आज का शब्द (२३)

11 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (317 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (२३)

विज्ञ :

१- प्रबुद्ध,


२- कोविद, विद्वत् ,


३- वेत्ता, बुद्ध, भिज्ञ,


४- अभिजात, विज्ञ, अभिज्ञ,


५- सुप्रकेत, युक्तार्थ, विशारद,


प्रयोग : पं० महामना मदनमोहन मालवीय अत्यंत विज्ञ पुरुष थे I

अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



आपकी ये 'आज का शब्द' श्रंखला बहुत सुन्दर है, कृपया इसे जारी रखिएगा...धन्यवाद शब्दनगरी संगठन !

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मई 2015
हिंदी साहित्य के प्रिय रसिको, 20 मई, 1900 को कौसानी, अल्मोड़ा में जन्मे सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उनकी प्रमुख काव्य कृतियाँ हैं - ग्रन्थि, गुंजन, ग्राम्या, युगांत, स्वर्णकिरण, स्वर्णधूलि, कला और बूढ़ा चाँद, लोकायतन, चिदंबरा, सत्यकाम आदि। 'श
06 मई 2015
06 मई 2015
मित्रो, अखिल भारतीय कवि सम्मलेन में सुप्रसिद्ध कवियों की उपस्थिति में अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो अतुल माहेश्वरी अमर वाणी--2015 सम्मान समारोह, विगत 03 मई 2015 को शहर के नवोदित कवियों व काव्यपाठ के रसिक श्रोताओं के मध्य काव्यपाठ की बौछारों के साथ संपन्न हुआ I इसमें सर्वश्रेष्ठ कवियों क
06 मई 2015
29 अप्रैल 2015
सुधी साथियो,'बाघ' देखा है कभी आपने...? ज़रूर देखा होगा; और बहुत मुमकिन है कि कभी 'बाघ' शीर्षक की कविता का भी रस लिया हो ! अगर 'हाँ' तो अवश्य आपने डाo केदारनाथ सिंह की रचना पढ़ी होगी । 'बाघ' आपकी वो कविता है जो मील का पत्थर मानी जाती है । बहमुखी प्रतिभा के साहित्यकार डाo केदारनाथ सिंह सन 1934 में बलिया
29 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x