लघुकथा मेरे बचपन के प्रिय मित्रसुबह का राम राम और सझौंती के सलाम

06 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (66 बार पढ़ा जा चुका है)



यहाँ कुशल वहाँ जगमाहीं मेरा पत्र मिला की नाहीं। जवाबी पत्र का इंतजार करते-करते आँखें पथरा गई, पोस्ट ऑफिस का डाकियाँ भी बदल गया लगता है। पुछनेपर नाराज हो जाता है, कहता है कि खुद लिखकर लाऊँ क्या? रोज-रोज आकर दरवाजे पर खड़े रहते हो, पत्र आया क्या? पत्र आया क्या?। यहाँ मनीआर्डर देने में पोस्टमास्टर साहब जानबूझकर देरी जरूर करते हैं पर पत्र तो फौरन बाहर निकाल देते हैं, जानते हो क्यों? क्योंकि बैरन पत्र का पैसा वसूलना होता है। जाओ और चैन से सो जाओ। लिखने वाला तुम्हारा हमदर्द जैसे ही जगेगा, पत्र मिल जाएगा।


दूसरी बात भी कान खोलकर सुन लो, गाँव की जिंदगी और शहर की जिंदगी में माटी का फर्क होता है, पानी का फर्क होता है, रहन-सहन और भावनाओं का फर्क होता है। यहाँ अन्न देवता का वास है तो वहाँ लक्ष्मी मैया की महरबानी, मान लो कि उसपर कृपा बरसने लगी है। बचपन, जवानी और बुढ़ापे में भी बहुत फर्क होता है। उम्र और ओहदे की शिनाख्त पर मित्र और रिश्ते भी बदल जाते हैं। अब न करना इंतजार किसी के पत्र का मेरे भोले मानुस। डाकियाँ बाबू ने जो कहाँ क्या वह सही है, विनती करता हूँ, एक लाइन लिखकर इतना जरूर बता देना राम-राम।तुम्हारा


लंगोटिया मीत


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दुर्मिल सवैया"हिलती डुलती चलती नवका ठहरे विच में डरि जा जियरा।



रेणु
06 अगस्त 2018

आपको एक दिन फोन try किया था पर आपका नंबर बंद आया

रेणु
06 अगस्त 2018

वाह भइया-- ये रहस्यमय पाती बहुत ही मर्मस्पर्शी है | लंगोटिया मीत ही इतने मनुहार से ये अनुनय लिख सकता है | सस्नेह शुभकामनाये आपको

हार्दिक धन्यवाद बहन , सदैव खुश रहो नंबर तो वहीँ है और चालु भी है दूसरा नंबर भी है 8160875783

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2018
"छंद रोला मुक्तक”पहली-पहली रात निकट बैठे जब साजन।घूँघट था अंजान नैन का कोरा आँजन।वाणी बहकी जाय होठ बेचैन हो गए-मिली पास को आस पलंग बिराजे राजन।।-१खूब हुई बरसात छमा छम बूँदा बाँदीछलक गए तालाब लहर बिछा गई चाँदी। सावन झूला मोर झुलाने आए सैंया-
30 जुलाई 2018
26 जुलाई 2018
“मुक्तक” बदला हुआ मौसम बहक बरसात हो जाए। उड़ता हुआ बादल ठहर कुछ बात हो जाए। क्यों जा रहे चंदा गगन पर किस लिए बोलो- कर दो खबर सबको पहर दिन रात हो जाए॥-१ अच्छी नहीं दूरी डगर यदि प्रात हो जाए। नैना लगाए बिन गर मुलाक़ात हो जाए। ले हवा चिलमन उडी कुछ तो शरम करो-सूखी जमी बौंछार
26 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
छंद- दुर्मिल सवैया (वर्णिक ) शिल्प - आठ सगण सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२"दुर्मिल सवैया"हिलती डुलती चलती नवका ठहरे विच में डरि जा जियरा।भरि के असवार खुले रसरी पतवार रखे जल का भँवरा ।।अरमान लिए सिमटी गठरी जब शोर मचा हंवुका उभरा।ततक
23 जुलाई 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x