आधी रात को दो ट्रेनें टकराईं और एक हज़ार से ज़्यादा लोग मर गए

02 अगस्त 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (121 बार पढ़ा जा चुका है)

आधी रात को दो ट्रेनें टकराईं और एक हज़ार से ज़्यादा लोग मर गए


1 अगस्त की आधी रात बीत चुकी थी लेकिन सीआरपीएफ का जवान मुकेश कुमार सो नहीं पा रहा था. दिल्ली से चली ब्रह्मपुत्र मेल (4055 डाउन) में उसकी वाली बोगी खचाखच भरी थी. सोने की तो छोड़िए, उसमें पैर रखने तक की जगह नहीं थी. मुकेश को लगा कि ये समय ज़ल्द ही बीत जाएगा और ये अजीब सा स्टेशन गाइसाल भी.

*****

30 किलोमीटर दूर किशनगंज स्टेशन में प्रवेश कर रही अवध-असम एक्सप्रेस (5610 अप) के ड्राईवर आर. रॉय को शायद पता था कि वो एक खतरनाक जगह की ओर बढ़ रहा है. बोडो आतंकवादियों ने अभी कल ही बारपेटा और सारुपेटा के बीच के ट्रैक के कुछ हिस्सों को उड़ा दिया था.

*****

दो ट्रेनों के बीच में केबिन मैन वाई. मरांडी गाइसाल स्टेशन के पश्चिम केबिन में अंधेरे में बैठा था. लाइट गई हुई थी. बारिश पड़ रही थी. इससे पहले कि उसे कुछ पता लगता (या उसके बाद कि जब उसने सिग्नल देना चाहिए था मगर दिया नहीं), अवध-असम एक्सप्रेस और ब्रह्मपुत्र मेल 2 अगस्त, 1999 को पौने दो बजे आपस में टकरा गईं.


विफलताओं को तबाही नहीं कहा जा सकता है!
विफलताओं को तबाही नहीं कहा जा सकता है!

कुमार की बोगी हवा में 50 फीट ऊपर उछल गई. दो अन्य बोगियों पर जाकर गिरी. लेकिन ईश्वर का चमत्कार था कि 50 फीट हवा में उछलकर वापस आने के बावज़ूद उस डिब्बे के ज्यादातर यात्रियों की तरह मुकेश कुमार भी सुरक्षित थे. बाद में बोगी में विस्फोट हुआ और आग लग गई. विस्फोट के चलते यात्रियों के शरीर के हिस्से आस पड़ौस की इमारतों तक छितर गए.

उधर चालक रॉय के पास बचने का कोई मौका नहीं था और मरांडी के पास एक मौका था – भागने का. और वो भाग गया. और सहायक स्टेशन मास्टर आरएन सिंह भी भाग गया.

उन्हें लगा कि त्रासदी के लिए वे लोग जिम्मेदार थे. लेकिन टकराव हुआ कई अन्य और काफी पहले से चल रही खामियों के चलते.

Train Accident - 1
बरामद हुए शवों को पटरियों के किनारे एक कतार में रखा जा रहा था

आपस में बुरी तरह से उलझ गईं तेरह बोगियां भारतीय इतिहास की सबसे बुरी ट्रेन आपदाओं में से एक की साक्षी बनीं. 300 से ज्यादा लोग मारे गए और 600 से ज्यादा लोग घायल हो गए. ये तो सरकारी आंकड़ा था. उस ट्रेन की जनरल बोगियों में क्षमता से कई गुना ज़्यादा लोग थे. मृतकों का आंकड़ा हज़ार के पार बताया जाता है.

यात्रियों में से एक, ओम प्रकाश भगत बेसुध होकर अपनी पत्नी और बच्चे की तलाश में लगा था.

उन्हें यहां होना था, मैं कैसे बच गया?

– उसने पटरी से उतरी हुई तितर बितर हुई बोगियों में से एक में झांकते हुए पूछा.

पटरियों के किनारे बरामद हुए शवों को एक कतार में रखा जा रहा था. इसमें से किसी के शरीर का कोई अंग गायब था, कुछ दो भागों में कट गए थे. उन सब को सिलीगुड़ी के पास ‘नॉर्थ उत्तरी बंगाल मेडिकल कॉलेज’ में स्थिति मुर्दाघर में ले जाया गया जहां से उनके परिवार वाले उन्हें लेने आने वाले थे. लेकिन मृतकों में से कईयों को थोड़ी देर दोपहर की गर्मी में रखे रहने दिया गया. घायलों का इलाज करना और उन्हें बचाना पहली प्राथमिकता थी.

