ज्योतिष में नक्षत्रों का महत्त्व

03 अगस्त 2018   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (137 बार पढ़ा जा चुका है)

ज्योतिष में नक्षत्रों का महत्त्व


समस्त बारह वैदिक मासों का आधार नक्षत्र मण्डल ही है | प्रत्येक माह को पूर्ण चन्द्र की रात्रि पूर्णिमा कहलाती है | पूर्णिमा को जो नक्षत्र पड़ता है, वैदिक महीनों का नाम उन्हीं नक्षत्रों के नाम पर होता है | अर्थात प्रत्येक पूर्णिमा का चन्द्र नक्षत्र उस माह के वैदक नाम है | जैसे, चित्रा से चैत्र माह, विशाखा से वैशाख इत्यादि | किन्तु किसी भी निष्कर्ष पर पहुँचने से पूर्व पहले हमें नक्षत्रों के विषय में विस्तार से जानना होगा |

तारों के एक समूह को नक्षत्र कहते हैं | वस्तुतः नक्षत्र एक ऐसा मापक यन्त्र यानी स्केल है जिसके द्वारा हम किसी ग्रह की एक राशि से दूसरी राशि तक पहुँचने की अवधि अर्थात यात्रा की लम्बाई नाप सकते हैं | उदाहरण के लिए हम जानना चाहते हैं कि मंगल को अपनी वर्तमान राशि से दूसरी राशि पर पहुँचने में कितना समय लगेगा | इसके लिए आवश्यक है कि हमें मंगल की वर्तमान स्थिति का पता हो कि वर्तमान में वह किस नक्षत्र के किस चरण अर्थात किस भाग पर स्थित है | और वहाँ से जिस राशि पर उसे जाना है वहाँ किस नक्षत्र का कौन सा चरण हो सकता है | इस सबका अध्ययन कर लेने के बाद हम कह सकते हैं कि मंगल ने इतने समय में इतनी दूर की यात्रा की है, इतनी दूर की यात्रा और शेष है, तो पिछली यात्रा की अवधि के आधार पर वह लगभग इतनी अवधि में शेष यात्रा पूर्ण करेगा |

इसे इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि मान लीजिये हम कहीं जा रहे हैं | मार्ग में हम कुछ बोर्ड्स देखते हैं जिन पर उस स्थान का नाम तथा पहले और दूसरे स्थान से उसकी दूरी लिखी होती है | इसके द्वारा हमें पता लग जाता है कि अब तक हम इस स्थान पर पहुँच चुके हैं अथवा इतनी दूरी तय कर चुके हैं और अब हमें अपने गन्तव्य तक पहुँचने के लिए इतनी दूरी और तय करनी है जो हम लगभग इतने समय में पूरी कर सकते हैं | मार्ग में लगे ये बोर्ड्स स्थान विशेष तथा एक स्थान से दूसरे स्थान की दूरी के सूचक होते हैं | नक्षत्र इसी प्रकार के साईनबोर्ड्स हैं जिनके माध्यम से हम एक स्थान से हम किसी ग्रह की एक राशि से दूसरी राशि पर पहुँचने की दूरी और समय का अनुमान लगा सकते हैं | इस प्रकार नक्षत्र किसी ग्रह की एक राशि से दूसरी राशि के लिए यात्रा के दौरान दोनों राशियों के मध्य की दूरी तथा मार्ग के पड़ावों यानी नक्षत्रपदों का ज्ञान कराने वाले मापक यन्त्र यानी स्केल हैं | नक्षत्रों का शाब्दिक अर्थ है “आकाश में तारामण्डल के मध्य चन्द्रमा का मार्ग |

