धर्म ---- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (54 बार पढ़ा जा चुका है)

धर्म ---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में प्राय: तीन विषय चर्चा का केन्द्र बनते हैं :- धर्म , दर्शन , अध्यात्म ! इनमें सबका मूल धर्म ही है | धर्म क्या है ? धर्म का रहस्य क्या है ? इस विषय पर प्राय: चर्चायें होती रहती हैं | सनातन धर्म में प्रत्येक मनुष्य के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें से प्रथम धर्म ही कहा गया है | धर्म की व्याख्या करते हुए लिखा गया गया है :- "यतो ऽभ्युदयनिः श्रेयससिद्धिः स धर्मः !" अर्थात :- धर्म वह अनुशासित जीवन क्रम है, जिसमें लौकिक उन्नति (अविद्या) तथा आध्यात्मिक परमगति (विद्या) दोनों की प्राप्ति होती है | धर्म का अर्थ है धारण करने वाला , जो सबको धारण किये हुए है या जिसे सबको धारण करना चाहिए | यथा :- "धारयते इति धर्म" ! अब विचारणीय यह है कि धारण क्या किया जाय ?? धारण करने योग्य क्या है इसका वर्णन हमारे धर्मग्रंथों में मिलता है | सत्य, अहिंसा, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह, शौच, संतोष, तप, स्वाध्याय, क्षमा आदि | कुछ लोगों का मत हैं कि धर्म के नियमों का पालन करना ही धर्म को धारण करना है | जैसे ईश्वर प्राणिधान, संध्या वंदन, श्रावण माह व्रत, तीर्थ चार धाम, दान, मकर संक्रांति-कुंभ पर्व, पंच यज्ञ, सेवा कार्य, पूजा पाठ, धर्म प्रचार आदि | परंतु मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि उपरवर्णित सभी कार्य व्यर्थ है जब तक मनुष्य सत्य को नहीं अपनाता | सत्य को अपना लेने से अहिंसा, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह, शौचादि सभी स्वत: ही मनुष्य में आ सकते हैं | अत: यह कहा जा सकता है कि सत्य ही धर्म है और धर्म ही सत्य है | जो सत्य से विमुख होकर अन्य धार्मिक कृत्यों को करता है वह समझ लो कि धार्मिक नहीं वरन् अधार्मिक ही है | सत्य क्या है ? सत्य है नारायण :- "सत्यनारायण" , सबसे सुंदर सत्य है शिव इसीलिए कहा गया है :- सत्यम् , शिवम् , सुन्दरम् | जिसने सत्य को अपना लिया वही धार्मिक कहा जा सकता है ! क्योंकि एक सत्य को अपनाने मात्र से शेष सभी सद्गुण मनुष्य में आने लगते हैं |* *आज के बदलते युग में धर्म का अर्थ भी बदल सा गया लगता है | यदि महाराज मनु द्वारा मनु स्मृति में बताये गये धर्म के दस लक्षणों का सन्दर्भ लिया जाय तो यह किसी विरले में ही देखने को मिलता है | आज के धर्म एवं धर्माधिकारियों का वर्णन पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने विस्तृत ढंग से किया है | सत्य का पालन किस तरह किया जा रहा है मानस में बताया गया है :- जो कह झूठ मसखरी नाना ! सोइ ज्ञानी गुनवंत बखाना !! यह सभी पर तो नहीं लागू होता परंतु यह भी सत्य है कि अधिकांश लोग ऐसे ही हो गये हैं कि धर्म की व्याख्या अपने - अपने अनुसार करने लगे हैं | सत्य का पथ बताने वाले सभी हैं परंतु सत्पथ के पथिक बहुत कम ही मिलते हैं | कारण है कि दूसरों को उपदेश देना सरल है परंतु स्वयं पालन करना बहुत है | आज संसार में अनेकों तथाकथित धर्म देखे जा सकते हैं | परंतु ये धर्म नहीं सम्प्रदाय मात्र हैं | धर्म की विवेचना यदि की जाय तो धर्म ही पुरूषार्थ हैं | चरित्र निर्माण में सहायक धर्म, अकुलीन को कुलीन, भीरू को वीर, अपावन को पावन रूप में निरूपित कर उचित-अनुचित कर्त्तव्य का बोध कराता हैं | धर्म ही मनुष्य को धारण करता है किसी को कोई कार्य करना धर्म संगत है,उस स्थान में धर्म शब्द से कर्त्तव्य शास्त्र का अर्थ पाया जाता हैं | अर्थात् धर्म का सार सुनो, सुनो और धारण करों | अपने को अच्छा न लगे वह दूसरो के साथ व्यवहार न करों | परंतु आज जो स्वयं को अच्छा लगे वही मनुष्य करना और सुनना चाहता है |* *इस तरह श्रेय पथ पर चल कर ,श्रेष्ठ चिन्तन का आचरण निर्धारित करने वाला धर्म एक मात्र ऐसा आधार शास्त्र है जिसके द्वारा वैयक्तिक व सामाजिक उत्कृष्टता का उचित मापदंड प्रकट हो कर नियमपूर्ण अनुशासित, संयमपूर्ण जीवन का संतुलन बना रहता हैं |*

अगला लेख: दरिद्रनारायण ---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जुलाई 2018
*इस समस्त सृष्टि में श्रीराम नाम की व्यापकता कण कण में समायी हुई है | राम कौन हैं ??? कोई अयोध्या के राजकुमार श्री राम को भजता है तो कोई निर्गुण निराकार राम को | अयोध्या में श्री राम का अवतरण त्रेतायुग में हुआ था परंतु राम नाम की व्यापकता वेदों में भी दिखाई पड़ती जो कि सृष्टि के आदिकाल से ही हैं |
