बब्बू (भाग-१)

05 अगस्त 2018   |  pradeep   (63 बार पढ़ा जा चुका है)

बब्बू एक नाम है जो कभी कभी मेरे ज़हन में उभरता है. बब्बू मेरी सबसे बड़ी मौसी का लड़का था जिसकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी, कभी कभी दौरे पड़ते थे तो उसे शायद बाँध दिया जाता था , वैसे ज्यादातर वो खुला रहता था, मुझे बचपन का सिर्फ इतना याद है जब वो कुछ ठीक ठाक होता था तो वो मुझे गोदी में लिए मेरे साथ खेलता था. मुझे गोद में ले लेता तो किसी को नहीं देता . बचपन में मोटा होने से शायद रंग साफ़ यानी कुछ सफ़ेद रहा होगा , और बाल और आँखे भूरी थी इसलिए वो मुझे अमेरिकी समझता था. वो बुआ (माँ) से पूछता था क्या तुम इसे अमेरिका से लाई हो तो बुआ भी हंस कर कह देती हाँ. तो वो गली के सभी लोगो को बताता की ये अमेरिका से आया है. हम लोगो ने घर बदल लिया लेकिन वो फिर भी मेरे साथ खेलने आता रहता था फिर ना जाने कब उसका आना जाना कम हो गया और हमने फिर से घर बदला और बहुत दूर चले गए. आखिरी बार उसे देखा तब मैं 13 या 14 साल का हो चूका था इसलिए अच्छी तरह याद है. उसके छोटे भाई यानी मेरे मौसेरे भाई की शादी थी और हम मौसी के घर कई दिन पहले ही रहने चले गए थे. उसे मिलने मैं उसके कमरे में गया जहां उसे बाँध कर रखा हुआ था, क्योकि उसकी दिमागी हालत ज्यादा ही खराब रहने लगी थी. मुझे देख बहुत खुश हुआ . उस दिन वो शायद कुछ ठीक था, ठीक से बात कर रहा था और समझ रहा था. मुझे अपने बंधे हाथ दिखा कर रोता हुआ बोला देख मुझे बाँध के रखा है. मैं वही खड़े खड़े उसकी बाते सुनता रहा. वो मुझे अपना दुःख समझा रहा था. उसके छोटे भाई की शादी थी और एक भाई जो मंझला था उसकी शादी हो चुकी थी. उसे दुःख था कि घर वालो ने उसके दोनों छोटे भाइयों की शादी कर दी लेकिन उसकी शादी नहीं की. अपने माँ-बाप को गालियां दे रहा था और कभी रोता और कभी हँसता. अपने मंझले भाई की बीवी यांनी भाभी को वो लक्ष्मी बाई कहता, उसके लिए शायद लक्ष्मी बाई कोई महान व्यक्तित्व नहीं था बल्कि एक लड़ाकू औरत का चरित्र था जो हर वक्त लड़ती थी. मैंने उसे तसल्ली दी कहा कि मैं मौसी से बात करूंगा तेरी शादी की, तो वो बहुत खुश हुआ. मैं उसके कमरे से वापिस आ गया और फिर उसके बाद उससे कोई मुलाकात नहीं हुई . कुछ साल बाद उसके मरने की खबर ज़रूर मिली. (आलिम)

अगला लेख: कर्म और त्याग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2018
अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब
11 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x