नक्षत्र - एक विश्लेषण

02 अगस्त 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (199 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

महाभारत में नक्षत्र विषयक सन्दर्भ

रामायण के ही समान महाभारत में ज्योतिष विद्या के स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध होते हैं | महाभारत का युद्ध आरम्भ होने से पूर्व ही समस्त ज्योतिषियों, सर्वतोभद्र चक्र के ज्ञाताओं, प्रश्न मर्मज्ञों और मुहूर्तविदों ने उस समय की ग्रह नक्षत्रों आदि की स्थितियों को देखते हुए भविष्यवाणी कर दी थी कि समस्त कौरव कुल तथा सृन्जय वंश के लोगों का बड़ा भारी संहार होने वाला है (उद्योगपर्व 48/98,99) | जिस दिन दोनों पक्ष युद्ध के लिए आगे बढे उस दिन चन्द्रमा मघा नक्षत्र पर था तथा आकाश में सात महाग्रह अग्नि के समान उद्दीप्त दिखाई दे रहे थे | सूर्यदेव भी उदयकाल में दो भागों में विभक्त दिखाई दे रहे थे (महाभारत भीष्मपर्व 17/2,3)

महाभारत के ही उद्योगपर्व में ग्रहों तथा नक्षत्रों के अशुभ योगों का विस्तार से वर्णन किया गया है | श्री कृष्ण जब कर्ण से भेंट करने जाते हैं तो कर्ण कहते हैं “शनि जैसा उग्र ग्रह रोहिणी नक्षत्र को पीड़ित कर रहा है, जो प्रजा के लिए बहुत अशुभ है | ज्येष्ठा नक्षत्र में स्थित मंगल वक्र होकर गोचर में अनुराधा नक्षत्र में संचार करने वाला है | यह स्थिति राजा के मित्रों के लिए अशुभ है | तथा महापात नामक ग्रह चित्रा नक्षत्र को पीड़ित कर रहा है, यह स्थिति स्वयं राजा के लिए शुभ नहीं है:

प्राजापत्यं हि नक्षत्रं ग्रहस्तीक्ष्णो महाद्युति: |

शनैश्चर: पीडयति पीडयन् प्राणिनोSधिकम् ||

कृत्वा चांगारको वक्रं ज्येष्ठायां मधुसूदन |

अनुराधां प्रार्थयते मैत्रं संगमयन्निव || (उद्योगपर्व 143/8-11)

साथ ही आगे और भी लिखा है कि चन्द्र भी अपनी राशि बदल चुका है | साथ ही सूर्य को भी राहु का ग्रहण लगने वाला है | यह सारी की सारी ही ग्रहस्थिति ऐसी है जो किसी अशुभ घटना की ओर संकेत करती है | भीष्मपर्व में भी ऐसी ही अनिष्टकारी ग्रहस्थिति का वर्णन है | भीष्मपर्व के तृतीय अध्याय में व्यास जी कहते हैं कि राहु सूर्य के निकट आ रहा है | केतु चित्रा का अतिक्रमण करके स्वाति पर स्थित हो रहा है (इसका अभिप्राय यही रहा होगा कि राहु केतु उन्हीं अंशों पर थे जिन पर सूर्यदेव थे |) अत्यन्त भयंकर धूमकेतु पुष्य नक्षत्र को आक्रान्त करके वहीं स्थित हो रहा है | जो दोनों सेनाओं का भयंकर अमंगल करेंगे | मंगल वक्र होकर मघा पर, बृहस्पति श्रवण पर तथा सूर्यपुत्र शनि पूर्वा फाल्गुनी को पीड़ित कर रहे हैं | शुक्र पूर्वा भाद्रपद पर प्रकाशित हो रहा है और सब ओर घूम फिर कर परिघ नामक उपग्रह के साथ उत्तर भाद्रपद पर दृष्टि लगाए है | श्वेतकेतु नामक उपग्रह अग्नि के समान प्रज्वलित होकर ज्येष्ठा नक्षत्र पर स्थित है | चित्रा व स्वाति के मध्य में स्थित क्रूर ग्रह राहु सदा वक्री होकर रोहिणी व चन्द्र और सूर्य को पीड़ित कर रहा है तथा अत्यन्त प्रदीप्त होकर ध्रुव के बांयी ओर जा रहा है | यह स्थिति अत्यन्त ही अमंगलसूचक है | (चित्रा व स्वाति के मध्य स्थित होकर राहु सर्वतोभद्र चक्र के वेध के अनुसार कृत्तिका को पीड़ित करेगा) | ऐसे में युद्ध आदि के साथ भयंकर आँधी और तूफ़ान की भी सम्भावना रहती है | मघा में स्थित होकर मंगल बार बार वक्री होकर बृहस्पति से युक्त श्रवण नक्षत्र को देख रहा है | इस सबका प्रभाव रेवती पर भी प्रतिकूल पड़ रहा है (भीष्मपर्व 3/11/19) इसी अध्याय में आगे (श्लोक 27,28) और भी लिखा है कि वर्षपर्यन्त एक ही राशि पर रहने वाले दो प्रकाशमान ग्रह बृहस्पति और शनि तिर्यग्वेध के द्वारा विशाखा के समीप पहुँच गए हैं | प्रायः पक्ष 14 से 16 दिनों के होते हैं, किन्तु इस समय तेरह दिन का ही पक्ष हो रहा है | और एक ही मास में एक ही दिन त्रयोदशी को चन्द्र और सूर्य का ग्रहण हो रहा है | यह स्थिति भयंकर वर्षा व उत्पातों की सूचक है | इसी अध्याय में आगे (श्लोक 31) यह भी बताया गया है कि अश्विनी से लेकर सभी नक्षत्रों को तीन भागों में बाँटने पर जो नौ नौ नक्षत्रों के तीन समुदाय होते हैं वे क्रमशः अश्वपति, गजपति तथा नरपति के छत्र कहलाते हैं | अर्थात अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, मृगशिरा, आर्द्रा, पुनर्वसु, पुष्य और आश्लेषा इन नौ नक्षत्रों का समूह अश्वपति के अन्तर्गत, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, विशाखा, अनुराधा और ज्येष्ठा का वर्ग गजपति के अन्तर्गत, तथा मूल, पूर्वाषाढ़, उत्तराषाढ़, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषज, पूर्वा भाद्रपद, उत्तर भाद्रपद और रेवती नक्षत्रों का समूह नरपति के छत्र के अन्तर्गत आता है | ये सब अथवा इनमें से कोई भी जब पापग्रहों से आक्रान्त होते हैं तो क्षत्रियों के विनाश के सूचक होते हैं और इन्हें नक्षत्र-नक्षत्र कहा जाता है | इन तीनों समुदायों अथवा सम्पूर्ण नक्षत्र-नक्षत्रों में यदि शीर्ष स्थान पर वेध हो तो वह ग्रह महान उत्पातकारक होगा |