उस वक्त के <a href='/Hashtag/रेl'>रेल</a> मिनिस्टर नितीश कुमार ने इस्तीफ़ा दे दिया था
उस वक्त के रेल मिनिस्टर नितीश कुमार ने इस्तीफ़ा दे दिया था

तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार दिन के 3 बजे पहुंच गए थे लेकिन मलबा साफ़ करने वाली क्रेन आधी रात तक पहुंच पाईं. मलबे को साफ़ करने में तीन दिन लग गए. गाइसाल पहुंचे नीतीश कुमार को उग्र भीड़ का सामना करना पड़ा.

उन्होंने अपने एक घंटे के दौरे में ही बहुत कुछ देख लिया था और दिल्ली लौटने पर उन्होंने कहा कि वो ‘नैतिक जिम्मेदारी’ के आधार पर इस्तीफा दे देंगे. उस वक्त के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, जिन्होंने शुरुआत में नीतीश को मनाने की कोशिश की, बाद में उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया.

तत्कालीन राष्ट्रपति के आर नारायणन ने कहा कि दुर्घटना ने ‘यात्रियों के लिए रेलवे के सुरक्षा उपायों में सुधार की ज़रूरतों’ पर प्रकाश डाला और मैं दुर्घटना में हुई मौतों से दुखी हूं और अंदर तक हिल गया हूं.

मैं अंदर तक हिल गया हूं - के. आर. नारायणन
मैं अंदर तक हिल गया हूं – के. आर. नारायणन

लेकिन महत्वपूर्ण सवाल बना रहा : कौन जिम्मेदार था?

किशनगंज, गाइसाल और पंजिपारा की तुलना में एक बड़ा स्टेशन है. रेलवे अधिकारी वहां ‘पैनल इंटरलॉकिंग सिस्टम’ को अपग्रेड कर रहे थे. यानी यांत्रिक प्रणालियों (जिसमें भारी लीवर ट्रेनों को दिशा देने के लिए खींचे जाते हैं) को इलेक्ट्रिक स्विच द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा था. लेकिन इसमें समय लगता है और इस दौरान ट्रेनों को किसी विशेष ट्रैक पर मोड़ने के लिए लाइनमैन को उस जगह पर जाकर ट्रेक्स को हाथों से लॉक करना पड़ता है.

ये काम आसानी से हो सके इसके लिए किशनगंज को अतिरिक्त कर्मचारी दिए गए थे. अवध-असम एक्सप्रेस छह घंटे देरी से चल रही थी और डेढ़ बजे के आसपास किशनगंज पहुंची. सहायक स्टेशन मास्टर एचएम सिंह को पता था कि यह स्टेशन अप-लाइन से स्टेशन छोड़ेगी.

इसके लिए मैनुअली ट्रेक डाइवर्ट करना था. ये नहीं किया गया. ट्रेन अप लाइन को काटते हुए उस ट्रैक पर चढ़ गई जो विपरीत दिशा से आने वाली ट्रेनों के लिए आरक्षित थी.

एक्सप्रेस ट्रेन अप-लाइन पर आनी थी, जबकि वो डाउन-लाइन पर आ रही थी (सांकेतिक चित्र - fima.lt)
एक्सप्रेस ट्रेन अप-लाइन पर आनी थी, जबकि वो डाउन-लाइन पर आ रही थी (सांकेतिक चित्र – fima.lt)

लगभग उसी समय, एचएम सिंह ने एक और गलती कर डाली. उन्होंने अवध-असम एक्सप्रेस के अगले स्टेशन पंजिपारा को ट्रेन के बारे में ‘नियमित जानकारी’ दी. ये एक ‘स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर’ है. लेकिन जानकारी गलत दी गई. उन्होंने अपनी ‘नियमित जानकारी’ में पंजिपारा को बताया कि एक्सप्रेस ट्रेन अप-लाइन पर आ रही है, जबकि वो डाउन-लाइन पर आ रही थी.

चूंकि ट्रेन नेशनल हाइवे 31 को काटती थी इसलिए बीच में रेलवे क्रॉसिंग पड़ता था. रेलवे क्रॉसिंग में तैनात कर्मचारी ने वही किया जो हर कर्मचारी करता. उसने ट्रेन को गुज़र जाने दिया. इस बात पर गौर नहीं किया कि ट्रेन अप नहीं डाउन-लाइन पर गुज़र रही है.

