मोक्ष – अहं का नाश

02 अगस्त 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

मोक्ष – अहं का नाश

मोक्ष / नाश है अहं का...

अहं क्या है ?

मनुष्य के सुखी होने की अनुभूति ?

या फिर दर्द का अहसास ?

किसी का अपना होने की राहत ?

या फिर पराया होने का दर्द ?

लेकिन दुःख में भी तो है कष्ट का आनन्द...

अपनेपन से ही तो उपजता है परायापन

क्योंकि एक ही भाव के दो अनुभाव हैं दोनों

उसी तरह जैसे समुद्र में जल एक ही है...

वायु का शान्त स्नेहिल प्रवाह

उसे बनाए रखता है शान्त और अविचल

जो स्नेह से सहलाता रहता है निरन्तर / अपने वक्ष पर विश्राम करती नौकाओं को...

तेज़ बहे हवा, तो मचल उठती हैं तरंगे

और वही जल हो जाता है तत्पर / डुबा देने को प्रेयसि नौकाओं को...

एक ही जल कभी बन जाता है

श्वेत धवल प्रकाशित, आनन्द...

और कभी बन जाता है

फेन की चादर से आवृत्त तमस में जकड़ा, दुःख...

लेकिन समय आने पर जल भी बन जाता है वाष्प

आकाश में उड़, हो जाता है लीन शून्य में...

एकमात्र परिवर्तन जल का, अहं का

हो जाए, तो नहीं रहता कुछ भी शेष...

रह जाती है केवल मुक्त अनावृत आत्मा

नंगी भूमि की भाँति

जिसे नहीं है आवश्यकता स्वयं पर कुछ लादने की...

और इसी को योगी कहते हैं “मोक्ष”....

