लघुकथा मेरे बचपन के प्रिय मित्रसुबह का राम राम और सझौंती के सलाम

06 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (39 बार पढ़ा जा चुका है)



यहाँ कुशल वहाँ जगमाहीं मेरा पत्र मिला की नाहीं। जवाबी पत्र का इंतजार करते-करते आँखें पथरा गई, पोस्ट ऑफिस का डाकियाँ भी बदल गया लगता है। पुछनेपर नाराज हो जाता है, कहता है कि खुद लिखकर लाऊँ क्या? रोज-रोज आकर दरवाजे पर खड़े रहते हो, पत्र आया क्या? पत्र आया क्या?। यहाँ मनीआर्डर देने में पोस्टमास्टर साहब जानबूझकर देरी जरूर करते हैं पर पत्र तो फौरन बाहर निकाल देते हैं, जानते हो क्यों? क्योंकि बैरन पत्र का पैसा वसूलना होता है। जाओ और चैन से सो जाओ। लिखने वाला तुम्हारा हमदर्द जैसे ही जगेगा, पत्र मिल जाएगा।


दूसरी बात भी कान खोलकर सुन लो, गाँव की जिंदगी और शहर की जिंदगी में माटी का फर्क होता है, पानी का फर्क होता है, रहन-सहन और भावनाओं का फर्क होता है। यहाँ अन्न देवता का वास है तो वहाँ लक्ष्मी मैया की महरबानी, मान लो कि उसपर कृपा बरसने लगी है। बचपन, जवानी और बुढ़ापे में भी बहुत फर्क होता है। उम्र और ओहदे की शिनाख्त पर मित्र और रिश्ते भी बदल जाते हैं। अब न करना इंतजार किसी के पत्र का मेरे भोले मानुस। डाकियाँ बाबू ने जो कहाँ क्या वह सही है, विनती करता हूँ, एक लाइन लिखकर इतना जरूर बता देना राम-राम।तुम्हारा


लंगोटिया मीत


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दुर्मिल सवैया"हिलती डुलती चलती नवका ठहरे विच में डरि जा जियरा।



रेणु
06 अगस्त 2018

आपको एक दिन फोन try किया था पर आपका नंबर बंद आया

रेणु
06 अगस्त 2018

वाह भइया-- ये रहस्यमय पाती बहुत ही मर्मस्पर्शी है | लंगोटिया मीत ही इतने मनुहार से ये अनुनय लिख सकता है | सस्नेह शुभकामनाये आपको

हार्दिक धन्यवाद बहन , सदैव खुश रहो नंबर तो वहीँ है और चालु भी है दूसरा नंबर भी है 8160875783

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2018
“पिरामिड”रे हवा बदरी आसमान साँझ विहान पावस रुझान घटता तापमान॥-१ रीबाढ़ निगोरी भीगी ओरीरूप अघोरीपागल बदरी गिरा गई बखरी॥-२ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
01 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
“कुंडलिया” आगे सरका जा रहा समय बहुत ही तेज। पीछे-पीछे भागते होकर हम निस्तेज॥ होकर हम निस्तेज कहाँ थे कहाँ पधारे। मुड़कर देखा गाँव आ गए शहर किनारे॥ कह गौतम कविराय चलो मत भागे-भागेकरो वक्त का मान न जाओ उससे आगे॥महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
16 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
"हाइकु"सावन शोरसाजन चित चोरनाचत मोर।।-१कंत न भूलासावन प्रिय झूलाजी प्रतिकूला।।-२सासु जेठानीससुर अभिमानीसावन पानी।।-३क्यों री सखियासावन की बगिया परदेशिया?।।-४बूँद भिगाएभर सावन आएपी बिछलाए।।-५महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
08 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x