अस्तु, हमारे प्राचीन इतिहास ग्रन्थों में ज्योतिष का इतना विशद विवेचन यही इंगित करता है कि उस समय न केवल धर्माचार्य, अपितु जनसाधारण भी ज्योतिष में रूचि और ज्योतिष का ज्ञान रखते थे | और ज्योतिष का प्रयोग केवल मनुष्यों के लिए फलकथन तक ही सीमित नहीं था, वरन युद्ध, वर्षा, आँधी, तूफ़ान अदि के विषय में मनुष्यों को पहले से ही चेतावनी देने के लिए भी ज्योतिष का प्रयोग किया जाता था | और बाढ़ या सूखे आदि से होने वाली तबाही से काफी हद तक बचने का प्रयास किया जाता था और साथ ही शान्ति विधान आदि के लिए उपयोगी पूजा पाठ आदि का विधान भी बताया जाता था | महाभारत के ही अनुशासन पर्व के चौसठवें अध्याय में समस्त नक्षत्रों की सूची दी गई है तथा यह बताया गया है कि किस नक्षत्र में दानादि करने से किस प्रकार का पुण्य प्राप्त होता है | भीष्मपर्व में उत्तरायण और दक्षिणायन में मृत्यु के फल बताए गए हैं | सत्ताईस नक्षत्रों के सत्ताईस देवता तथा उन देवताओं के स्वरूप और स्वभाव के अनुसार उन पर प्रकाश डाला गया है | साथ ही एक तथ्य और भी स्पष्ट हो जाता है कि उस समय ग्रहों के साथ साथ नक्षत्रों का सबसे अधिक महत्त्व था | या यों कहिये कि उस समय ज्योतिष नक्षत्र प्रधान था |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/08/02/constellation-nakshatras-5/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2018
समस्त बारहवैदिक मासों का आधार नक्षत्र मण्डल ही है | प्रत्येक माह को पूर्ण चन्द्र की रात्रिपूर्णिमा कहलाती है | पूर्णिमा को जो नक्षत्र पड़ता है, वैदिक महीनों का नाम उन्हीं नक्षत्रों के नाम पर होता है | अर्थात प्रत्येक पूर्णिमाका चन्द्र नक्षत्र उस माह के वैदक नाम है | जैसे,
03 अगस्त 2018
27 जुलाई 2018
मातृवत्लालयित्री च, पितृवत् मार्गदर्शिका, नमोऽस्तुगुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या ||वास्तव में ऐसीश्रद्धा और प्रज्ञा से युत होती है गुरु की सत्ता – गुरु की प्रकृति – जो माता केसामान ममत्व का भाव रखती है तो पिता के सामान उचित मार्गदर्शन भी करती है | आज गुरु पूर्णिमा
27 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
18 जुलाई, 2018: आप किसी ऐसे व्यक्ति के पीछे हैं जो आपको स्वयं को व्यक्त करने की अनुमति देगा - आपकी सभी भावनाएं, भले ही वे कितने सनकी और अपरंपरागत हों। हालांकि, आप उन्हें बेहतर ढंग से खोज लेंगे, हालांकि, अगर आप सामान्य संदिग्धों के साथ समय बिताने का प्रयास करते हैं, तो यह काम नहीं करेगा। यह बदसूरत भी
19 जुलाई 2018
01 अगस्त 2018
पौराणिक ग्रन्थों जैसे रामायण में नक्षत्र विषयक सन्दर्भ :-वेदांग ज्योतिषके प्रतिनिधि ग्रन्थ दो वेदों से सम्बन्ध रखने वाले उपलब्ध होते हैं | एक याजुष्ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध यजुर्वेद से है | दूसरा आर्च ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध ऋग्वेद सेहै | इन दोनों हीग्रन्थों में वैदिककालीन
01 अगस्त 2018
26 जुलाई 2018
शुक्रवार, 27 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:39 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:15 पर चन्द्र राशि : मकर चन्द्र नक्षत्र : उत्तराषाढ़ 24:32 तक, तत्पश्चात श्रवण तिथि : आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा 25:50 (अर्द्धरा
26 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
कुछ लोगों को संशय होता है कि ज्योतिष कोआयुर्वेद के समान वेद तो नहीं माना जाता ?ज्योतिष वेद है भी नहीं, वेदों का अंग है – वेदांग | ज्योतिष से सम्बन्धित ज्ञान वेदों में निहित है |ऋग्वेद में लगभग 20 मन्त्र ज्योतिष के विषय में उपलब्ध होते हैं,
24 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