22 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*सनातन धर्म में प्रभु प्राप्ति के कई साधन बताये गये हैं ! जैसे कि :- जप , तप , पूजा , पाठ , सतसंग आदि | कभी कभी मनुष्य दिग्भ्रमित हो जाता है कि वह प्रभु को प्राप्त करने के लिए कौन सा मार्ग चुने | प्राचीनकाल की कथाओं को पढकर ऐसा लगता है कि सबसे महत्तपूर्ण साधन जप एवं तप ही रहे होंगे | परंतु किसी भी ज
24 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
*मानव जीवन इतना विचित्र है कि इसमें मनुष्य को अनेक अनुभव होते रहते हैं | मनुष्य की मन:स्थिति ऐसी होती है कि वह क्षण भर दु:खी और दूसरे क्षण सुखी हो जाता है | विचित्र बात यह है कि मनुष्य दु:खी हो जाता है तो सारा दोष दूसरों को या फिर परमात्मा को दे देता है और सुखी होने पर सारा श्रेय स्वयं ले लेता है |
26 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
अभी तक तो हमारे देश में नेता हिंदू-मुस्लिम की बात कर और भावनाएं भड़काकर वोट लेने का काम करते थे. लेकिन अब एक पुलिसवाले को भी कहना पड़ गया है कि क्या इस देश में मुस्लिम होना गुनाह है. पुलिसवाले का ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. लेकिन इसके पीछे एक हत्याकांड ह
23 जुलाई 2018
22 जुलाई 2018
*इस संसार में प्राय: लोगों के मुख से दो शब्द सुनने को मिल जाया करते हैं :- १- त्याग , २- तपस्या | त्याग एक अनोखा शब्द है , त्याग में ही जीवन का सार छुपा हुआ है | त्याग करके ही हमारे महापुरुषों ने जीवनपथ को आलोकित किया है | जिसने भी त्याग की भावना को अपनाया उसने ही जीवन में उच्च से उच्च मानदंड स्थापि
22 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*सनातन धर्म में तपस्या का महत्वपूर्ण स्थान रहा है | हमारे ऋषियों - महर्षियों एवं महापुरुषों ने लम्बी एवं कठिन तपस्यायें करके अनेक दुर्लभ सिद्धियां प्राप्त की हैं | तपस्या का नाम सुनकर हिमालय की कन्दराओं का चित्र आँखों के आगे घूम जाती है | क्योंकि ऐसा सुनने में आता है कि ये तपस्यायें घर का त्याग करके
24 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*सनातन धर्म के ग्रंथ सदैव हमारे मार्गदर्शक रहे हैं | इन्हीं ग्रंथों में महाराज मनु द्वारा रचित "मनुस्मृति" में धर्म की विस्तृत व्याख्या करते हुए धर्म के दस लक्षण बताये हैं | यद्यपि ये दसों लक्षण महत्वपूर्ण है परंतु उसमें से एक विशेष लक्षण है क्षमा | क्षमा मांग लेने या क्षमा कर देने से मानव के जीवन क
24 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
*प्राचीनकाल से ही सनातन धर्म के साधु - संतों , ऋषियों - महर्षियों ने समाज के उत्थान के लिए सदैव प्रयास किया है | इस क्रम में कइयों ने तो स्वयं के प्राणों की आहुति भी दे दी | कुछ लोग समझते हैं कि घर छोड़ कर जंगल में रहने वाला ही साधप हो सकता है | किसी संत या साधु की चर्चा आते ही आँखों के आगे एक गेरुव
24 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
*धरती पर पुण्यभूमि भारत में जन्म लेने के बाद मनुष्य ने उत्तरोत्तर - निरन्तर विकास करते हुए एक आदर्श प्रस्तुत किया है | आदिकाल से हमारी संस्कृति हमारे संस्कार ही हमारी पहचान रहे हैं | बालक के जन्म लेके के पहले से लेकर मृत्यु होने के एक वर्ष बाद तक संस्कारों की एक लम्बी श्रृंखला यहाँ रही है | इन्हीं स
26 जुलाई 2018
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018
22 जुलाई 2018
*मनुष्य का स्वभाव है कि जिस काम को वह एक बार कर लेता है उसी काम को वह पुन: करना चाहता है | जो विचार एक बार उसके मन में आ जाता है वही विचार वह अपने मन में बार - बार लाता रहता है | अपने अनुभवों की आवृत्ति से उसे तृप्ति मिलती है | इस प्रकार जब कोई भाव चित्त में ठहर जाता है और मनुष्य द्वारा उसे बार - ब
22 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
जब किसी चीज की कोई कमी न हो तो इंसान क्या ढूंढता है? किसे ढूंढता है? क्या वो उसे मिलता है? जिसके पास धन-संपत्ति, रूपया-पैसा, लाड-प्यार, दौलत-सोहरत, सुकून-शांति, गाड़ी-घोड़ा, फ्लैट-बंगला और एक सेटल्ड करियर हो, फिर उसे किस चीज की तलाश रहती है?रिसर्च कीजिएगा, मगर फिलहाल अरबप
19 जुलाई 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x