ड्राईवर रॉय को भी कहीं कुछ असामान्य नहीं लगा. अप और डाउन ट्रेकों के बीच में कुछेक मीटर का ही अंतर होता है. अगर सब कुछ सही होता तो वो बाएं वाले ट्रैक में चल रहा होता, लेकिन वो दाएं ट्रैक में चल रहा था. अगर खिड़की के बाहर झांक कर देख लिया होता कि गलत ट्रैक है तो शायद…

सारे ग्रीन सिग्नल जिनका मुंह उस ट्रेन की तरफ होना चाहिए था, उसके उलटी तरफ को थे, फिर भी रॉय का ध्यान नहीं गया. दरअसल, ये ग्रीन सिग्नल रॉय के लिए नहीं, ब्रह्मपुत्र मेल के ड्राईवर बीसी वर्धन के लिए थे, जो दूसरी तरफ से आ रहा था.

पंजिपारा में, एएसएम आरएन सिंह ने वहीं गलत जानकारी अपने केबिन-मैन को पास कर दी कि अवध-असम एक्सप्रेस अप लाइन पर आ रही है. केबिन-मैन एसपी सिंह ने उसी के अनुसार लीवर में परिवर्तन किए.

लेकिन किसी भी स्टेशन में किसी भी बंदे ने ये गौर नहीं किया कि ट्रेन के गुज़रने के बाद भी सिग्नल हरे हैं, जबकि वो ऑटोमेटिकली लाल हो जाने चाहिए थे.

दोनों ट्रेनों के ड्राईवर अगर एक साथ भी ब्रेक लगा देते, तो भी एक दूसरे से कम-से-कम तीन किलोमीटर की दूरी पर ऐसा करना होता. तभी हादसा होने से बच पाता.
दोनों ट्रेनों के ड्राईवर अगर एक साथ भी ब्रेक लगा देते, तो भी एक दूसरे से कम-से-कम तीन किलोमीटर की दूरी पर ऐसा करना होता. तभी हादसा होने से बच पाता.

ट्रेनों की गति 80 से 100 किलोमीटर प्रति घंटा थी. और इतनी तेज़ गति से चल रही ट्रेन में ब्रेक मारने पर ट्रेन रुकने से पहले डेढ़ किलोमीटर का सफ़र तय करती. यानी टक्कर से बचने के लिए दोनों ड्राइवर्स को कम से तीन किलोमीटर पहले दूसरी ट्रेन दिख जानी चाहिए थी. लेकिन बारिश और घुप्प अंधेरी रात में ऐसा होना मुश्किल था.

अविरूक सेन* कहते हैं –

ये बड़े आश्चर्य की बात थी कि इतने बड़े पैमाने पर हुई मौतों के बावज़ूद गाइसाल के आकाश में कोई गिद्ध नहीं घूम रहा था. आने वालों में केवल राजनेताओं के झुंड थे.

पूर्व गृह मंत्री तस्लिमुद्दीन अपने समर्थकों को लेकर आए थे जो नारे लगा रहे थे –

तस्लिमुद्दीन जिंदाबाद, नीतीश कुमार मुर्दाबाद.

ममता बनर्जी 15 मिनट के लिए आईं और उन्हें अपनी सार्वजनिक बैठकों में मिलने वाली भीड़ की तरह की एक विशालकाय भीड़ मिली. पश्चिम बंगाल में बीजेपी के राज्य उपाध्यक्ष पराश दत्ता ने कहा कि उन्होंने प्रधान मंत्री को एक पत्र फैक्स कर दिया था और कहा था कि त्रासदी तोड़ फोड़ के चलते हुई थी, न कि किसी मानव त्रुटि के चलते. डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ़ इंडिया के नेता में एक बड़े बैनर के नीचे एक मृत बच्चे की भयानक फोटो लगा दी. ताकि बच्चे के घरवाले उसकी पहचान कर सकें.

Gaisal

पहले से ही इतना कैओस फैला हुआ था और फिर ये सब दुखद रूप से कंगाली में आटा गीला वाली स्थिति उत्पन्न कर रहे थे. जैसे ही मलबा हटा लिया गया और परिवार वाले लाशें ले जा चुके वैसे ही गाइसाल की भीड़ भी छंट गई. और ट्रेन सेवाएं बहाल हो गईं. लेकिन एक डर के साए में.


