कर्म और त्याग

08 अगस्त 2018   |  pradeep   (115 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग बिना मतलब समझे अपनी सुविधा के अनुसार इनका मतलब निकालते है. कर्म एक प्राकृतिक क्रिया है, जिसके बिना जीवन संभव ही नहीं है. त्याग कर्मो का करना संभव नहीं है, जो सन्यास के नाम पर कर्मो का त्याग करते है वो निश्चय ही पाखंडी है. क्या कोई सन्यासी खाना, पीना ,सांस लेना छोड़ता है? हाँ ऐसे सन्यासी होते है लेकिन उस अवस्था को समाधी कहा जाता है जब कोई खाना, पीना छोड़ कर सांस पर नियंत्रण कर रोक ले और पूर्ण समाधी लेले. क्या आज सन्यास का नाम लेकर अपनी सुविधा के अनुसार जीवन का आनंद नहीं ले रहे?गीता में भगवान कृष्ण ने कर्मो के त्याग को गलत बताते हुए कर्म के फल की इच्छा के त्याग का ज्ञान दिया है. अपने परिवार को छोड़ संन्यास ले लेना केवल कायरता है, अपने कर्मो से भागना है, अपने कर्तव्य या धर्म से भागना है. मैं उन्हे कैसे महान मान लू जो स्वयं भागा हुआ हैं? क्या कृष्ण ने अर्जुन से कहा था कि तू संन्यास ले ले? क्या भगवान् कृष्ण ने उसे ये नहीं कहा था कि यदि तू यह युद्ध क्षेत्र छोड़ कर गया तो लोग तुझे महान नहीं कायर कहेंगे, तेरा अपमान करेंगे. किन्तु आज तथाकथित हिन्दू उन्हें महान बनाने में लगे जो स्वयं अपने कर्मो से अपने कर्तव्यों से भागा हुआ है. समाज सेवा एक ढोंग है, अपने कर्त्वयों से भाग जीवन के आनंद लेने का एक सरल साधन है. देश सेवा से पहले है माँ-बाप, परिवार की सेवा, जो उनकी सेवा ना कर देश की सेवा करे उसे सिर्फ ढोंग ही कहेंगे. देश बदला जा सकता है , परिवार नहीं. अर्जुन का युद्ध राज्य और अपने परिवार का सम्मान पाने के लिए था, फिर भी कृष्ण ने ही नहीं स्वयं धृतराष्ट्र ने इसे धर्म युद्ध बताया. पहले परिवार बनता है फिर परिवारों से समाज और देश बनता है. देश से समाज और परिवार नहीं है, बल्कि परिवार से समाज और समाज से देश है. गीता कोई उपन्यास नहीं कि पढ़ा और फिर सबको गर्व से बताया कि मैंने गीता पढ़ी है, गीता एक ज्ञान का समुन्द्र है जितने गोते लगाओगे उतना ही ज्ञान पाओगे. कर्म का त्याग ना कर उसके फल की इच्छा का त्याग, जिसमे स्वार्थ होता है के त्याग को कृष्ण ने सच्चा त्याग बताया है. (आलिम)

अगला लेख: सच्चा-झूठा.



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2018
दि
ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा
09 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
अर्जुन का महाभारत के युद्ध के समय, युद्ध ना करने का निर्णय अर्जुन का अहंकार था. ज्यादातर लोग उसके इस निर्णय का कारण मोह मानते है, परन्तु भगवान् कृष्ण इसे उसका अहंकार मानते है. जिस युद्ध का निर्णय लिया जा चूका है, उस युद्ध को अब
11 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
भूत जिसे आकाश निगल गया है और भविष्य के बीज अभी आकाश में है, ना तो भूत साथ है और ना ही भविष्य, साथ है तो सिर्फ वर्तमान. भूत और भविष्य पर गर्व वो करते है जिनके पास वर्तमान में गर्व करने को कुछ होता नहीं है. हम क्या थे या हम
04 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
जा
फक्र उनको है बता जात अपनी, शर्मिंदा हम है देख औकात उनकी.किया कीजियेगा अपनी इस जात का, मिलेगा तुम्हे भी कफ़न जो मिलेगा बे-जात को. (आलिम)
03 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
दि
दिगपाल, मेरे बचपन का साथी था, दोस्त था या यूँ कहे कि वो मेरा मुण्डू(बेबी सिटर) था. दरअसल दिगपाल हमारी मौसी का नौकर था, उसकी उम्र कितनी थी मैं नहीं जानता पर शायद 12 या 14 साल का रहा होगा. पहाड़ी था या नेपाली ये भी मुझे नहीं पता
11 अगस्त 2018
04 अगस्त 2018
समय का बोध सिर्फ उनको होता है जिनका जन्म होता है. जिसका जन्म हुआ हो उसकी मृत्यु भी निश्चित है और जन्म और मृत्यु के बीच जो है वो ही समय है. जन्म ना हो तो मृत्यु भी ना हो और समय भी ना हो. समय सिर्फ शरीर धारियों के लिए है , आत्मा के लिए नहीं. आत्मा
04 अगस्त 2018
01 अगस्त 2018
मै
ना तो धर्म तुमसे है, ना ही देश और जात तुमसे हैं. सिर्फ किसी देश में या किसी धर्म या जात में जन्म लेने में तुम्हारा अपना क्या योगदान है? तुम्हारी क्या महानता है? मेरे देश में महान लोगों ने जन्म लिया कहने भर से तुम महान नहीं हो जाते. स्वयं श्री कृष्ण
01 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
दि
कहते है कि जब दिल और दिमाग के बीच किसी मुद्दे को लेकर जंग चल रही हो तो दिल की बात सुननी चाहिए ना कि दिमाग की. ऐसी ही सोच लोगो को भक्ति की तरफ ले जाती है जहाँ लोग दिमाग से काम लेना बंद कर देते है. भक्ति योग और कर्म योग दोनों ही रास्ते मुक्ति की
09 अगस्त 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x