्टबॉल पर झटका नहीं देता), यह आप हैं। गुस्सा, दावा और आक्रामकता आपका व्यवसाय है! ऐसी दुनि
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x