आज का शब्द (24)

13 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (219 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (24)

वैविध्य :

१- विविधता,


२- अनेकता,


३- विभिन्नता,


४- अनेकत्व,


५- वैभिन्य


प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I




अगला लेख: आज का शब्द (१३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अप्रैल 2015
शब्दनगरी मित्रो, आशा करते हैं कि आपने भी अमर उजाला द्वारा आयोजित रियलिटी शो 'अमरवाणी-2015' हेतु अपनी प्रविष्टि भेजी होगी I आइए श्रेष्ठ कवियों के चयन सम्बन्धी आपको आवश्यक जानकारी दे दें I इस प्रतियोगिता में आज यानि 30 अप्रैल को 24 प्रविष्टियाँ चुनी जाएंगी I 01 मई, 2015 को, दोनों आयु वर्ग में से रियल
30 अप्रैल 2015
11 मई 2015
साथियो, 'आज का शब्द' की भांति आज से हम एक नई श्रंखला शुरू कर रहे हैं, 'सुनी-समझी'। इसमें दो वाक्य होंगे । पहला वाक्य किसी ने अंग्रेज़ी में सुना, तथा दूसरा वाक्य होगा जो उसने हिन्दी में समझा । बस यही है 'सुनी-समझी' । यह आपको तय करना है कि किसी ने कितना सही सुना, और कितना सही समझा । तो, प्रस्तुत है, आ
11 मई 2015
29 अप्रैल 2015
सुधी साथियो,'बाघ' देखा है कभी आपने...? ज़रूर देखा होगा; और बहुत मुमकिन है कि कभी 'बाघ' शीर्षक की कविता का भी रस लिया हो ! अगर 'हाँ' तो अवश्य आपने डाo केदारनाथ सिंह की रचना पढ़ी होगी । 'बाघ' आपकी वो कविता है जो मील का पत्थर मानी जाती है । बहमुखी प्रतिभा के साहित्यकार डाo केदारनाथ सिंह सन 1934 में बलिया
29 अप्रैल 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x