# अंततः –

अनौपचारिक दावे हैं कि 90 सैनिकों सहित 1000 से अधिक लोग गाइसाल ट्रेन हादसे में मारे गए थे. और ऐसा असंभव नहीं लगता. बेशक दुर्घटनाग्रस्त हुए सात जरनल डिब्बों में से हरेक में केवल 72 सीटें थीं लेकिन उनमें से सभी में क्षमता से कहीं ज्यादा लोग थे. इसके अलावा ट्रेनों में कई यात्री बेटिकट यात्रा कर रहे थे जिन्हें आधिकारिक गिनती में शामिल नहीं किया गया था. चूंकि टक्कर भीषण थी और बाद में आग और विस्फोट के चलते भी सही-सही गणना करना असंभव था. ऐसी अटकलें भी लगीं थीं कि टक्कर के बाद का विस्फोट ट्रेन में बैठे सैनिकों के साथ चल रहे विस्फोटकों के चलते हुआ. इंडियन आर्मी इसे मानने से इंकार करती है लेकिन ये विवादास्पद बना रहा.

तस्वीर - भास्कर पॉल | इंडिया टुडे
तस्वीर – भास्कर पॉल, इंडिया टुडे

गाइसाल ने एन-एफ रेलवे डिवीजनल मुख्यालय को भेजी गई प्राथमिक रिपोर्ट में कहा था कि दुर्घटना अवध-असम एक्सप्रेस के अंदर हुए एक शक्तिशाली बम विस्फोट के चलते हुई थी. अवध-असम एक्सप्रेस असम से कई रक्षा कर्मियों को कारगिल ले जा रही थी.

गाइसाल ट्रेन दुर्घटना की जांच करने वाले एक सदस्यीय (जस्टिस जी एन रॉय) आयोग ने 2001 में इस हादसे को ‘मानवीय त्रुटी’ बताया. जस्टिस रॉय ने नॉर्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे के 35 रेलवे अधिकारियों पर ज़िम्मेदारी तय की. जिसमें 17 मुख्य रूप से और आठ सेकेंड्री रूप से जिम्मेदार थे. 10 अधिकारियों को दोषपूर्ण बताया गया जिसमें अवध असम एक्सप्रेस और ब्रह्मपुत्र मेल के चालक और सह-चालक शामिल थे.

जस्टिस रॉय ने बताया कि प्राथमिक ज़िम्मेदारी पंजिपारा के सहायक स्टेशन मास्टर श्री राम नारायण सिंह के ऊपर ठहरती है.

16 महीने चली पूछताछ के दौरान 106 गवाहों की जांच करने वाले श्री रॉय ने खेद व्यक्त किया कि गाइसाल में कार्य कर रहे रेलवे कर्मचारियों ने दुर्घटना के बारे में कटिहार स्थित एन-एफ रेलवे डिवीजनल मुख्यालय को तुरंत सूचित नहीं.
श्री रॉय ने अपनी रिपोर्ट में कहा –

दोनों ट्रेनों के गलत डायवर्ज़न के चलते हुए ये हादसा साफ़ तौर पर एक मानवीय भूल का नतीजा था. केबिनमैन, पॉइंटमेन, सहायक स्टेशन मास्टर्स और स्टेशन मास्टर्स अपने कर्तव्यों में असफल रहे.

उन्होंने कहा कि विफलताओं को तबाही नहीं कहा जा सकता है!


*इस स्टोरी को लिखने में इंडिया टुडे (अंग्रेजी संस्करण) के 16 अगस्त, 1999 के अंक में छपी अविरूक सेन की स्टोरी इनह्यूमन एरर (अमानवीय भूल) की काफी सहायता ली गई है. कई स्थानों पर फैक्ट्स, नाम और कोट्स लिए गए हैं और कई जगहों पर उसी स्टोरी का हिंदी तर्ज़ुमा ले लिया गया है.




https://www.thelallantop.com/tehkhana/02-august-1999-gaisal-train-disaster-head-collision-of-avadh-assam-express-from-new-delhi-and-brahmaputra-mail-from-dibrugarh-killed-1000-plus-passengers/