जब हम कहीं यात्रा करते हैं तो मार्ग को लम्बाई को नापने के लिए मील अथवा किलोमीटर का प्रयोग किया जाता है | इसी प्रकार ग्रहों की पूर्व से पश्चिम तक की यात्रा में उनकी परस्पर दूरी तथा गति नापने के लिए नक्षत्रों का भी विभाजन किया गया है | हमारे खगोलशास्त्रियों यानी Astronauts ने समूचे भाचक्र अर्थात Zodiac को 27 बराबर भागों में विभक्त किया है | भाचक्र में राशिचक्र के ये सत्ताईस भाग ही नक्षत्र कहलाते हैं | प्रत्येक नक्षत्र में तारों का एक समूह होता है | नक्षत्र के ये तारे एक साथ मिलकर एक आकृति अथवा Image बनाते हैं जैसे हाथी, सर, सर्प, गाड़ी इत्यादि | खुले और साफ़ आकाश में हम इन आकृतियों को स्पष्ट रूप से देख सकते हैं | इन 27 नक्षत्रों से ग्रहों की स्थिति का पूर्ण ज्ञान प्राप्त हो जाता है | जिस प्रकार अपनी यात्रा के दौरान मार्ग में लगे साईनबोर्ड्स से हमें पता चल जाता है कि हम अमुक समय अमुक स्थान पर पहुँच रहे हैं और यात्रा के आरम्भ से इतने मील या किलोमीटर तक की दूरी तक आ चुके हैं | उसी प्रकार एक ज्योतिषी अथवा खगोल वैज्ञानिक नक्षत्रों की सहायता से आसानी से यह बता सकता है कि अमुक ग्रह अमुक समय इतनी डिग्री पर अमुक नक्षत्र में होगा, या अबसे पूर्व एक विशेष समय पर यह ग्रह इतनी डिग्री में इस नक्षत्र पर था | प्रत्येक नक्षत्र की अवधि 13 डिग्री 20 मिनट की होती है तथा प्रत्येक नक्षत्र चार भागों में विभक्त होता है | ये चारों भाग नक्षत्र के चरण अथवा पद कहलाते हैं | प्रत्येक पद तीन डिग्री बीस मिनट का होता है | अब, क्योंकि प्रत्येक राशि तीस डिग्री की होती है इसलिए हर राशि में सवा दो नक्षत्र आते हैं – अर्था दो नक्षत्र पूरे और तीसरे नक्षत्र का चौथाई भाग यानी एक पद | इस प्रकार चार राशियों में नौ नक्षत्र पूरे आ जाते हैं और इस प्रकार 27 नक्षत्र बारह राशियों में बराबर विभक्त हो जाते हैं |

क्योंकि हर नक्षत्र कुछ तारों का एक समूह होता है इसलिए प्रत्येक नक्षत्र का नाम उस नक्षत्र में सम्मिलित तारकदल में सबसे अधिक प्रकाशित तारे के नाम पर होता है | उदाहरण के लिए चित्रा नक्षत्र में सम्मिलित तारकसमूह में सबसे अधिक प्रकाशित तारा है चित्रा इसलिए इस नक्षत्र का नाम चित्रा रखा गया |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/08/03/constellation-nakshatras-6/

