मैं चोर हूँ काम है चोरी दुनियां में हूँ बदनाम ( भाग-२)

01 अगस्त 2018   |  pradeep   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण भगवान् ने कहा है कि मैं सब में हूँ और सब मुझ में है. तो तुम अकेले ही नहीं सब महान है क्योकि भगवान् तो उन सब में भी है. फर्क सिर्फ सोच में है. सत्य किसी एक की सोच पर निर्भर नहीं हैं. सत्य अटल है , सनातन है. <br>

अगला लेख: बब्बू (भाग-१)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग
08 अगस्त 2018
18 जुलाई 2018
महाराष्ट्र में एक पहाड़ी मंदिर परिसर के रूप में वास्तुशिल्प विकास के लिए जेजूरी खंडोबा मंदिर बहुत महत्वपूर्ण है। यह मंदिर पुणे के 48 किमी दक्षिण-पूर्व में, फलतान शहर की ओर है। जेजूरी खंडोबा में कदमों की संख्या 200 पत्थर के कदम एक भक्त को एक पहाड़ी के ऊपर स्थित खांडोबा मंदिर में ले जाते हैं। जेजूरी म
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
जब किसी चीज की कोई कमी न हो तो इंसान क्या ढूंढता है? किसे ढूंढता है? क्या वो उसे मिलता है? जिसके पास धन-संपत्ति, रूपया-पैसा, लाड-प्यार, दौलत-सोहरत, सुकून-शांति, गाड़ी-घोड़ा, फ्लैट-बंगला और एक सेटल्ड करियर हो, फिर उसे किस चीज की तलाश रहती है?रिसर्च कीजिएगा, मगर फिलहाल अरबप
19 जुलाई 2018
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
दिलकशी उनकी मूड और मॉडलिंग कब तलक यूँ जी को मेरे तड़पायेगी.है हज़ारो दीवाने नुमाइशी के उनके, आशिकी हमारी नज़र उनको क्यों आएगी, खामोश है हम भी देख उनकी बेरुखी, बयां करने से पहले जान यूँही जायेगी. (आलिम)
10 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
जा
फक्र उनको है बता जात अपनी, शर्मिंदा हम है देख औकात उनकी.किया कीजियेगा अपनी इस जात का, मिलेगा तुम्हे भी कफ़न जो मिलेगा बे-जात को. (आलिम)
03 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
कलम के सिपाही की विरासत को यूँ बदनाम ना करो, सिपाही हो कलम के तुम यूँ किसी के प्यादे ना बनो.ये दो लाइने कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद को समर्पित है, और उन पत्रकारों , लेखकों, कवियों और शायरों को उनका धर
12 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x