एक ख़त हर ‘मर्द’ के लिए, जिसने राह चलते, बस में, मेट्रो में, ऑटो में मर्ज़ी के बग़ैर मुझे छुआ

06 अगस्त 2018   |  रवि मेहता   (281 बार पढ़ा जा चुका है)

एक ख़त हर ‘मर्द’ के लिए, जिसने राह चलते, बस में, मेट्रो में, ऑटो में मर्ज़ी के बग़ैर मुझे छुआ - शब्द (shabd.in)

कुछ दिनों पहले की बात है... यही कोई 7:30 बजे मैं दफ़्तर से निकली. मेट्रो लेट चल रही थी तो घर पहुंचते-पहुंचते 9:15 बज गए. बरसात के कारण स्ट्रीट पर लगी लाइटें भी ख़राब थी. मैं घर से तकरीबन 1 मिनट की ही दूरी पर थी कि एक बाइक की आवाज़ पीछे से सुनाई दी.

मैंने अपना लैपटॉप बैग पीठ पर टांग रखा था, दोनों हाथों में फल-सब्ज़ी के थैले और छाता था. वो शख़्स दबे पांव मेरे पास आया और मेरी दाईं ब्रेस्ट तेज़ी से दबाकर चला गया. मैं दर्द और गुस्से से चीख उठी पर वो स्पीड बढ़ा चुका था. गली में घूमने वाले कुत्ते भौंके भी, पर वो जा चुका था.

Source- Idn Times

मैं घर पहुंची और अपने आंसू रोक नहीं पाई. मैं ज़ोर से रोने लगी, वॉशरूम जाकर देखा उस शख़्स के स्पर्श के चिन्ह मौजूद थे.

दोस्तों ने ढांढस बंधाया. सवाल बना रहा कि आख़िर क्यों? क्यों होता है ऐसा? क्या ये मेरी ग़लती है कि मेरे पास ब्रेस्ट है? या ये मेरी ग़लती है कि सड़क पर लाइट नहीं जलती. या मेरी ग़लती है कि मैं ऐसे देश में रहती हूं जहां कोई भी कभी भी मुझे या किसी और को कुछ भी कर के जा सकता है?

मेरे बस में होता तो मैं उस आदमी को ढूंढ कर शायद मार डालती... पर मैं ऐसा नहीं कर सकती, लिख ज़रूर सकती हूं. सो वही कर रही हूं. ये ख़त है उस हर पुरुष/लड़के के नाम जिसने मुझे मेरी मर्ज़ी के बग़ैर छुआ और मुझे तोड़ने की कोशिश की.

आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है तुम सब अपनी-अपनी ज़िन्दगी में आगे बढ़ रहे होगे और रात-दिन किसी न किसी महिला या बच्चे को ग़लत तरीके से छू भी रहे होंगे. कहीं भी, कभी भी, जब भी मौका मिले या मौका बनाकर उनके आगे या पीछे हाथ मारते होंगे.

रोज़ सुबह जब तुम काम के लिए(या बिना काम के भी)घर से निकलते होगे, तो तुम्हें ये पता भी नहीं होता होगा कि तुम कब, कहां और किसको छूने वाले हो. है न?

Source- Daily Mail 24

बस में या मेट्रो में मेरी या किसी अन्य लड़की की ब्रा के हुक को महसूस करके तुम्हें कौन सा दैहिक सुख मिलता है? जहां तक मुझे पता है किसी भी पुरुष में Orgasm की ताकत इतनी तो नहीं होती कि वो ब्रा की हुक को महसूस करके चरम सुख प्राप्त करे?

मैं समझना चाहती हूं. जानना चाहती हूं कि आख़िर वो कौन सी शक्ति है, जो तुम्हें दूसरों को उनकी मर्ज़ी के बग़ैर छूने के लिए मजबूर करती है.

पता है एक बार क्या हुआ था. मैं घर से निकली थी, कुछ लाने. यही कोई 8 बजे होंगे. मैं घर से निकलकर 10 कदम दूर ही पहुंची थी कि पीछे से एक ई-रिक्शा पर कुछ 15-16 साल के बच्चे शोर करते आए. मेरे पास ई-रिक्शा स्लो हुई, एक बच्चा मुझ पर कूदा और उसने मेरी गर्द पर काट लिया. सर्दियों का मौसम था, यानी कपड़े ढेर सारे पहने थे, सिर्फ़ चेहरा, हाथ और गर्दन दिख रही थी. उस बच्चे के काटने के निशान4-5 दिनों तक गले पर थे. मैं स्टॉल बांधकर दफ़्तर जाती थी.

क्या तुम्हें उस दर्द का अंदाज़ा भी है, जो मेरे दिल, दिमाग़ और मन पर लगा था? उस 15 साल के बच्चे के होंठ और दांत का स्पर्श मैं आज भी नहीं भूल पाई हूं. कई रातों त मैं डर के नींद से जाग भी जाती हूं.

Source- The Hindu

तुम तो आते-जाते स्तन दबाकर, मसलकर, नोचकर चले जाते हो, पर क्या तुम्हें अंदाज़ा भी है कि कपड़ों की 2-3 परतों के बाद भी तुम्हारे स्पर्श के चिह्न रह जाते हैं? क्या तुम्हें इस बात की भनक भी है कि वो निशान जिसके शरीर पर रहते हैं, उसकी दुनिया बदल जाती है?

जैसे ही एक निशान मिटता है, दूसरा निशान लग जाता है और ऐसे ही चोटों से उसकी आत्मा दबने लगती है.

तुम्हारे लिंग को कोई दबाकर, काटकर, नोचकर चला जाए तो तुम उस व्यक्ति का क्या करोगे? लड़ना तो दूर, तुम उठ भी नहीं पाओगे.