आधी रात को दो ट्रेनें टकराईं और एक हज़ार से ज़्यादा लोग मर गए

अगला लेख: प्रिया प्रकाश को चैलेंज एक्सेप्ट करना पड़ा भारी, राइड के दौरान घबराते हुए मारी चीखें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2018
ट्रेनों की लेटलतीफी से लोग परेशान रहते है। भारतीय रेल की ये एक बड़ी समस्या है। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भी इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे ट्रेनों को समय पर चलाए नहीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। रेल मंत्री का निर्देश रंग ला रहा है।ट्रेनों के लेट परिचालन क
30 जुलाई 2018
14 अगस्त 2018
इंडियन बैंक ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए 'प्रोबेशनरी ऑफिसर' के पदों पर आवेदन मांगे हैं. जो उम्मीदवार आवेदन करना चाहते हैं वह नीचे दी गई जानकारी पढ़ लें. वैकेंसी से जुड़ी जानकारी नीचे दी गई है. बता दें, इंडियन बैंक मनिपाल स्कूल ऑफ बैंकिंग (IBMSB) चयनित उम्मीदवारों को बैंकिं
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
तस्वीरें इतिहास का आईना होती हैं. इन पर नज़र पड़ते ही यादों का एक ऐसा झरोखा सामने आता है, जो हमें किसी न किसी की यादों में ले ही जाता है. आज़ादी के पहले की भारत की कई तस्वीरें हम सब ने देखी हैं, लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसी तस्वीरों से रू-ब-रू करवाते हैं, जो आपने इससे पहले क
10 अगस्त 2018
19 जुलाई 2018
जब किसी चीज की कोई कमी न हो तो इंसान क्या ढूंढता है? किसे ढूंढता है? क्या वो उसे मिलता है? जिसके पास धन-संपत्ति, रूपया-पैसा, लाड-प्यार, दौलत-सोहरत, सुकून-शांति, गाड़ी-घोड़ा, फ्लैट-बंगला और एक सेटल्ड करियर हो, फिर उसे किस चीज की तलाश रहती है?रिसर्च कीजिएगा, मगर फिलहाल अरबप
19 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
संसद में राहुल गांधी ने लपककर पीएम मोदी को गले लगा लिया. इस दुर्घटना पर मिला जुला रिएक्शन देखने को मिला. किसी ने कहा कि संसद की गरिमा गिर गई. किसी ने कहा संसद की गरिमा में चार चांद लग गए. उस सीन से आहत कुछ लोगों में एक यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी हैं. उन्होंने नेटवर्क 18
24 जुलाई 2018
12 अगस्त 2018
1 सितंबर से ट्रेन का रिजर्व टिकट खरीदने वालों को यात्रा बीमा का प्रीमियम देना होगा। रेलवे ने मुफ्त बीमा की सेवा समाप्त करने का फैसला किया है। हालाँकि, अभी तक यह नहीं पता चला है की यात्री बीमे का प्रीमियम कितना होगा। इससे पहले रेलवे यात
12 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
एजेंसी. मुंबई के एक युवक के पास ना तो किसी अच्छे कॉलेज की डिग्री है और ना ही कोई बढ़िया जॉब, फिर भी उसके लिए बड़े-बड़े घरों से रिश्तों की लाइन लग गय
01 अगस्त 2018
20 जुलाई 2018
अगर आपने गौर किया हो तो हर ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर एक निशान देखा होगा। यह निशान 'x' का है, लेकिन क्या आप जानते है कि यह निशान क्यों होता है और इसका मतलब क्या है? नियमानुसार यह निशान हर ट्रेन की आखरी बोगी पर होना अनिवार्य है।लास्ट बोगी पर बना यह 'X' का निशान पीले रंग और स
20 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
आधा से जादा YouTube Views Mobile Device से आता है.महिला (Female) User 38 % और पुरुष (Male) User 62 % है.इसकी शुरुआत Dating Website के रूप में की गई थी !यह अभी 39 देशों में 76 भाषाओं के साथ उपलब्ध है.औसतन प्रतिदिन Mobile YouTube Views 1,000,000,000Most Viewed YouTube Video Despacito 3 अरब 92 करोड़ 10
02 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
चाहे ट्विटर हो या इंस्‍टाग्राम, इन दिनों आपको सोशल मीडिया पर कार का गेट खोल उसके साथ-साथ नाचते हुए कई लोग दिख जाएंगें. यह हरकत करते सिर्फ आम लोग ही नहीं, बल्कि कई सेलीब्रिटीज भी आपको नजर आ जाएंगे. अगर आप नहीं समझ पा रहे कि आखिर लोग ऐसा क्‍यों कर रहे हैं तो हम बात दें कि दरअसल इस सब के पीछे है किकी
02 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x