मैं चोर हूँ काम है चोरी दुनियां में हूँ बदनाम ( भाग-२)

01 अगस्त 2018   |  pradeep   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण भगवान् ने कहा है कि मैं सब में हूँ और सब मुझ में है. तो तुम अकेले ही नहीं सब महान है क्योकि भगवान् तो उन सब में भी है. फर्क सिर्फ सोच में है. सत्य किसी एक की सोच पर निर्भर नहीं हैं. सत्य अटल है , सनातन है. <br>

अगला लेख: बब्बू (भाग-१)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
मे
अपनी बर्बादियों का हमने यूँ जश्न मनाया है, सितमगर को ही खुद का राज़दार बनाया है. गम नहीं है मुझे खुद अपनी बर्बादी का,सितमगर ने मुझको अपना दीवाना बनाया है.दीवानगी का आलम कुछ यूँ है मेरे यारो, उनकी दिलज़ारी पे हमको मज़ा आया है. लोग त
08 अगस्त 2018
17 जुलाई 2018
हि
बुधवार, 18 जुलाई, 2018 को हिंदू कैलेंडर में तिथि - शुक्ल पक्ष सशती तीथी या छठे दिन हिंदू कैलेंडर में चंद्रमा के चरम चरण और अधिकांश क्षेत्रों में पंचांग के दौरान छठे दिन। यह शुक्ल पक्ष सशती तीथी या छठे दिन चंद्रमा के मोम चरण के दौरान 18 जुलाई को शाम 7:28 बजे तक है। इसके बाद जुलाई में 6:12 बजे तक शुक्
17 जुलाई 2018
05 अगस्त 2018
बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक
05 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
दिलकशी उनकी मूड और मॉडलिंग कब तलक यूँ जी को मेरे तड़पायेगी.है हज़ारो दीवाने नुमाइशी के उनके, आशिकी हमारी नज़र उनको क्यों आएगी, खामोश है हम भी देख उनकी बेरुखी, बयां करने से पहले जान यूँही जायेगी. (आलिम)
10 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
पू
पूजा, उपासना जो बिना स्वार्थ के किया जाए, बिना किसी फल की इच्छा से किया जाए, जो सच्चे मन से सिर्फ ईश्वर के लिए किया जाए वो पूजा सात्विक है , सात्विक लोग करते है. जो पूजा किसी फल की प्राप्ति के लिए की जाये, अपने शरीर को कष्ट द
06 अगस्त 2018
18 जुलाई 2018
महाराष्ट्र में एक पहाड़ी मंदिर परिसर के रूप में वास्तुशिल्प विकास के लिए जेजूरी खंडोबा मंदिर बहुत महत्वपूर्ण है। यह मंदिर पुणे के 48 किमी दक्षिण-पूर्व में, फलतान शहर की ओर है। जेजूरी खंडोबा में कदमों की संख्या 200 पत्थर के कदम एक भक्त को एक पहाड़ी के ऊपर स्थित खांडोबा मंदिर में ले जाते हैं। जेजूरी म
18 जुलाई 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x