आज का पंचांग - 03 अगस्त 2018

03 अगस्त 2018   |  विनय वर्मा   (146 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का पंचांग - 03 अगस्त 2018

🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 03 अगस्त 2018

⛅ दिन - शुक्रवार

⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)

⛅ शक संवत -1940

⛅ अयन - दक्षिणायन

⛅ ऋतु - वर्षा

⛅ मास - श्रावण

⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - आषाढ़

⛅ पक्ष - कृष्ण

⛅ तिथि - षष्ठी सुबह 12:08 तक तत्पश्चात सप्तमी

⛅ नक्षत्र - रेवती दोपहर 02:25 तक तत्पश्चात अश्विनी

⛅ योग - धृति दोपहर 02:05 तक तत्पश्चात शूल

⛅ राहुकाल - सुबह 10:55 से दोपहर 12:32 तक

⛅ सूर्योदय - 05:37

⛅ सूर्यास्त - 18:58

⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में

💥 विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

💥 चतुर्मास के दिनों में ताँबे व काँसे के पात्रों का उपयोग न करके अन्य धातुओं के पात्रों का उपयोग करना चाहिए।(स्कन्द पुराण)

💥 चतुर्मास में पलाश के पत्तों की पत्तल पर भोजन करना पापनाशक है।

🌞 ~ अपना पंचांग ~ 🌞


🌷 श्रावण शनिवार 🌷

🙏🏻 28 जुलाई 2018 शनिवार से भगवान शिव का पवित्र श्रावण (सावन) मास शुरू हो चुका है, जो 26 अगस्त रविवार तक रहेगा (गुजरात एवं महाराष्ट्र के अनुसार अषाढ़ मास चल रहा है वहां 12 अगस्त रविवार से श्रावण (सावन) मास आरंभ होगा)

👉🏻 बहुत लोगों को श्रावण शनिवार का पूरे वर्ष इंतज़ार रहता है।

🌷 स्कन्दपुराण के अनुसार

"श्रावणे मासि देवानां त्रयानां पूजनं शनौ। नृसिंहस्य शनैश्चव्य अञ्जनीनन्दनस्य च।।"

🙏🏻 श्रावण मास में शनिवार के दिन नृसिंह, शनि तथा अंजनीपुत्र हनुमान इन तीनों देवताओं का पूजन करना चाहिए।

🌷 शिवपुराण के अनुसार

अपमृत्युहरे मंदे रुद्राद्रींश्च यजेद्बुधः ॥

तिलहोमेन दानेन तिलान्नेन च भोजयेत् ॥ (शिवपुराण, विध्येश्वर संहिता)

🙏🏻 शनैश्चर अल्पमृत्यु का निवारण करने वाला है, उस दिन बुद्धिमान पुरुष रुद्र आदि की पूजा करे। तिल के होम के , दान से देवताओं को संतुष्ट करके ब्राह्मणों को तिलमिश्रित अन्न भोजन कराएं।

🙏🏻 स्कन्दपुराण के अनुसार श्रावण शनिवार को हनुमान पूजा :

👉🏻 1. “शनिवारे श्रावणे च अभिषेकं समाचरेत, रुद्रमंत्रेण तैलेन हनुमत्प्रीणनाय च। तैलमिश्रितसिन्दूरलेपमं तस्य समर्पयेत” रुद्रमंत्र के द्वारा तेल से हनुमान जी का अभिषेक करना चाहिए। तेल में मिश्रित सिन्दूर का लेप उन्हें समर्पित करना चाहिए।

👉🏻 2. जपाकुसुम, आक, मंदारपुष्प की मालाओं से , नैवेद्य से उनकी पूजा करनी चाहिए।

👉🏻 3. “जपेद्द्वादश नामानि हनुमत्प्रीतये बुधः” हनुमान जी के 12 नामों का जप करना चाहिए।

🌷 "हनुमानञ्जनी सूनुर्वायुपुत्रो महाबल:। रामेष्ट: फाल्गुनसख: पिङ्गाक्षोमितविक्रम:।।

उदधिक्रमणश्चैव सीताशोकविनाशन:। लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।।"

🙏🏻 जो मनुष्य प्रातःकाल उठकर इन बारहनामों को पढ़ता है, उसका अमंगल नहीं होता और उसे सभी सम्पदा सुलभ हो जाती है।

👉🏻 4. हनुमान जी के मंदिर में हनुमत्कवच का पाठ करना चाहिए।

🌷 “श्रावणे मंदवारे तु एवमाराध्य वायुजं। वज्रतुल्यशरीरः स्यादरोगो बलवान्नरः।।

वेगवान्कार्यकरणे बुद्धिवैभवभूषितः। शत्रु: संक्षयमाप्नोति मित्रवृद्धि: प्रजायते।।

वीर्यवान्कीर्तिमांश्चैव प्रसादादंञ्जनीजने।”

