आज का शब्द (24)

13 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (229 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (24)

वैविध्य :

१- विविधता,


२- अनेकता,


३- विभिन्नता,


४- अनेकत्व,


५- वैभिन्य


प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I




अगला लेख: आज का शब्द (१३)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मई 2015
विभव : १- वैभव २- ऐश्वर्य ३- धन-दौलत ४- अर्थ ५- वित्त सोना-चाँदी, ज़मीन-जायदाद आदि संम्पत्ति जिसकी गिनती पैसे के रूप में होती है I प्रयोग: हमारे सत्कर्म हमें किसी न किसी प्रकार के विभव की प्राप्ति कराते हैं I
08 मई 2015
11 मई 2015
साथियो, 'आज का शब्द' की भांति आज से हम एक नई श्रंखला शुरू कर रहे हैं, 'सुनी-समझी'। इसमें दो वाक्य होंगे । पहला वाक्य किसी ने अंग्रेज़ी में सुना, तथा दूसरा वाक्य होगा जो उसने हिन्दी में समझा । बस यही है 'सुनी-समझी' । यह आपको तय करना है कि किसी ने कितना सही सुना, और कितना सही समझा । तो, प्रस्तुत है, आ
11 मई 2015
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x