मैं ये नहीं कहूंगी कि अपने घर में मां-बहन का ख़्याल करो, क्योंकि मैं तुमसे ये उम्मीद नहीं रखती हूं कि तुम उस क़ाबिल भी हो. बस जाते-जाते ये कह जाऊंगी कि तुम्हारी ओछी हरकतें मुझे नहीं रोक सकती. मैं जो भी हूं अपने दम पर हूं. अगर तुम ये सोचते हो कि तुम मेरे शरीर को छूकर, चोट पहुंचकर मेरी हिम्मत तोड़ दोगे, तो भूल जाओ. मैं और मेरे जैसी कई लड़कियां तुम्हारे गंदे स्पर्श के अनुभव के बाद भी हंसना और अपना काम करना जानती हैं.

तुम्हारा चेहरा कभी न देखने की आशा करते हुए

संचिता

एक ख़त हर ‘मर्द’ के लिए, जिसने राह चलते, बस में, मेट्रो में, ऑटो में मर्ज़ी के बग़ैर मुझे छुआ

https://hindi.scoopwhoop.com/Open-letter-to-the-men-who-felt-me-up-at-various-places/?ref=latest&utm_source=home_latest&utm_medium=desktop

अगला लेख: चाणक्य के अनुसार ऐसा व्यक्ति ज़िंदगी भर दर दर की ठोकरें खाता है



अनुराग पाण्डेय
12 दिसम्बर 2018

कुंठित समाज को आईना दिखता हुआ लेख,जो एक महिलाओं के लज्जा का लाभ उठाते है उनकोको गाल पर जोरदार चाटा मारता हुआ हुआ

अनुराग पाण्डेय
12 दिसम्बर 2018

कुंठित समाज को आईना दिखता हुआ लेख,जो एक महिलाओं के लज्जा का लाभ उठाते है उनकोको गाल पर जोरदार चाटा मारता हुआ

अलोक सिन्हा
08 अगस्त 2018

यह आपका लेख केवल अच्छा ही नहीं एक सशक्त लेख है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जुलाई 2018
'तूने मेरे जाना, कभी नहीं जाना. इश्क़ मेरा, दर्द मेरा'... ये गाना याद तो होगा? इस गाने के साथ ये कहानी भी मशहूर हुई थी कि इस गाने को लिखने वाले रोहन राठौड़ को कैंसर था.हालांकि इसमें कोई सच्चाई नहीं थी. इस बेहतरीन गाने को गजेंद्र वर्मा ने गाया था.गजेंद्र वर्मा का ही एक और
31 जुलाई 2018
23 जुलाई 2018
बाबा का खुलासा तब हुआ जब पुलिस को उसके एक मुखबिर ने अश्लील वीडियोज की एक सीडी सौंपी. हालांकि, ऐसा नहीं है कि इससे पहले किसी ने बाबा के आश्रम में चल रहे इस पापलोक का सच दुनिया को बताने की कोशिश नहीं की थी. हरियाणा के टोहना इलाके में 'धर्म की
23 जुलाई 2018
02 अगस्त 2018
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद अब अलगाववादियों पर कार्रवाई तेज हो गई है। जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता यासिन मलिक को गुरुवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। यासिन मलिक ने कश्मीर घाटी में बंद का आह्वान किया था।बता दें अलगाववादि नेता सैय
02 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
गंदा पानी स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है जो पीलिया और दस्त का कारण बन सकता है. ‘ये लोग‘ अपने हाथ भी नहीं धोते हैं. आप आईटीओ जाते हैं और फलों के रस बेचने वाले लोगों को देखते हैं. वे बर्फ को उन फुटपाथों पर रखते हैं जिन पर लोगों ने पेशाब किया होता है. बर्फ बनाने के लिए इस्तेमाल
03 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
बिहार के वैशाली जिले में 'पकड़उवा विवाह' का एक और मामला प्रकाश में आया है. यहां रेलवे में कार्यरत इंजीनियर युवक को अगवा कर एक युवती से शादी करा दी गई. बाद में हालांकि युवक की मां ने स्थानीय थाने में इस मामले की प्राथमिकी दर्ज करा दी.पुलिस के अनुसार, समस्तीपुर रेल मंडल में
13 अगस्त 2018
22 जुलाई 2018
हम सबकी ज़िंदगी में एक न एक शख़्स ऐसा होता ही है, जिसे कैमरे के पीछे रहने का शौक होता है और वो सबकी तस्वीरें भले खींच ले, लेकिन खुद तस्वीरों में कम ही नज़र आता है. इसके अलावा वर्तमान में टेक्नोलॉजी के बेहतर होने के साथ ही फ़ोटो खींचना भी बेहद आम और आसान हो चुका है. घूमते
22 जुलाई 2018
28 जुलाई 2018
विशाखापट्टनम से चली थी, यूपी में बस्ती तक पहुंचना था.भारतीय रेलवे की जय हो. इतनी अद्भुत कहानी सामने आई है कि जय हो कहने के सिवाए कुछ और मुख से निकलता नहीं है. कुछ दिन पहले जापान रेलवे की खबर सुनी थी कि ट्रेन एक मिनट लेट हुई और तमाम रेलवे अधिकारियों ने सामूहिक माफीनामा जार
28 जुलाई 2018
10 अगस्त 2018
11 मार्च 1942. फागुन का मौसम था. शाम के 8 बज रहे थे. दूसरे विश्वयुद्ध का दौर था. इंडिया में इससे जुड़ी हर खबर आतंकित करती थी और रोमांचित भी. लोग रेडियो सुना करते थे. बीबीसी लंदन से प्रसारित खबरें. कहां क्या हुआ. क्या किया हिटलर ने, क्या किया अंग्रेजों ने.रेडियो प्रसारक ने
10 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x