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2018
शनिवार, 28 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:40 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:14 पर चन्द्र राशि : मकर चन्द्र नक्षत्र : श्रवण तिथि : श्रावण कृष्ण प्रतिपदा / सूर्योदय से पूर्व 27:55 (03:55) पर पूर्णचन्
27 जुलाई 2018
24 जुलाई 2018
बुधवार, 25 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:38 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:16 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : मूल 18:20 तक, तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी 20:45 तक, तत्पश्चात आष
24 जुलाई 2018
20 जुलाई 2018
शनिवार, 21 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:36 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : स्वाति 09:06 तक, तत्पश्चात विशाखा तिथि : आषाढ़ शुक्ल नवमी 13:43 तक, तत्पश्चात आषाढ़ शुक्
20 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
शुक्रवार, 20 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:35 पर कर्कमें (10:17 पर सूर्य का पुष्य नक्षत्र में प्रवेश)सूर्यास्त : 19:18 पर चन्द्र राशि : तुला चन्द्र नक्षत्र : चित्रा 08:08 तक, तत्पश्चात स्वाति तिथि :
19 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
मंगलवार, 24 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:37 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:17 पर चन्द्र राशि : वृश्चिक 15:28 तक, तत्पश्चात धनु चन्द्र नक्षत्र : ज्येष्ठा 15:28 तक, तत्पश्चात मूल तिथि : आषाढ़ शुक्ल द्वाद
23 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और सम सामयिक विषय है | वेदांगों के अन्तर्गत ज्योतिषको अन्तिम वेदान्त माना गया है | प्रथम वेदांग है शिक्षा – जिसे वेद की नासिका माना गया है | दूसरा वेदांग है व्याकरण जिसेवेद का मुख माना जाता है | तीसरे वेदांग निरुक्त को वेदों का कान, कल
19 जुलाई 2018
07 अगस्त 2018
प्रश्न यह उत्पन्न होता है कि नक्षत्रों को वैदिक ज्योतिषमें इतना अधिक महत्त्व क्यों दिया गया ? जैसा कि हमने पहले भीबताया, नक्षत्र किसी भी ग्रह की गति तथा स्थिति कोमापने के लिए एक स्केल अथवा मापक यन्त्र का कार्य करते हैं | यही कारण है कि पञ्चांग (Indian Vedic Ephemeris) के पाँच अं
07 अगस्त 2018
27 जुलाई 2018
आज आषाढ़ शुक्लपूर्णिमा को कुछ ही देर बाद भारत के साथ साथ संसार के कई देश एक ऐसी अद्भुत खगोलीयघटना के साक्षी बनने जा रहे हैं जो खगोल वैज्ञानिकों के अनुसार अब काफ़ी वर्षों तकनहीं दीख पड़ेगी | इस भव्य घटना को नासा के खगोल वैज्ञानिकों ने नाम दिया है Super Blue Blood Moon,अर्थात
27 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
शुक्रवार, 27 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:39 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:15 पर चन्द्र राशि : मकर चन्द्र नक्षत्र : उत्तराषाढ़ 24:32 तक, तत्पश्चात श्रवण तिथि : आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा 25:50 (अर्द्धरा
26 जुलाई 2018
27 जुलाई 2018
मातृवत्लालयित्री च, पितृवत् मार्गदर्शिका, नमोऽस्तुगुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या ||वास्तव में ऐसीश्रद्धा और प्रज्ञा से युत होती है गुरु की सत्ता – गुरु की प्रकृति – जो माता केसामान ममत्व का भाव रखती है तो पिता के सामान उचित मार्गदर्शन भी करती है | आज गुरु पूर्णिमा
27 जुलाई 2018
01 अगस्त 2018
पौराणिक ग्रन्थों जैसे रामायण में नक्षत्र विषयक सन्दर्भ :-वेदांग ज्योतिषके प्रतिनिधि ग्रन्थ दो वेदों से सम्बन्ध रखने वाले उपलब्ध होते हैं | एक याजुष्ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध यजुर्वेद से है | दूसरा आर्च ज्योतिष – जिसका सम्बन्ध ऋग्वेद सेहै | इन दोनों हीग्रन्थों में वैदिककालीन
01 अगस्त 2018
24 जुलाई 2018
कुछ लोगों को संशय होता है कि ज्योतिष कोआयुर्वेद के समान वेद तो नहीं माना जाता ?ज्योतिष वेद है भी नहीं, वेदों का अंग है – वेदांग | ज्योतिष से सम्बन्धित ज्ञान वेदों में निहित है |ऋग्वेद में लगभग 20 मन्त्र ज्योतिष के विषय में उपलब्ध होते हैं,
24 जुलाई 2018
25 जुलाई 2018
गुरुवार, 26 जुलाई2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:39 पर कर्कमें सूर्यास्त : 19:15 पर चन्द्र राशि : धनु चन्द्र नक्षत्र : पूर्वाषाढ़ 21:25 तक, तत्पश्चात उत्तराषाढ़ तिथि : आषाढ़ शुक्ल चतुर्दशी 23:16 तक, तत्प
25 जुलाई 2018
19 जुलाई 2018
मेरा अन्तर इतनाविशाल समुद्र से गहरा/ आकाश से ऊँचा / धरती सा विस्तृत जितना चाहे भरलो इसको / रहता है फिर भी रिक्त ही अनगिन भावों काघर है ये मेरा अन्तर कभी बस जाती हैंइसमें आकर अनगिनती आकाँक्षाएँ और आशाएँजिनसे मिलता हैमुझे विश्वास और साहस / आगे बढ़ने का क्योंकि नहीं हैकोई सीम
19 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x