🙏🏻 इस प्रकार श्रावण में शनिवार के दिन वायुपुत्र हनुमानजी की आराधना करके मनुष्य वज्रतुल्य शरीर वाला, निरोग और बलवान हो जाता है। अंजनीपुत्र की कृपा से वह कार्य करने में वेगवान, तथा बुद्धि वैभव से युक्त हो जाता है, उसके शत्रु नष्ट हो जाते हैं, मित्रों की वृद्धि होती है और वह वीर्यवान तथा कीर्तिमान हो जाता है।

🙏🏻 स्कन्दपुराण के अनुसार श्रावण शनिवार को शनि पूजा:

शनि की प्रसन्नता के लिए एक लंगड़े ब्राह्मण और उसके अभाव में किसी ब्राह्मण के शरीर में तिल का तेल लगाकर उसे उष्ण जल से स्नान कराना चाहिए और श्रद्धायुक्त होकर खिचड़ी उसे खिलाना चाहिए। तत्पश्चात तेल, लोहा, काला तिल, काला उडद, काला कंबल, प्रदान करना चाहिए। इसके बाद व्रती यह कहे कि मैंने यह सब शनि की प्रसन्नता के लिए किया है, शनिदेव मुझपर प्रसन्न हों। तदनन्तर तिल के तेल से शनि का अभिषेक कराना चाहिए। उनके पूजन मे तिल तथा उड़द के अक्षत प्रशस्त माने गए हैं।

🌷 उसके बाद शनि का ध्यान करें:

शनैश्चरः कृष्णवर्णो मन्दः काश्यपगोत्रजः।

सौराष्ट्रदेशसम्भूतः सूर्यपुत्रो वरप्रदः। दण्डाकृतिर्मण्डले स्यादिन्द्रनीलसमद्युतिः।

बाणबाणासनधरः शूलधृग्गृध्रवाहनः। यमाधिदैवतश्चैव ब्रह्मप्रत्यधिदैवतः।

कस्तूर्यगुरुगन्ध: स्यात्तथा गुग्गुलुधूपकः। कृसरान्नप्रियश्चैव विधिरस्य प्रकीर्तितः।

🙏🏻 पूजा में कृष्ण वस्तु (काली वस्तु) का दान करना चाहिये। ब्राह्मण को काले रंग के दो वस्त्र देने चाहिए और काले बछड़े सहित काली गौ प्रदान करनी चाहिए।

🌷 शनि पूजन में वैदिक मंत्र:

ॐ शन्नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।

शंयोरभिस्र वन्तु न:। ॐ शनैश्चराय नम:।

🙏🏻 भगवान् शिव, शनिदेव के गुरु हैं। शिव ने ही शनि को न्यायाधीश का पद सौंपा था जिसके फलस्वरूप शनि देव मनुष्य/देव/पशु सभी को कर्मों के अनुसार फल देते हैं। इसलिए श्रावण के महीने में जो भी भगवान् शिव के साथ साथ शनि की उपासना करता है उसको शनि के शुभ फल प्राप्त होते हैं। भगवान् शिव के अवतार पिप्पलाद, भैरव तथा रुद्रावतार हनुमान जी की पूजा भी शनि के प्रकोप से रक्षा करती है।

2⃣ श्रावण का द्वितीय शनिवार: 04 अगस्त 2018, सप्तमी तिथि, अश्विनी नक्षत्र 15:00 तक तत्पश्चात भरणी

3⃣ श्रावण का तृतीय शनिवार: 11 अगस्त 2018, अमावस्या, अश्लेषा नक्षत्र

4⃣ श्रावण का चतुर्थ शनिवार: 18 अगस्त 2018, अष्टमी तिथि, विशाखा नक्षत्र 17:22 तक तत्पश्चात अनुराधा

5⃣ श्रावण का पंचम शनिवार: 25 अगस्त 2018, चतुर्दशी तिथि, श्रवण नक्षत्र 09:50 तक तत्पश्चात धनिष्ठा