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जुलाई 2018
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये,सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर,एकटक टकटकी लगाए,पश्चाताप के ऑंसू भरे,लरजती जुवान कह रही हो कि,तुम लौट कर क्यों नहीं आई,शायद खफा मुझसे,बस, इतनी सी हुई,हीरे को कांच समझता रहा,समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता,हठधर्मिता करता रहा,जानकर भी, नकारता र
23 जुलाई 2018
16 अगस्त 2018
हम हर साल 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाते हैं आपके मन में ये सवाल जरूर आता होगा कि इसी दिन क्यों मनाया जाता है हम आपको बताते हैं 14 सितंबर को ही हिन्दी दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि आज ही के दिन 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया था कि हिन्दी भारत
16 अगस्त 2018
26 जुलाई 2018
रफ़्तार के बारे मेंरफ़्तार दुनिया का पहला हिन्दी वेब सर्च पोर्टल है। आज रफ़्तार एक वेब सर्च पोर्टल से आगे बढ़कर दुनिया के सबसे बड़े हिन्दी कंटेट एग्रीगेटर के रूप में उभर रहा है। रफ़्तार इंटरनेट पर मौजुद हिन्दी कंटेट को विभिन्न श्रेणियों जैसे मनोरंजन, समाचार, ज्योतिष, शब्दकोश आदि के रूप में बांटकर यू
26 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
मातृवत्लालयित्री च, पितृवत् मार्गदर्शिका, नमोऽस्तुगुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या ||वास्तव में ऐसीश्रद्धा और प्रज्ञा से युत होती है गुरु की सत्ता – गुरु की प्रकृति – जो माता केसामान ममत्व का भाव रखती है तो पिता के सामान उचित मार्गदर्शन भी करती है | आज गुरु पूर्णिमा
27 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
बुधवार, 25 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:38 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:16 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : मूल 18:20 तक, तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी 20:45 तक, तत्पश्चात आष
24 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
आईने तो यों ही बदनाम होते हैं,कुछ चेहरे भी, गुमनाम होते हैं बंद पलकों में रखते जिन्हें लोग-चर्चे अक्सर वही आम होते हैं । रिश्ते बहुत नाज़ुक हुआ करते हैं ,चंद सांसों में भी टूट जाते हैं,हम बहुत याद करते हैं जिनको- वही तो अक्सर रूठ जाते हैं ।यह तो कमबख्त हँसी हैं जो,द
25 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
अपने अन्दर जलते हुए अपने अरमान देखे भड़के हुए शोलो की आग से हाथ सेकते हुए इन्सान देखे क्या सोचा था और क्या देखा हमने अपने लोगो को बदलते देखा काफी दिन हुए आईना देखे हुए
23 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
‘शिखर’ –परिचयमूंक हो भाव , वाणी प्रखर चाहिए,हो लहू नम्र ,खौला जिगर चाहिए, कूपतालों से निकलो समुन्दर चलो,जाह्नवी के लिए तो ‘शिखर’ चाहिए I धारनफ़रत की फिर से सिमट जायेगी,आंधियों की डगर फ़िर से छंट जायेगीतुमशिखर सी हरियाली ओढ़ो सही,प्रेम की बेल दिल से लिपट जायेगी ,
25 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
23 से 29 जुलाई तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिएसही ही हो – क्योंकि सूर्य एक राशि में एक माह तक रहता है और उस एक माह में लाखोंलोगों का जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल ग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आधारितहोते हैं | इस फलकथन अथवा ज्योतिष
22 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
"उसको जाने हुए हैं बस कुछ दिन, फिर भी अपना-सा वो लगे मुझको,वैसे बेशक ही वो हकीकत है, जाने सपना-सा क्यों लगे मुझको, उसकी बातों में बात कुछ तो है, उसकी हर बात भा गई मुझको, उसमे मासूमियत है कुछ ऐसी, पल में ही रास आ गई मुझको... "
25 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
14 अगस्त 2018
सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्ताँ हमाराहम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलिस्ताँ हमारा ग़ुरबत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन मेंसमझो वहीं हमें भी, दिल हो जहाँ हमारा परबत वो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमाँ कावो संतरी हमारा, वो पासबाँ हमारा गोदी में खेलती हैं, जिसकी हज़ारों नदियाँगुलशन है जिसके दम से, रश्क-ए-जिनाँ हम
14 अगस्त 2018
23 जुलाई 2018
तेरी याद ने दिवाना बना दिया शमा बनके जो जली हो तुम हमको उमर भर जलने वाला, परवाना बना दिया तेरी याद ने दिवाना बना दिया मुझको तस्वीरें तुम्हारी ,कुछ जो
23 जुलाई 2018
06 अगस्त 2018
शै
हिन्दियों में नफ़रत रहेगी जब तलक मज़हब के नाम की. तख्ते हिन्द पर चलेगी तब तलक हुकूमत शैतान की. (आलिम)
06 अगस्त 2018
18 जुलाई 2018
गुरुवार, 19 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या 19:56 तक, तत्पश्चाततुला चन्द्र नक्षत्र : हस्त 07:52 तक, तत्पश्चात चित्रा तिथि : आषाढ़ शुक्ल सप्तमी 13:3
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
शुक्रवार, 20 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें (10:17 पर सूर्य का पुष्य नक्षत्र में प्रवेश)सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : चित्रा 08:08 तक, तत्पश्चात स्वाति तिथि :
19 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
वो
फिर मन उदास हो गया जो कल तक था अपना वो आज , किसी और के लिए ख़ास हो गया कल तक खिलखिलाती थी गज़ले मेरी उसकी बेबाक शोख़ी में डूबी नज़्मे मेरी कागज़ कि खिड़की से झाकत
24 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
बकौल मोहब्बत वो मुझसे पूछता है दिल के मकान के उस कमरे में क्या?अब भी कोई रहता है। थोड़ा समय लगेगा,ध्यान से सुनना बड़ी शिद्दत से बना था वो कमराकच्चा था पर उतना ही सच्चा था उसे भी मालूम था कि उसकीएक एक ईंट जोड़ने में मेरीएक एक धड़कन निकली थी इकरारनामा तो थापर उस पर उसके दस्तख़त
23 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
ठहरे पानी में पत्थर उछाल दिया है । उसने यह बड़ा कमाल किया है ।वह तपाक से गले मिलता है आजकल । शायद कोई नया पाठ पढ़ रहा है आजकल । आँखों की भाषा भी कमाल है । एक गलती और सब बंटाधार है ।
23 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x