"मिलन मुक्तक"

06 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (51 बार पढ़ा जा चुका है)

५-८-१८ मित्र दिवस के अनुपम अवसर पर आप सभी मित्रों को इस मुक्तक के माध्यम से स्नेहल मिलन व दिली बधाई



"मिलन मुक्तक"


भोर आज की अधिक निराली ढूँढ़ मित्र को ले आई।

सुबह आँख जब खुली पवाली रैन चित्र वापस पाई।

देख रहे थे स्वप्न अनोखा मेरा साथी आया है-

ले भागा जो अधर कव्वाली मैना कोयलिया गाई।।


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "हाइकु"सावन शोर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2018
“पिरामिड”रे हवा बदरी आसमान साँझ विहान पावस रुझान घटता तापमान॥-१ रीबाढ़ निगोरी भीगी ओरीरूप अघोरीपागल बदरी गिरा गई बखरी॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
01 अगस्त 2018
30 जुलाई 2018
वज़्न- २२१ १२२२ २२१ १२२२ काफ़िया- अ रदीफ़ आओगे “गज़ल” आकाश उठाकर तुम जब वापस आओगेअनुमान लगा लो रुक फिर से पछताओगेहर जगह नहीं मिलती मदिरालय की महफिल ख़्वाहिश के जनाजे को तकते रह जाओगे॥ पदचाप नहीं सुनता अंबर हर सितारों का जो टूट गए नभ से उन परत खिलाओगे॥इक बात सभी कहते हद में रह
30 जुलाई 2018
31 जुलाई 2018
“देशज गीत” जिनगी में आइके दुलार कइले बाटगज़ब राग गाइके सुमार कइले बाटनीक लागे हमरा के अजबे ई छाँव बा कस बगिया खिलाइ के बहार कइले बाट॥......जिनगी में आइके दुलार कइले बाटफुलाइल विरान वन चम्पा चमेलीकान-फूंसी करतानी सखिया सहेलीमनवा डेरात मोरा पतझड़ पहारूरात-दिन सावन जस फुहार कइ
31 जुलाई 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x