🌞 ~ अपना पंचांग ~ 🌞

🙏🏻🌷🌻🌹☘🌺🌳🌸🌷🙏🏻

अगला लेख: आज का पंचांग - 02 अगस्त 2018



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 24 जुलाई 2018⛅ दिन - मंगलवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - द्वादशी शाम 06:25 तक तत्पश्चात त्रयोदशी⛅ नक्षत्र - ज्येष्ठा शाम 03:29 तक तत्पश्चात मूल⛅ योग - ब्रह्म सुबह 08:03 तक त
24 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 27 जुलाई 2018*⛅ *दिन - शुक्रवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - वर्षा*⛅ *मास - आषाढ़*⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - पूर्णिमा रात्रि 28 जुलाई 01:50 तक तत्पश्चात प्रतिपदा*⛅ *नक्षत्र
27 जुलाई 2018
30 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 30 जुलाई 2018⛅ दिन - सोमवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - द्वितीया सुबह 06:40 तक तत्पश्चात तृतीया⛅ नक्षत्र - धनिष्ठा सुबह 06:32 तक तत्पश्चात शतभिषा⛅ योग - सौभाग्य दोपहर 01:52
30 जुलाई 2018
30 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 30 जुलाई 2018⛅ दिन - सोमवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - द्वितीया सुबह 06:40 तक तत्पश्चात तृतीया⛅ नक्षत्र - धनिष्ठा सुबह 06:32 तक तत्पश्चात शतभिषा⛅ योग - सौभाग्य दोपहर 01:52
30 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 26 जुलाई 2018⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - चतुर्दशी रात्रि 11:16 तक तत्पश्चात पूर्णिमा⛅ नक्षत्र - पूर्वाषाढा रात्रि 09:36 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा⛅ योग - वैधृति
26 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 19 जुलाई 2018⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - सप्तमी दोपहर 01:35 तक तत्पश्चात अष्टमी⛅ नक्षत्र - हस्त सुबह 07:53 तक तत्पश्चात चित्रा⛅ योग - शिव सुबह 19:40 तक तत्पश
19 जुलाई 2018
10 अगस्त 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 10 अगस्त 2018⛅ दिन - शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - आषाढ़⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - चतुर्दशी रात्रि 07:07 तक तत्पश्चात अमावस्या⛅ नक्षत्र - पुष्य 11 अगस्त रा
10 अगस्त 2018
26 जुलाई 2018
यह गोपनीयता का कथन रफ्तार के सभी वेबसाईट सेवा, एकत्रित किये गये आंकड़ों के उपयोगिता पर लागू होता है।उद्देष्यरफ्तार वस्तुतः एक स्वचालित पोर्टल है जिसके माध्यम से विभिन्न वेब आधारित विषय वस्तु तक पहुंचा जा सकता है। यह अपने नेटवर्क के माध्यम से व्यक्तिगत सेवाएं उपलब्ध कराता है, ऑनलाइन सूचनाएं देता है,
26 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
चन्दन वन का राजा शेर बहुत वृद्ध हो गया | इसी वजह से उसने शिकार के लिए बाहर निकलना भी बंद कर दिया | वह अब और अधिक वन पर शासन नहीं कर सकता था और इसी वजह से वन में बहुत अशांति पैदा हो गयी |शेर ने एक दिन सभी जानवरों को बुलाकर कहा कि तुम जाकर सभी जानवरों में से एक को राजा
26 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
बुधवार, 01 अगस्त2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:42 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:12 पर चन्द्र राशि : मीन चन्द्र नक्षत्र : पूर्वा भाद्रपद 11:25 तक, तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद (पंचक) तिथि : श्रावण कृष्ण चतुर
31 जुलाई 2018
13 अगस्त 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 13 अगस्त 2018⛅ दिन - सोमवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - द्वितीया सुबह 08:36 तक तत्पश्चात तृतीया⛅ नक्षत्र - पूर्वाफाल्गुनी शाम 07:10 तक तत्पश्चात उत्तराफाल्गुनी⛅ योग - शिव र
13 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 11 अगस्त 2018⛅ दिन - शनिवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - आषाढ़⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - अमावस्या दोपहर 03:27 तक तत्पश्चात प्रतिपदा⛅ नक्षत्र - अश्लेशा रात्रि 12:05
11 अगस्त 2018
20 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 20 जुलाई 2018⛅ दिन - शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - अष्टमी दोपहर 01:18 तक तत्पश्चात नवमी⛅ नक्षत्र - चित्रा सुबह 08:10 तक तत्पश्चात स्वाती⛅ योग - सिद्ध सुबह 08:19 तक तत
20 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 20 जुलाई 2018⛅ दिन - शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - आषाढ़⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - अष्टमी दोपहर 01:18 तक तत्पश्चात नवमी⛅ नक्षत्र - चित्रा सुबह 08:10 तक तत्पश्चात स्वाती⛅ योग - सिद्ध सुबह 08:19 तक तत
20 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 02 अगस्त 2018⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - आषाढ़⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - पंचमी सुबह 11:32 तक तत्पश्चात षष्ठी⛅ नक्षत्र - उत्तर भाद्रपद दोपहर 01:13
02 अगस्त 2018
27 जुलाई 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 27 जुलाई 2018*⛅ *दिन - शुक्रवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - वर्षा*⛅ *मास - आषाढ़*⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - पूर्णिमा रात्रि 28 जुलाई 01:50 तक तत्पश्चात प्रतिपदा*⛅ *नक्षत्र
27 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 31 जुलाई 2018⛅ दिन - मंगलवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - वर्षा⛅ मास - श्रावण⛅ गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास - आषाढ़⛅ पक्ष - कृष्ण ⛅ तिथि - तृतीया सुबह 08:43 तक तत्पश्चात चतुर्थी⛅ नक्षत्र - शतभिषा सुबह 09:10 तक तत
31 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x