आइसक्रीम

11 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (259 बार पढ़ा जा चुका है)

आइसक्रीम

नज़्म...
अटकी हुई है
देर से,
ज़ेहन के
गोशों में कहीं।
मुंह लटकाए
पड़ी है कब से,
खामोखयाली की
मटमैली चादर ओढ़े।
करेले सा ...
कडुआपन
हलक को
चीरे जाता है जैसे;
एक बच्चे ने
आइसक्रीम
खाते-खाते
बहा रखी है
कुहनियों तक,
थोड़ी सी
मैं भी चख लूँ
फिर लिखता हूँ।
नज़्म अटकी हुई है
देर से......!


अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



एक बच्चे ने
आइसक्रीम
खाते-खाते
बहा रखी है
कुहनियों तक, बहुत सुन्दर एहसास !

जेहन के गोशों से वाक्य में एक अच्छी नजम निकली है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
14 मई 2015
तरुण : १- युवक २- जवान ३- तलुन ४- मुटियार ५- वयोधा प्रयोग : तरुणों के लिए जैसे भविष्य उज्जवल होता है, वैसे ही वृद्धों के लिए अतीत I
14 मई 2015
06 मई 2015
मित्रो, अखिल भारतीय कवि सम्मलेन में सुप्रसिद्ध कवियों की उपस्थिति में अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो अतुल माहेश्वरी अमर वाणी--2015 सम्मान समारोह, विगत 03 मई 2015 को शहर के नवोदित कवियों व काव्यपाठ के रसिक श्रोताओं के मध्य काव्यपाठ की बौछारों के साथ संपन्न हुआ I इसमें सर्वश्रेष्ठ कवियों क
06 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x