18 जुलाई, 2018: इसके बारे में कोई संदेह नहीं है। वह सब जो टैपिंग और विचित्र हो रहा है? इसका सामना करें: आप बेचैन हैं, और आप नहीं जानते कि इसके बारे में क्या करना है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने जो सोचा था उसके बाद आप ऐसा नहीं लग रहे थे कि आप वास्तव में क्या कर रहे हैं। आप थोड़ी देर के लिए खुद क
19 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
गुरुवार, 19 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या 19:56 तक, तत्पश्चाततुला चन्द्र नक्षत्र : हस्त 07:52 तक, तत्पश्चात चित्रा तिथि : आषाढ़ शुक्ल सप्तमी 13:3
18 जुलाई 2018
10 अगस्त 2018
27 नक्षत्रों का हिन्दी महीनों में विभाजन तथाहिन्दी माहों के वैदिक नामपिछले अध्यायमें चर्चा की थी 27 नक्षत्रों की और उनके नामों का उल्लेख किया था | जैसाकि पहले भी लिखा है कि जिस हिन्दी माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को जिस नक्षत्रका उदय होता है उसी के आधार पर उस माह का नाम
10 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
27 नक्षत्रों के वैदिक नाम अब मुहूर्त आदि के लिएप्रमुख रूप से विचारणीय वैदिक ज्योतिष के महत्त्वपूर्ण अंग नक्षत्रों की वार्ता कोआगे बढाते हुए 27 नक्षत्रोंके वैदिक नामों पर प्रकाश डालते हैं | जैसे कि पहले ही बताया है कि किसी भी हिन्दी अथवा वैदिक महीने के नामउस नक्षत्र के ना
08 अगस्त 2018
23 जुलाई 2018
मंगलवार, 24 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:37 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:17 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक 15:28 तक, तत्पश्चात धनु चन्द्र नक्षत्र : ज्येष्ठा 15:28 तक, तत्पश्चात मूल तिथि : आषाढ़ शुक्ल द्वाद
23 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
बुधवार, 25 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:38 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:16 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : मूल 18:20 तक, तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी 20:45 तक, तत्पश्चात आष
24 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
प्रेम और ध्यान मैंने देखा, औरमैं देखती रही / मैंने सुना, और मैं सुनती रही मैंने सोचा, औरमैं सोचती रही / द्वार खोलूँ या ना खोलूँ |प्रेम खटखटातारहा मेरा द्वार / और भ्रमित मैं बनी रही जड़ खोई रही अपनेऊहापोह में |तभी कहा किसीने / सम्भवतः मेरी अन्तरात्मा ने तुम द्वार खो
23 जुलाई 2018
18 जुलाई 2018
गुरुवार, 19 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:19 पर चन्द्र राशि : कन्या 19:56 तक, तत्पश्चाततुला चन्द्र नक्षत्र : हस्त 07:52 तक, तत्पश्चात चित्रा तिथि : आषाढ़ शुक्ल सप्तमी 13:3
18 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
शुक्रवार, 20 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें (10:17 पर सूर्य का पुष्य नक्षत्र में प्रवेश)सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : चित्रा 08:08 तक, तत्पश्चात स्वाति तिथि :
19 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
गुरुवार, 26 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:39 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:15 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : पूर्वाषाढ़ 21:25 तक, तत्पश्चात उत्तराषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल चतुर्दशी 23:16 तक, तत्प
25 जुलाई 2018
21 जुलाई 2018
रविवार, 22 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक चन्द्र नक्षत्र : विशाखा 10:44 तक, तत्पश्चात अनुराधा तिथि : आषाढ़ शुक्ल दशमी 14:47 तक, तत्पश्चात आषाढ़
21 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x